June 25, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

खत्म हुआ 154 साल पुराना इलाहाबाद बैंक का सफर, अब इस नाम से जाना जाएगा

नई दिल्ली:बैंकिंग सेक्टर में खुद को बेहतरीन ढंग से स्थापित करने वाले देश के राष्ट्रीय बैंकों में से एक ‘इलाहाबाद बैंक’ की पहचान अब खत्म होने वाली है। इलाहाबाद बैंक का विलय होने जा रहा है। देश के कोने-कोने और विदेशों तक अपनी सेवाएं दे रहे इलाहाबाद बैंक की शुरुआत ब्रितानिया हुकूमत में एक छोटे से कमरे में हुई थी। यूरोपीय व्यापारियों की अगुवाई में भारतीय व्यापारियों ने इस बैंक की आधारशिला रखी थी। चूंकि इलाहाबाद तत्कालीन समय में ब्रिटिश सरकार की विशेष निगरानी में रहता था और प्रिंस चार्ल्स के इलाहाबाद आने से पहले इस बैंक को पूरी तरह से संचालित कर इसे उपलब्धि के तौर पर पेश किया गया था। इसलिये इस बैंक को ब्रिटिश सरकार में विशेष संरक्षण भी मिलता रहा। हालांकि अब देश की इकोनॉमी में आई सुस्ती को दूर करने के लिए मोदी सरकार ने इस बैंक पर विलय का हंटर चलाया है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में इलाहाबाद बैंक के विलय का ऐलान किया जिससे 154 वर्ष पुराने इस बैंक के स्वर्णिम इतिहास का सफर भी थम गया।

 

ऐसे हुई थी बैंक की शुरुआत

इलाहाबाद बैंक की शुरुआत तत्कालीन ब्रिटिश भारत के इलाहाबाद प्रेसीडेंसी में हुई थी। इसकी शुरुआत कुछ स्थानीय व्यापारी वा यूरोपीय व्यापारियों ने मिलकर की थी। बहुत छोटी सी रकम से यह बैंक सबसे पहले एक कमरे में खुला था, जो चौक इलाके में था। यह कमरा व्यापारी बच्चा जी का था। उन्होंने कमरे के साथ भवन का अगला हिस्सा भी बैंक संचालित करने के लिए दे दिया था। प्रथम तल के एक कमरे में यह बैंक धीरे-धीरे पूरे इलाहाबाद में प्रसिद्ध हो गया और इलाहाबादियों के लिये बेहतरीन विकल्प बन गया। एक से दो दशक तक बैंक का कामकाज यहीं चलता रहा। लेकिन, ग्राहकों की बढ़ती संख्या के बाद इस बैंक को विस्तार देने की प्रक्रिया शुरू हुई। 24 अप्रैल 1865 को बैंक को सिविल लाइंस स्थित मौजूदा हेड शाखा में स्थानांतरित किया गया जो लंबे समय तक इलाहाबाद बैंक का मुख्यालय रहा। इसके बाद बैंक के पुराने भवन में एक ऊन भंडार की दुकान खुली, जिसे आज टंडन ऊन भंडार के नाम से लोग जानते हैं। 1865 में विधिवत शुरुआत के साथ देश में भी बैंकिंग का आधिकारिक शंखनाद हुआ और लोग इलाहाबाद बैंक से रूबरू होने लगे।

images(78).jpg

19 वीं शताब्दी में गूंजा नाम:-

काफी लंबे समय तक इलाहाबाद में अपनी पहचान स्थापित करने के बाद 19वीं सदी में इस बैंक ने अपना विस्तार शुरू किया और देखते ही देखते इलाहाबाद बैंक की शाखा झांसी, कानपुर, लखनऊ, बरेली, नैनीताल, कोलकाता तथा दिल्ली में शुरू हो गई। इलाहाबाद बैंक की पॉपुलैरिटी होने पर पूरे देश में इसके विस्तार के क्रम में इलाहाबाद से बैंक का मुख्यालय भी शिफ्ट कर दिया गया। इसके बाद सबसे बड़ा परिवर्तन आयरन लेडी के नाम से मशहूर इंदिरा गांधी सरकार के दौरान हुआ। इंदिरा गांधी ने 13 बैंकों के राष्ट्रीयकरण का ऐलान किया और उस ऐलान में इलाहाबाद बैंक का भी नाम शामिल था और यहीं से यह तय हो गया कि अब इलाहाबाद बैंक एक आम बैंक नहीं रहेगा। इसके बाद बैंक की शाखाएं पूरे देश में खोली जाने लगीं। 2006 में इलाहाबाद बैंक की चीन में भी एक शाखा खुली और फिर हांककांग जैसे देशों पर भी बैंक की शाखा खुली और इसके विस्तार का क्रम जारी रहा लेकिन अब उस पर विराम लग गया है।

 

कितनी शाखा और कर्मचारी

इस समय इलाहाबाद बैंक की 3229 शाखाओं में 23210 कर्मचारी हैं जबकि 1,112 एटीएम हैं। अकेले प्रयागराज शहर की बात करें तो यहां इसकी 16 शाखा है। जबकि इलाहाबाद जोन में कुल 57 शाखाएं हैं। वहीं, बैंक का वर्तमान में कुल कारोबार 3 लाख 77 हजार 887 करोड़ रुपये के आसपास पहुंच चुका है। हालांकि पिछले कुछ समय से इलाहाबाद बैंक घाटे के दौर से गुजर रहा था और सरकार की इस पर निगाह बनी हुई थी। सरकार की ओर से संकेत और औपचारिक संदेश भी दे दिया गया था। जिसके बाद से बैंक पर मर्जर की तलवार लटक रही थी। हालांकि बैंक ने अपना घाटा खत्म करने और पूंजी बढ़ाने के लिये बैंक की संपत्तियों को बेचना शुरू किया था। आलम यह था कि अपनी सबसे पुरानी भूमि यानी प्रयागराज के सिविल लाइंस शाखा के जमीन को भी बेचने का ऐलान बैंक को करना पड़ा। बैंक ने इलाहाबाद समेत पैडर रोड मुंबई और अंधेरी, बरेली, झांसी, नैनीताल, मंसूरी, लखनऊ, सीतापुर, मुरादाबाद, गोरखपुर, जबलपुर में बैंक की जमीन बेचने की घोषणा की। जिसके बाद यह लगभग तय था कि बैंक का मर्जर अब नहीं होगा। लेकिन, देश में मंदी का असर बढ़ने का खामियाजा आखिर देश के इस पुराने बैंक को उठाना पड़ा।

images(79)

 

इन बैंकों का हुआ मर्जर

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर 10 सरकारी बैंकों का विलय का ऐलान किया। जिसके अनुसार अब पंजाब नेशनल बैंक, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया और ओरिएंटल बैंक, केनरा बैंक, सिंडिकेट बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक, इलाहाबाद बैंक का विलय होगा। इसमे इलाहाबाद बैंक का विलय इंडियन बैंक में होगा। इस विलय के साथ 27 पब्लिक सेक्टर बैंक की जगह अब सिर्फ 12 पब्लिक सेक्टर बैंक होंगे।

images(80).jpg

576135-allahabad-bank-051817

ये भी पढ़ें ⬇️

साइबर क्राइम से लगती है साल में इतनी वैश्विक चपत, रिपोर्ट में हुआ चौकाने वाला खुलासा

जानिए क्या है ऑनलाइन स्टॉकिंग और इसकी वजह से कितनी सजा मिल सकती है?

बैंक फ्रॉड और साइबर क्राइम को रोकने के लिए राज्यों में बनेंगे ‘इंटीग्रेटेड फॉरेंसिक लैब’

बैंकिंग का नया अवतार मोबाइल बैंकिंग… आइए जानते हैं।

भारत में बैंकिंग प्रणाली का इतिहास व प्रकार जानिए!

भारत क्यू आर कोड क्‍या और कैसे काम करता है | How to generate and use Bharat QR Code;

डिमांड ड्राफ्ट से संबंधित जानकारी (Define Demand Draft)

डेबिट और क्रेडिट कार्ड में क्या अंतर है?

रुपये कार्ड की महत्त्व की जानकारी;

 

1 thought on “खत्म हुआ 154 साल पुराना इलाहाबाद बैंक का सफर, अब इस नाम से जाना जाएगा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.