September 27, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

ग़रीबी और अशिक्षा

ग़रीबी और अशिक्षा भारत के सभी अनर्थो की जड़ है।

आजादी के बाद के पिछले 70 वर्षों में देश ने कई क्षेत्रों में अभूतपूर्व प्रगति की है | देश के करोड़ों लोगों को इसका लाभ भी हुआ है | लोगों की संपन्नता में वृद्धि हुई है | जीवनस्तर में सुधार हुआ है | लेकिन समाज का एक वर्ग अब भी ऐसा है जो इस प्रगति का कोई लाभ नहीं उठा पाया है | वह वर्ग है गरीबों तथा अशिक्षितों का | उन की हालत पहले से ज्यादा खराब हो रही है | गरीबी के कारण वे स्वयं अपनी प्रगति के लिए कुछ नहीं कर पाते | सरकार यदि उनके लिए कुछ करे तो उन्हें पता भी नहीं चलता क्योंकि वे अशिक्षित हैं | सरकारी योजनाओं का लाभ उन तक पहुँचाता ही नहीं | स्थिति ऐसी है कि अशिक्षा के कारण उन्हें अपने मूलभूत अधिकारों तक का पता नहीं | इस स्थिति के कारण देश को अपरिमित हानि हो रही है |

देश के लोकतंत्र की सफलता बहुत बड़े पैमाने में इस बात पर निर्भर करती है कि देश के लोग शिक्षित हैं या नहीं | सही प्रतिनिधि चुनना, उसके कार्यों का मूल्यांकन, सरकार के कार्यों का मुल्यांकन यह सारे चीजें बहुत जरूरी है लोकतंत्र की सफलता के लिए | एक अशिक्षित व्यक्ति से इस बात की उम्मीद नहीं की जा सकती कि वह अपनी इन जिम्मेदारियों को पूरा करे | उसमे यह योग्यता ही नहीं होती | इस तरह देश की जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा लोकतंत्र में सहभागी हो ही नहीं पाता | इस स्थिति के कारण चुनाव में जो व्यक्ति चुना जाता है वह वास्तव में लोगों का सच्चा प्रतिनिधि होता ही नहीं है | लोकतंत्र का पतन यहीं से शुरू होता है | भारत में लोग व्यक्ति की योग्यता नहीं बल्कि उसकी जाती, धर्म व भाषा देखकर वोट देते हैं |

गरीब तथा अशिक्षित व्यक्ति अपनी अज्ञानता के कारण अपने लिए सही प्रतिनिधि नहीं चुन पाते | जो व्यक्ति चुन के आता है, वो उनका वास्तविक हितैषी नहीं होता | उसे पता होता है कि वह लोगों की अज्ञानता के कारण ही चुन कर आया है | इसलिए वह उन्हें उसी स्थिति में रखना चाहता है | इसके बाद शुरु होता है बड़ी-बड़ी योजनाओं का खेल | गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा मिटाने के नाम पर बड़ी-बड़ी योजनाएँ बनाई जाती हैं | इन योजनाओं से गरीबी तथा अशिक्षा का सफाया तो नहीं होता किंतु सरकार की जेब से पैसा साफ़ होने लगता है | यह योजनाएँ भ्रष्टाचार को फलने फूलने में मदद करती है | देश खोखला होना यहीं से शुरू होता है | गरीबी मिटाने के नाम पर भारत में बहुत सारी योजनाएँ हैं | इन सारी योजनाओं पर कई लाख करोड़ खर्च हो चुके हैं | पर इससे गरीबी नहीं मिटी, सिर्फ भ्रष्टाचार बढ़ा |

इन हालातों के कारण देश के गरीबों तथा अशिक्षितों में असंतोष बढ़ता है | उन्हें लगता है कि यह देश और यह समाज उनके लिए कुछ नहीं कर रहा | समाज का एक बड़ा वर्ग आनंद भोग रहा है पर हमारे लिए कुछ नहीं है इसमें | उनका देश तथा समाज के प्रति मोहभंग होने लगता है | ऐसी स्थिति में वो अपराध की तरफ मुड़ने लगते हैं | थोड़े-थोड़े से पैसों के लिए अपराध होना सामान्य बात हो जाती है | संपन्न वर्ग पैसों का लालच देकर उन्हें गलत कामों के लिए इस्तेमाल भी करते हैं | समाज में अपराध बढ़ता जाता है व देश की शांति व्यवस्था भंग होने लगती है | देश में अराजकता फैलती है | भारत के हर राज्य में अपराध दर काफी ज्यादा है | जिन क्षेत्रों में जितनी ज्यादा गरीबी तथा अशिक्षा है, उन क्षेत्रों में उतना ज्यादा अपराध है | बिहार, उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में अपराध अधिक होने का यही कारण है | इसके विपरीत संपन्न राज्यों में अपेक्षाकृत शांति है |

देश को विकास के पथ पर आगे ले जाने के लिए हमने जो लोकतांत्रिक व्यवस्था बनाई थी, गरीबी तथा अशिक्षा के कारण वो व्यवस्था आज चरमरा गयी है | इसलिए आज यह कहने में कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी कि देश में होने वाले सारे अनर्थों की जड़ यही गरीबी व अशिक्षा है |

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.