August 9, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

अयोध्या: बहुचर्चित सुप्रिया हत्याकांड में न्यायसंगत कार्यवाही न होने का आरोप,  सरदार सेना ने विरोध प्रदर्शन कर सौंपा ज्ञापन 

बहुचर्चित सुप्रिया हत्याकांड में न्यायसंगत कार्यवाही न होने का आरोप,  सरदार सेना ने विरोध प्रदर्शन कर सौंपा ज्ञापन 

 

अयोध्या 16 जुलाई |सुप्रिया हत्याकांड मामले पर न्याय को लेकर आज सरदार सैनिकों ने आईजी रेंज एवं कमिश्नर अयोध्या कार्यालय पर निम्न मांगो के साथ किया जोरदार प्रदर्शन, 3 सूत्री मांगों के साथ राज्यपाल को नामित ज्ञापन सौंपा।बताते चलें कि अयोध्या के श्रीरामपुरम कॉलोनी निवासी महिला शिक्षिका सुप्रिया वर्मा की हत्या व उनके घर में लूट का मामला बीते 01 जून को हुआ,आलमारी में रखे कई लाख रूपये एवं लाखों के गहने लूट लिए गये। इस घटना की जानकारी जब पुलिस को दी गयी तो पुलिस ने 31 दिन बाद एक नाबालिक युवक को हिरासत में लिया। सरदार सेना का आरोप है कि इसके आगे पुलिस की कार्यवाई न्यायसंगत नही हुयी।

 

 

पुलिस ने निम्नवत आरोप लगाकर मामले को रफा-दफा करने की कोशिश किया है।

 

1)पुलिस के अनुसार आरोपी नाबालिक है जिसकी उम्र लगभग साढे 16 साल मात्र है।

2)पुलिस के अनुसार लगभग 3 साल से ज्यादा उस नाबालिक हत्यारे से सुप्रिया वर्मा का सम्बन्ध रहा है जबकि पुलिस के पास कोई कॉल डिटेल नहीं है। अत: पुलिस द्वारा मरणोपरान्त सुप्रिया वर्मा पर चरित्रहिनता का आरोप लगाया जा रहा है जो सर्वथा गलत है।

3)मरणोपरान्त सुप्रिया वर्मा की पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार लगभग 5 महिने का गर्भ थी, जोकि पुलिस ने अपने रिपोर्ट में शामिल न कर तथ्य को छिपाने की कोशिश की है।

 

सरदार सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा आर एस पटेल सहित सैकड़ो कार्यकर्ताओं ने आईजीजोन/ कमिश्नर से मुलाकात करने के बाद पीड़िता के पिता श्री सुरेश वर्मा जी के घर जाकर उनसे मुलाकात किया एवं हर संभव सहयोग का वादा किया।

सरदार सेना का मानना है कि हत्या आरोपी भाजपा के पदाधिकारी का बेटा है साथ ही सीएम का स्वजातीय है इसलिए पुलिस द्वारा जानबुझकर आरोपी को बचाने की कोशिश की जा रही है। इसलिए सरदार सेना उत्तर प्रदेश इकाई के दर्जनों जनपदों से आए सैकड़ों सरदार सैनिकों ने आईजी एवं मंडल आयुक्त अयोध्या के सामने प्रदर्शन कर मरणोपरांत सुप्रिया वर्मा पर लगे चरित्र हीनता के खिलाफ जमकर सवाल उठाया एवं न्यायिक जांच कराने की मांग किया।

वाराणसी चंदौली मिर्जापुर इलाहाबाद बांदा फतेहपुर कानपुर प्रतापगढ़ जौनपुर आजमगढ़ बस्ती गोंडा सुल्तानपुर अंबेडकर नगर अयोध्या बाराबंकी समेत दर्जनों जनपदों की प्रमुख पदाधिकारी मौजूद रहे।

 

सुप्रिया वर्मा हत्याकांड में बसपा ने की सीबीआई जांच की मांग

बहुजन समाज पार्टी का एक प्रतिनिधि मण्डल शनिवार को डीएम से मिला। प्रतिनिधि मण्डल ने राज्यपाल को सम्बोधित एक ज्ञापन डीएम को सौंपा। ज्ञापन में कहा गया कि शिक्षिक सुप्रिया वर्मा की निर्मम हत्या कर दी गई थी। इस प्रकरण की जांच अयोध्या कोतवाली के प्रभारी कोतवाल कर रहे हैं। जांच निष्पक्ष नही हो रही है। बसपा प्रतिनिधि मण्डल ने मांग की कि सुप्रिया वर्मा हत्या काण्ड की जांच सीबीआई से करायी जाए। डीएम को ज्ञापन सौंपने वाले बसपा प्रतिनिधि मण्डल में मण्डल प्रभारी पवन कुमार गौतम,मण्डल प्रभारी अयोध्या राम सागर वर्मा,प्रदीप भारती, सांसद/ उप नेता राम शिरोमणि वर्मा, दिलीप कुमार विमल व अन्य बसपा नेता शामिल रहे।

जानिए पूरा मामला :

कोतवाली अयोध्या के श्रीराम पुरम कॉलोनी में 2 जून को दिनदहाड़े घर में घुसकर किसी ने शिक्षिका सुप्रिया की हत्या की थी. शिक्षिका के परिवार वाले घटना के समय घर पर मौजूद नहीं थे, वो किसी काम से बाहर गए थे. घर लौटने पर उन्होंने सुप्रिया को खून से लथपथ पाया. आनन-फानन उन्हें मेडिकल कॉलेज दर्शन नगर पहुंचाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

अयोध्या पुलिस ने 2 जून को हुए शिक्षिका हत्याकांड का खुलासा रविवार को कर दिया. 5 माह की गर्भवती शिक्षिका सुप्रिया वर्मा की हत्या नाबालिग प्रेमी ने की थी. पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर उसके पास से लूटे गए सामान बरामद किए हैं. आरोपी ने मामले से ध्यान भटकाने के लिए इसे लूट का शक्ल दिया था. डीआईजी एके सिंह व एसएसपी शैलेश पांडेय ने संयुक्त प्रेस वार्ता में मामले का खुलासा करते हुए कहा कि नाबालिग प्रेमी ने शिक्षिका सुप्रिया वर्मा की हत्या किया था. नाबालिग ने शिक्षिका की हत्या प्रेम प्रसंग को तोड़ने के लिए किया था. पुलिस के मुताबिक शिक्षिका संबंध बनाए रखने के लिए नाबालिग प्रेमी पर दबाव डाल रही थी. नाबालिग प्रेमी बदनामी के डर से बचने के लिए इस जघन्य हत्या को अंजाम दिया.

पुलिस के मुताबिक शिक्षिका के पति और माता के बाजार जाने के बाद वह घर में घुसकर नुकीली दार राड से शिक्षिका की हत्या किया था. नाबालिग ने हत्या से ध्यान भटकाने के लिए इसे लूट का शक्ल दिया था. हत्या के बाद नाबालिग आरोपी ने अलमारी का ताला तोड़कर 50 हजार नकदी, व अन्य सामान की चोरी की थी. पुलिस ने आरोपी नाबालिग के पास से सारा सामान बरामद कर लिया है.

लेकिन मृतका के पिता का कहना है कि पुलिस की जांच भी सही है, गिरफ्तार आरोपित भी सही है और बरामदगी भी लेकिन अवैध संबधों का उल्लेख गलत किया गया है। उन्होंने यह भी सवाल उठाया कि जांच में आए एडीजी फॉरेंसिक ने भी कहा था यह अकेले व्यक्ति का काम नहीं है तब एक की गिरफ्तारी गले से नहीं उतर रही है। पिता ने मांग की है कि जो भी आरोप पुत्री के चरित्र को लेकर लगाए गए हैं उनकी निष्पक्षता से जांच की जाए, ताकि पूरा सच सामने आ सके।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.