June 25, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

आखिर में भारत बंदी क्यू;


सबसे पहले मैं आपको बता दूं कि फायदे तो कुछ नहीं बस नुकसान ही नुकसान है।।

और किस तरह का नुक़सान है पढ़ें,
कभी दलित समाज की बंदी तो कभी सवर्णों की बंदी तो कभी राजनीति में बंदी ! भारत बंद का ऐलान करने वाले यह सोचते है कभी आखिर कब तक यह खेल चलेगा। क्या आपको मालूम है एक दिन भारत बंद होने से जो नुकसान होता है आर्थिक वो बहुत बड़े स्तर पर होता है । उसका भरपाई कौन करेगा हम देख रहे हैं जनवरी में भीमा कोरेगांव हिंसा के बाद केवल महाराष्ट्र को ढाई सौ करोड़ का नुकसान हुआ बीते अप्रैल में दलितों द्वारा भारत बंद किया गया उस बंद में 13000 करोड़ का नुकसान हुआ फिर किसान मोर्चा के तहत महाराष्ट्र को भारी ट्रैफिक झेलना पड़ा उसके बाद महाराष्ट्र में मराठा आंदोलन के तहत बंद किया गया उसमें करीब लाखों का नुकसान हुआ जो केवल महाराष्ट्र भर में ही था।

इसके बाद सवर्णों का भारत बंद कहीं ना कहीं इस बंद में आम जनमानस का नुकसान होता है भारत में विरोध करना सबका अधिकार है सब अपनी बातें रख सकते हैं सब स्वतंत्र हैं स्वतंत्रता जन्मसिद्ध अधिकार है संविधान के नियमों का पालन करते हुए अपना विरोध दर्ज करना स्वाभाविक है इस बंद में जो नुकसान होता है उससे आखिर क्या मिलता है बंद में कहीं न कहीं हम भारत को आर्थिक रूप से पीछे ही धकेल रहे हैं बंद में होने वाले हिंसा से जो नुकसान होता है तोड़फोड़ होती हैं दुकानें बंद कराई जाती है क्या यह सही है आप कहते हैं कि हम जनता की परेशानी के साथ खड़े हैं उनके पक्ष में यह विरोध है पर देखा जाए तो नुकसान भी तो उन्हीं का होता है क्या कर रहे हैं।

आखिर यह बंद का मकसद क्या रहता है आम जनमानस का फायदा नुकसान भारत बंद का आवाहन मे कहीं जगह हिंसक प्रदर्शन हुए आज तेल के बढ़ते दामों को लेकर भारत बंद हुआ क्या देश का नुकसान करने से घटेगा तेल का दाम बिहार में भारत बंद एक मासूम की जान चली गई जनता का तेल निकालने से तेल के भाव थोड़ी गिर जाते हैं राजनीतिक पार्टियों को सोचना चाहिए किसका खेल बिगड़ता है आप जनता हित की बात करते हैं। और इसमें जनता का ही नुकसान होता है अखिल भारत बंद के हिंसा के पीछे कौन है तेल की धार तो राजनीतिक पार्टियों का बेड़ा पार तो कर सकती है यही बंद तरक्की के नाम से होता है जो कई हत्याओं का आगजनी का हिंसा का आर्थिक व्यवस्था गिराने का सबसे बड़ा कारण बनता है।


सबसे पहले देश!!!!!जय हिन्द 🇮🇳


In English-

Advantages and disadvantages of shutting down India


First of all, let me tell you that the benefits are nothing but loss only.



And what kind of damage is read,

Ever been a prisoner of the Dalit society, then the ban of the upper castes and then ever ban in politics! India’s closure caller thinks how long this game will last. Do you know the economic loss that happens on a very large scale, due to the closure of India on one day. Who will compensate us? We are seeing after January Bhima Koregaon violence, only Maharashtra had lost two hundred crores. In April, the closure of India by the Dalits was a loss of 13000 crores. Then, under the Kisan Morcha, heavy traffic to Maharashtra After that, after it was closed in Maharashtra under the Maratha movement, there was a loss of millions of which was only in Maharashtra.



After this, the upper castes of India are closed somewhere, there is a loss of public opinion in this bandh. It is the right to oppose in India. All can keep their says. All are independent. Independence is the birthright. It is natural to enter your protest by following the rules of the Constitution. What is the loss in this lock, what does it get from the end, in some places in the closed, we are pushing India economically behind in the closed The damage done to the violence that happens is the closure of shops. Shops are closed. Is it right that you say that we are standing with the problems of the public? This is a protest in favor of them but if they are seen then the loss also happens to them. are doing.



After all, what is the purpose of this closure? Advantage of common publicity: India invaded violently in the appeal of the shutdown. Today India has closed with the rising prices of oil. What will be the loss of the country due to the loss of the country. Removing the public’s oil from oil leaves the prices fall slightly Political parties should think about whose game worsens. You talk about public interest. And it is the loss of the public in this. Who is behind the all-India shutdown? Who can run the fleet of political parties? It is only in the name of promotion that is to eradicate the financial system of violence of many killings. The biggest reason is





First country !!!!! Jai Hind 🇮🇳

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.