January 24, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

कोरोना : बस्ती मंडल के एक लाख मजदूरों को नहीं मिल पाएगी तत्काल सहायता; जानिए आखिर क्यों हुआ ऐसा

बस्ती|उत्तर प्रदेश में बस्ती मंडल के एक लाख मजदूरों को दैवीय आर्थिक सहायता के तहत एक हजार रुपये नहीं मिल पाएंगे। यह मजदूर उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड में पंजीकृत हैं, लेकिन उन्होंने अपना नवीनीकरण नहीं कराया है।

 

कर्मकार कल्याण बोर्ड के पोर्टल पर दर्ज सूचना के अनुसार बस्ती में 73001, सिद्धार्थनगर में 53247 और सिद्धार्थनगर में 40672 श्रमिक पंजीकृत हैं। कुल पंजीकृत 166920 मरीजों में केवल 50865 ही सक्रिय हैं। जिन्हें दैवी आपदा सहायता के नाम पर एक हजार रुपया मिलना है। इनमें से 25820 के खाते विभाग के पास उपलब्ध है, लेकिन 25045 सक्रिय मजदूरों का खाता संख्या उपलब्ध नहीं है, जिसका खाता संख्या प्राप्त करने के लिए विभाग की तरफ से प्रयास किया जा रहा है।

 
बस्ती के पंजीकृत श्रमिक ह्वाट्सएप्प नंबर पर उपलब्ध करावें खाता संख्या

श्रम प्रवर्तन अधिकारी बस्ती विनय कुमार दूबे ने पंजीकृत ऐसे सक्रिय श्रमिकों को सूचित किया है कि जिनका खाता संख्या विभागीय वेबसाइट पर अपडेट नहीं है। उन्होंने कहा कि दैवीय आपदा अंशदान योजना के तहत जनपद में पंजीकृत श्रमिकों के खाते में सीधे आरटीजीएस के माध्यम से एक हजार रुपये की धनराशि अंतरित की जाएगी। जिन श्रमिकों का बोर्ड की वेबसाइट पर आधार संख्या, बैंक खाता और मोबाइल नंबर उपलब्ध होगा, उनका स्वत: सहायता राशि चली जाएगी। उन्हें किसी प्रकार का फार्म भरने की जरूरत नहीं है।

लेबर इंस्पेक्टर श्री दूबे ने बताया कि ऐसे पंजीकृत श्रमिक जिनका नवीनीकरण पूर्ण है और खाता संख्या अपडेट नहीं है, ऐसे श्रमिक अपने पंजीयन कार्ड, आधार कार्ड और बैंक पासबुक की फोटो कापी विभागीय कर्मचारियों के नंबर पर ह्वाट्सएप्प करें। अपना खाता संख्या अपडेट कराने के लिए श्रमिक को किसी भी दशा में कार्यालय में नहीं आना है। विभाग की तरफ से जारी मयंक कुमार शुक्ला के मोबाइल नंबर 9795404913, अतुल कुमार दूबे के 9451614108, सुभाषचंद्र विश्वकर्मा के 9453921093 और अरुण कुमार पाठक के मोबाइल नंबर 9839957293 पर आवश्यक प्रपत्र ह्वाट्सएप्प किए जा सकते हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.