October 2, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

कैसे काम करता है शेयर बाजार जो छोटी-मोटी बातों पर गिर-चढ़ जाता है

अर्थव्यवस्था की बात आते ही शेयर बाजार, सेंसेक्स और निफ्टी सुनाई देने पड़ते हैं. लेकिन इनके मतलब क्या होते है? क्या सेंसेक्स गिरने का मतलब सब कंपनियों को घाटा है? क्या है इन सब का मतलब?

  • आखिर शेयर मार्केट को कौन चलाता है?
  • क्यों छोटी मोटी बातों पर किसी भी शेयर का भाव ऊपर चढ़ जाता है या नीचे गिर जाता है जिससे निवेशकों का उस शेयर में लगाया हुआ पैसा या तो डूब जाता है या फिर अचानक बढ़ जाता है?
  • क्यों भारत में हर साल का बजट पेश होते ही सेंसेक्स या निफ़्टी में भारी गिरावट या तेजी उछाल देखी जाती है?
  • बजट पेश होने के बाद जब शेयर मार्केट गिरता है तो ऐसा क्यों बोला जाता है कि उस साल का बजट बाजार को पसंद नहीं आया है इसीलिए पूरा शेयर मार्केट धड़ाम से नीचे गिर गया.

तो अगर आपने भी शेयर मार्केट में पैसा निवेश किया हुआ है या फिर करना चाहते हैं तो आपके लिए स्टॉक मार्केट काम कैसे करता है (how stock market works in hindi) यह समझना बेहद जरुरी है.

आइए समझते हैं कि―

1 फरवरी 2020 को भारत का आम बजट पेश हुआ. इसके साथ ही सेंसेक्स में 988 पॉइंट्स की गिरावट दर्ज की गई. जानकारों ने कहा कि बाजार इस बजट से निराश हुआ है. सेंसेक्स की इस गिरावट से निवेशकों के चार लाख करोड़ रुपये डूब गए. लेकिन बजट में हुई घोषणाएं तो 1 अप्रैल से लागू होती हैं. ऐसे में 1 फरवरी को शेयर बाजार पर क्यों असर हुआ? शेयर बाजार की पूरी व्यवस्था क्या है जो संभावनाओं और आशंकाओं पर चलती है, आइए समझते हैं.

 

पहले शेयर बाजार का इतिहास

16वीं सदी में डच ईस्ट इंडिया कंपनी का विदेशी व्यापार में दबदबा था. कंपनी दुनियाभर में जहाजों के जरिए व्यापार कर रही थी. लेकिन जहाजों का संचालन एक महंगा सौदा था. इसलिए कंपनी ने हर बंदरगाह के आसपास रहने वाले व्यापारियों की मदद लेना तय किया.

कंपनी ने व्यापारियों से संपर्क कर कहा कि अगर वे जहाजों के संचालन में पैसा लगाते हैं तो जहाजों से होने वाले मुनाफे में भी उन्हें हिस्सा मिलेगा. हिस्से को अंग्रेजी में शेयर कहा जाता है. व्यापारियों को ये योजना पसंद आई और उन्होंने जहाजों के संचालन में पैसा निवेश किया. इस व्यापार और हिस्सेदारी को दुनिया का पहला शेयर मार्केट कहा जाता है।

भारतीय शेयर मार्केट

भारतीय शेयर बाजार कहते ही तीन तस्वीरें दिमाग में बनने लगती हैं. एक ऊंची बिल्डिंग जिस पर एक डिस्पिले लगी है. इस डिस्पिले पर लाल और हरे अक्षरों में कुछ शब्द इधर से उधर लगातार तेजी से चलते रहते हैं. दूसरी एक सांड की मूर्ति. तीसरी तस्वीर कान पर फोन लगाए और कंप्यूटर में लगातार कुछ टाइप कर रहे लोगों की. ये तीनों तस्वीर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) से जुड़ी हैं.

मुंबई के कोलाबा की दलाल स्ट्रीट पर मौजूद बीएसई एशिया का सबसे पुराना शेयर बाजार है. 1855 में करीब 20 व्यापारी टाउन हॉल के पास एक बरगद के पेड़ के नीचे बैठकर व्यापारों में हिस्सेदारी बेचने और खरीदने का काम करते थे. ये एक अनाधिकारिक शेयर बाजार था. 1875 में इन व्यापारियों ने एक संगठन बनाया. द नेटिव शेयर एंड स्टॉक ब्रोकर्स एसोसिएशन नाम की संस्था रजिस्टर हुई और शेयर मार्केट का काम करने लगी.

 

1928 में यह आज की बिल्डिंग में शिफ्ट हुआ और 1957 में इसे सरकारी मान्यता मिल गई. शेयर बाजार के पूरे काम की निगरानी स्टॉक एक्सचेंज  बोर्ड ऑफ इंडिया (सेबी) करता है.

काम कैसे होता है?

मान लीजिए किसी के पास एक अच्छा बिजनेस आइडिया है. लेकिन उसे जमीन पर उतारने के लिए पैसा नहीं है. वह किसी निवेशक के पास गया लेकिन बात नहीं बनी. और ज्यादा पैसे की जरूरत है. ऐसे में, एक कंपनी बनाई जाएगी. वह कंपनी सेबी से संपर्क कर शेयर बाजार में उतरने की बात करती है. कागजी कार्रवाई पूरा करती है और फिर शेयर बाजार का खेल शुरू होता है. शेयर बाजार में आने के लिए नई कंपनी होना जरूरी नहीं है. पुरानी कंपनियां भी शेयर बाजार में आ सकती हैं.

शेयर का मतलब हिस्सा है. इसका मतलब जो कंपनियां शेयर बाजार या स्टॉक मार्केट में लिस्टेड होती हैं उनकी हिस्सेदारी बंटी रहती है. स्टॉक मार्केट में आने के लिए सेबी, बीएसई और एनएसई (नेशनल स्टॉक एक्सचेंज) में रजिस्टर करवाना होता है. जिस कंपनी में कोई भी निवेशक शेयर खरीदता है वो उस कंपनी में हिस्सेदार हो जाता है. ये हिस्सेदारी खरीदे गए शेयरों की संख्या पर निर्भर करती है. शेयर खरीदने और बेचने का काम ब्रोकर्स यानी दलाल करते हैं. कंपनी और शेयरधारकों के बीच सबसे जरूरी कड़ी का काम ब्रोकर्स ही करते हैं.

 

आईपीओ क्या है?

शेयर बाजार की बात आते ही आईपीओ शब्द सुनने को आता है. आईपीओ की फुल फॉर्म है इनिशिअल पब्लिक ऑफरिंग. यानी जब कोई भी कंपनी पहली बार अपने शेयर जारी करने का प्रस्ताव लाती है उसे आईपीओ कहते हैं. आईपीओ के प्रस्ताव को प्राइमरी स्टेज मार्केट और शेयर आने पर उनकी खरीद बिक्री को सेकेंडरी स्टेज मार्केट कहा जाता है. जब सेकेंडरी स्टेज मार्केट शुरू होता है तो निवेशकों की कोशिश सस्ते में शेयर खरीद उसे महंगे दामों पर बेचने की होती है. एक निश्चित समय में शेयर की बिक्री करने पर सरकार को भी टैक्स देना होता है.

स्टॉक एक्सचेंज क्या है?

स्टॉक एक्सचेंज को शेयर की मंडी कह सकते हैं. भारत में कई सारे स्टॉक एक्सचेंज हैं. लेकिन बीएसई और एनएसई दो सबसे बड़े और महत्वपूर्ण स्टॉक एक्सचेंज हैं. इनके अलावा कलकत्ता स्टॉक एक्सचेंज, अहमदाबाद स्टॉक एक्सचेंज, इंडिया इंटरनेशनल स्टॉक एक्सचेंज समेत कई स्टॉक एक्सचेंज हैं. 2015 में जयपुर स्टॉक एक्सचेंज और भोपाल स्टॉक एक्सचेंज को बंद कर दिया गया था. बीएसई और एनएसई दुनिया के 10 सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंज में शामिल हैं. एनएसई 1994 में खोला गया था.

 

सेंसेक्स और निफ्टी क्या हैं?

शेयर मार्केट की खबरों में सेंसेक्स और निफ्टी का जिक्र भी बार बार आता है. ये दोनों इंडेक्स यानी सूचकांक हैं. सेंसेक्स दो शब्दों सेंसटिव और इंडेक्स से बनकर मिला है. हिंदी में इसे संवेदी सूचकांक कहते हैं. बीएसई में मुख्य तौर पर 30 बड़ी कंपनियां लिस्टेड हैं. इन 30 कंपनियों की सेहत से ही सेंसेक्स तय होता है. सेंसेक्स इन कंपनियों की वित्तीय सेहत का पैमाना है. यह 1 जनवरी 1986 से शुरू हुआ था.

इसकी एक जटिल कैल्कुलेशन है. लेकिन सीधे तौर पर समझा जा सकता है कि सेंसेक्स का बढ़ना इन 30 कंपनियों की स्थिति मजबूत करता है. बीएसई में लिस्टेड 30 कंपनियां स्थाई नहीं होतीं. समय के अनुसार इस लिस्ट में कंपनियां आती-जाती रहती हैं. लेकिन इनकी संख्या 30 से ज्यादा नहीं बढ़ती. एक इंडेक्स कमिटी इन 30 कंपनियों का चुनाव करती है.

निफ्टी एनएसई का सूचकांक है. निफ्टी नेशनल और फिफ्टी से मिलकर बना शब्द है. इसमें 22 अलग-अलग सेक्टरों की 50 कंपनियां लिस्टेड होती हैं. इन 50 कंपनियों की वित्तीय सेहत से निफ्टी सूचकांक तय होता है. सेंसेक्स और निफ्टी के अलावा भी कई सारे इंडेक्स होते हैं लेकिन सबसे महत्वपूर्ण यही दो हैं.

“भारत में स्टॉक मार्केट या शेयर बाजार मांग और पूर्ति यानी डिमांड और सप्लाई के नियम पर काम करता है. शेयर मार्केट में निवेशक BSE या NSE स्टॉक एक्सचेंज के द्वारा शेयर को खरीदता और बेचता है. सेंसेक्स और निफ्टी इंडिया की टॉप कंपनियों के प्रदर्शन को दिखाने का काम करते हैं।”

 

मार्केट कैप

मार्केट कैप मतलब शेयर बाजार में आने के बाद कंपनी की कुल पूंजी. मानकर चलिए किसी कंपनी के पास 10 लाख रुपये की पूंजी है. लेकिन उसे और पूंजी की जरूरत है. ऐसे में उसने पचास प्रतिशत हिस्से के शेयर जारी कर दिए. मानकर चलिए 1 लाख शेयर जारी किए गए जिनकी कीमत प्रति शेयर 10 रुपये थी. इसको आईपीओ निकालना कहा जाएगा. कंपनी को उम्मीद थी की इससे उन्हें 10 लाख रुपये मिलेंगे. लेकिन निवेशकों को कंपनी का आइडिया अच्छा लगा और उसके शेयरों की डिमांड बढ़ गई. कंपनी के शेयर 10 की जगह 50 रुपये प्रति शेयर के हिसाब से बिके. ऐसे में कंपनी को 50 लाख रुपये की कमाई हुई. पूंजी की ये पूरी कमाई मार्केट कैपिटलाइजेशन या मार्केट कैप कहलाती है.

फ्री फ्लोट फैक्टर

अब जब कंपनी की 50 प्रतिशत हिस्सेदारी पब्लिक में बिक गई है तो इस 50 प्रतिशत हिस्से से ही कंपनी का सूचकांक तय होगा. ये 50 प्रतिशत हिस्सा शेयर मार्केट के हिसाब से चलेगा. शेयर बाजार में बढ़ोत्तरी पर कंपनी का मार्केट कैप बढ़ेगा और घटने पर घटेगा. यह हिस्सा कंपनी के कामकाज से मुक्त यानी फ्री रहेगा. इसलिए इसे फ्री फ्लोट फैक्टर कहते हैं. इसकी कैल्कुलेशन का भी एक फॉर्मूला है.

 

 

बेस ईयर से गणना

शेयर मार्केट में किसी भी कंपनी के सूचकांक की गणना बेस ईयर से होती है. सेंसेक्स के मामले में 1978-79 और निफ्टी में 1995 को बेस ईयर माना जाता है. 1979 में सेंसेक्स की वैल्यू 100 मानी गई है. आज ये 39000 के पार है. मतलब इतने सालों  में इसमें करीब 390 गुणा बढ़ोत्तरी हुई है. अगर किसी कंपनी का बेस ईयर में मार्केट कैप 50 हजार था और आज वह 50 लाख है तो उसका इंडेक्स डिवाइजर 100/50000 यानी 0.002 और इंडेक्स 5000000*0.002 यानी 10000 होगा. यही तरीका 1995 को बेस ईयर और 1000 को बेस वैल्यू मानकर निफ्टी के लिए होता है.

निफ्टी और सेंसेक्स से क्या तय होता है?

निफ्टी और सेंसेक्स के लिए स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड कंपनियां अपने-अपने सेक्टरों की अग्रणी कंपनियां होती हैं. ऐसे में इनमें आने वाली गिरावट या चढ़ाव उस सेक्टर में आने वाली हलचल का भी इशारा होता है. बीएसई में सेंसेक्स के लिए लिस्टेड 30 कंपनियों के अलावा करीब 5000 से ज्यादा कंपनियां लिस्टेड हैं लेकिन इन छोटी कंपनियों का शेयर बाजार पर इतना असर नहीं होता. यही बात निफ्टी पर भी लागू होती है.

 

 

 

निफ्टी और सेंसेक्स कैसे तय होते हैं?

इन दोनों सूचकाकों को तय करने वाला सबसे बड़ा फैक्टर है कंपनी का प्रदर्शन. अगर कंपनी अच्छा परफॉर्म करेगी तो लोग उसके शेयर खरीदना चाहेंगे और शेयर की मांग बढ़ने से उसके दाम बढ़ेंगे. अगर कंपनी का प्रदर्शन खराब रहेगा तो लोग शेयर बेचना शुरू कर देंगे और शेयर की कीमतें गिरने लगती हैं.

इसके अलावा कई दूसरी चीजें हैं जिनसे निफ्टी और सेंसेक्स पर असर पड़ता है. मसलन भारत जैसे कृषि प्रधान देश में बारिश अच्छी या खराब होने का असर भी शेयर मार्केट पर पड़ता है. खराब बारिश से बाजार में पैसा कम आएगा और मांग घटेगी. ऐसे में शेयर बाजार भी गिरता है. हर राजनीतिक घटना का असर भी शेयर बाजार पर पड़ता है. चीन और अमेरिका के कारोबारी युद्ध से लेकर ईरान-अमेरिका तनाव का असर भी शेयर बाजार पर पड़ता है. इन सब चीजों से व्यापार प्रभावित होते हैं.

मोदी सरकार की दोबारा पूर्ण बहुमत से सत्ता में वापसी पर सेंसेक्स 40 हजार पार चला गया था. इसकी वजह है कि बाजार मानता है कि पूर्ण बहुमत वाली सरकार सख्त फैसले ले सकती है. हालांकि इस सरकार के पहले पूर्ण बजट के दौरान ही बाजार ने नाखुशी प्रकट की है.

 

 

एक बात और, सेंसेक्स और निफ्टी गिरने का मतलब यह नहीं है कि सारी कंपनियां घाटे में जा रही हैं या सबका पैसा डूब रहा है. सेंसेक्स 30 बड़ी कंपनियों और निफ्टी 50 बड़ी कंपनियों से तय होता है. इसलिए कई बार सेंसेक्स और निफ्टी में गिरावट के बावजूद कई छोटी कंपनियां अच्छा परफॉर्म करती रहती हैं.

निफ़्टी और सेंसेक्स कैसे काम करता है? (How sensex and nifty works in hindi?)

शेयर मार्केट में निफ्टी और सेंसेक्स इंडेक्स यानी सूचकांक है जो भारत की सबसे बड़ी कंपनियों की स्थिति को दर्शाते हैं. एक तरह से निफ्टी और सेंसेक्स बाजार के इंडिकेटर की तरह काम करते हैं जो देश की अर्थव्यवस्था को कुछ पॉइंट्स के जरिए बताने का काम करते हैं.

इसीलिए जब सेंसेक्स कई पॉइंट ऊपर चढ़ जाता है तो कंपनियों को भारी मुनाफा होता है और जब सेंसेक्स कुछ पॉइंट गिर कर नीचे आ जाता है तो कंपनियों को नुकसान होता है.

  • सेंसेक्स देश की 30 सबसे बड़ी कंपनियों का इंडेक्स होता है जबकि निफ्टी देश के टॉप 50 सबसे बड़ी कंपनियों का इंडेक्स होता है. जब सेंसेक्स बना था तो इसकी वैल्यू 100 point थी जो आज बढ़कर 55000 से ज्यादा हो चुकी है.

पिछले 20 सालों में सेंसेक्स और निफ्टी में बहुत सारे भारी गिरावट और बड़ी उछाल देखी गई है. उदाहरण के लिए 2008 का फाइनेंशियल क्राइसिस जिसमें सेंसेक्स तकरीबन 60% गिर चुका था।

और 2020 के कोरोना के दौरान भी गिरावट 30- 40% तक हो गई थी।

ऐसे में कुछ निवेशक तो बर्बाद हो गए, बहुत सारे लोगों का पैसा डूब गया और जब शेयर मार्केट ने रिकवर किया तो लोग पैसा छाप कर मालामाल भी बन गए.

लेकिन इन सब मार्केट क्रैश के बीच जिसने समझदारी से निवेश किया उसने तो बहुत पैसा कमाया और अपने पैसे को कई गुना मल्टीप्लाई किया लेकिन कुछ लोग थे जिन्होंने जल्दी पैसा कमाने के चक्कर में कुछ सस्ती और घटिया कंपनी के शेयर (पेनी स्टॉक) खरीद लिए और कंगाल हो गए.

जबकि अगर आप समझदारी से निवेश करते तो आप अपने उसी पैसे को कई गुना कर सकते थे. Warren Buffet जो दुनिया के सबसे अमीर इन्वेस्टर हैं और उन्होंने अपना पूरा पैसा शेयर मार्केट में निवेश करके ही कमाया है और वो अपनी सफलता का क्रेडिट एक ही किताब को देते हैं जिसका नाम है “द इंटेलिजेंट इन्वेस्टर”.

वो कहते हैं कि― इस किताब ने मेरी जिंदगी बदल दी और अगर शेयर मार्केट की दुनिया में सफल होना है तो हर एक निवेशक को यह किताब जरूर पढ़नी चाहिए।

 

स्टॉक एक्सचेंज कैसे काम करता है? (How stock exchange works in hindi?)

भारत में दो प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज हैं बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज यानी BSE और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज यानी NSE. यह दोनों एशिया के सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंज में गिने जाते हैं. BSE स्टॉक एक्सचेंज पुराना है जिस पर ब्रोकर्स ने 1875 से ट्रेडिंग करना चालू कर दिया था. लेकिन बाद में जब यह स्टॉक एक्सचेंज पॉपुलर होने लगा और यहीं से इंडिया में शेयर मार्केट की शुरुआत हो गई और लोग कंपनियों के शेयर खरीदने बेचने लगे और धीरे-धीरे भारत में स्टॉक मार्केट पॉपुलर होने लगा.

अब सरकार ने भी सोचा कि एक सरकारी स्टॉक एक्सचेंज भी होना चाहिए इसीलिए फिर देश की सरकार ने नेशनल स्टॉक एक्सचेंज यानी NSE बनाया जिस पर आज देश के अधिकतर लोग ट्रेडिंग करते हैं. वैसे तो इन दोनों ही स्टॉक एक्सचेंज पर शेयर का भाव एक जैसा ही रहता है लेकिन कुछ पैसे का अंतर होता है. एक तरह से आप इन दोनों (NSE और BSE) को एक सब्जी मंडी समझ सकते हैं जिसमें एक ही सब्जी का दाम अलग-अलग होता है लेकिन उनमें ज्यादा फर्क नहीं होता है.

अगर आपने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की तस्वीर देखी होगी तो आपको ऊपर एक पट्टी दिखेगी जिसमें कुछ लाल और हरे रंग के नंबर स्क्रीन पर स्क्रॉल होते नजर आएंगे.ये वही नंबर हैं जो अलग-अलग कंपनियों के भाव को दर्शाते हैं जिनमें मुख्यतः सेंसेक्स और निफ्टी की कंपनियां आती हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.