January 16, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

अयोध्या: अवध यूनिवर्सिटी में खुलेगा कोरियन संस्कृति अध्ययन केंद्र

कोरिया गणराज्य के दूतावास मंत्री जोंग हो चोई ने कहा कि शीघ्र ही यहां कोरियन संस्कृति अध्ययन केंद्र की स्थापना की जाएगी। उन्होंने कहा, ‘कोरिया और अयोध्या के रिश्ते काफी प्राचीन हैं। कोरिया की राजकुमारी हों अयोध्या से थी। अयोध्या में उनके नाम पर एक विशाल पार्क बनाया जा रहा है, जो भारत एवं कोरिया के रिश्तों को मजबूत कर रहा है।’

 

images(132)

 

अयोध्या | डॉक्टर राममनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी के 45वें स्थापना दिवस पर मंगलवार को विवेकानंद सभागार में विश्वविद्यालय एवं संबद्ध महाविद्यालयों के उत्कृष्ट कार्य करने वाले शिक्षक, कर्मचारी, छात्र एवं पुरातन छात्र को सम्मानित किया गया। समारोह के मुख्य अतिथि कोरिया गणराज्य के दूतावास मंत्री जोंग हो चोई एवं विशिष्ट अतिथि कोरिया संस्कृति केंद्र के वरिष्ठ सलाहकार एच.एच. किंम रहे।

 

 

समारोह में मुख्य अतिथि कोरिया गणराज्य के दूतावास मंत्री जोंग हो चोई ने कहा कि शीघ्र ही यहां कोरियन संस्कृति अध्ययन केंद्र की स्थापना की जाएगी। उन्होंने कहा, ‘कोरिया और अयोध्या के रिश्ते काफी प्राचीन हैं। कोरिया की राजकुमारी हों अयोध्या से थी। अयोध्या में उनके नाम पर एक विशाल पार्क बनाया जा रहा है, जो भारत एवं कोरिया के रिश्तों को मजबूत कर रहा है।’ विशिष्ट अतिथि कोरिया संस्कृति केन्द्र के वरिष्ठ सलाहकार एचएच किंम ने कहा कि भारत के साथ कोरिया के संबंध काफी पुराने हैं। भारत की युवा पीढ़ी काफी ऊर्जावान है। भारत की प्रतिभा विश्वभर में चमक रही है।

 

 

समारोह में मुख्य अतिथि एवं कुलपति द्वारा उत्कृष्ट कार्य करने वाले शिक्षकों में विश्वविद्यालय के भौतिकी एवं इलेक्ट्रॉनिक्स विभाग के प्रफेसर एस. एन. शुक्ल, एमबीए विभाग के विभागाध्यक्ष प्रफेसर आर. एन. राय, सूक्ष्मजीव विज्ञान विभाग के प्रफेसर राजीव गौड़, वाणिज्य संकायाध्यक्ष प्रफेसर अशोक शुक्ल, गणित एवं सांख्यिकी विभाग के प्रफेसर संत शरण मिश्र, सरस्वती देवी नारी ज्ञानस्थली, गोंडा की नीलम जीत कौर, साकेत पी. जी. कॉलेज के अनुराग मिश्र, पर्यावरण विज्ञान विभाग के डॉक्टर प्रकाश चन्द्र तिवारी एवं संत तुलसीदास पी.जी. कॉलेज, सुल्तानपुर के डॉक्टर समीर कुमार पांडेय को प्रशस्ति देकर सम्मानित किया गया।

 

 

वीसी प्रफेसर मनोज दीक्षित ने इस अवसर पर कहा कि विश्वविद्यालय 45 वर्ष का हो गया। इस बीच विश्वविद्यालय ने समाज को क्या दिया इसकी समीक्षा अवश्य करनी होगी। समारोह में विश्वविद्यालय की स्थापना से लेकर आज तक की उपलब्धि पर जनसंचार एवं पत्रकारिता विभाग द्वारा डॉक्युमेंट्री दिखाई गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.