June 26, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

ग़रीबी क्या है हम गरीब क्यू है।?

गरीबी शब्‍द सुनकर ही एक अजीब सी झलक आंखों के सामने आ जाती है। आज यह दुनिया की सबसे बड़ी समस्‍या है। इस ग्‍लोबल प्रॉब्‍लम को खत्‍म करने के लिए बड़े स्‍तर पर कई बारे मिशन शुरू हुए लेकिन फिलहाल अभी तक इससे बाहर नहीं निकला जा सका है। ऐसे में इस गरीबी से बाहर निकलने के लिए सबसे पहले इसके स्‍टैटिक्‍स को समझना जरूरी है। इसे बेसिक स्‍तर पर समझने के बाद एक स्‍कीम के तहत इसे निजात पाई जा सकती है। आइए जानें इस गरीबी से बाहर निकलने के लिए 10 बेसिक स्‍टैटिक्‍स;

खाना:
आज दुनिया के बड़े हिस्‍से में लोगों को खाने की जरूरत है। भले ही आज करीब 10 अरब लोगों को भोजन दुनिया भर में मुहैया कराया जाता है, लेकिन अभी भी इससे करीब डेढ़ गुना लोगों के पास भोजन खरीदने के लिए पैसे नहीं हैं।

यूनीसेफ:
यूनीसेफ ने हाल ही में एक रिपोर्ट पेश की, जिसके मुताबिक आज दुनिया में करीब 22,000 बच्‍चे प्रतिदिन भूख और गरीबी की वजह से दम तोड़ रहें हैं।

कुपोषण:
आज दुनिया में एक तिहाई बच्‍चे कुपोषण से ग्रस्‍त हैं। वजन ने बढ़ने से वह बीमारियों की चपेट में काफी तेजी से आ रहे हैं।
पानी:
आज भी दुनिया में करीब 1 अरब से अधिक लोगों के पास पानी की कमी है। इसके अलावा 2.6 अरब लोगों को बुनियादी स्वच्छता सुविधाओं की कमी है। जिससे साफ है कि एक बड़ी संख्‍या में लोगों को पीने और शौच के लिए पानी नहीं मिल रहा।
डायरिया:
इस समय दुनिया में 18 लाख बच्चे हर साल डायरिया की वजह से मर जाते हैं।
बिजली:
वर्तमान में कुल आबादी का एक चौथाई हिस्‍सा बिजली के बिना रहने को मजबूर है।

अमीर लोग:
दुनिया भर में 7 सबसे अमीर लोग और एक साथ कुल 41 सबसे गरीब देशों की तुलना आसानी से की जा सकती है।
बुनियादी स्वास्थ्य:
1998 में, 780,000,000,000 डॉलर दुनिया भर देशों ने अपनी सेनाओं पर खर्च किया था। जब कि उसी साल बुनियादी स्वास्थ्य और पोषण पर दुनिया भर में बस 13000000000 डॉलर ही खर्च किया गया।
सैन्‍य खर्च:
अगर यह तय हो जाए कि सैन्य मुद्दों पर खर्च का सिर्फ 1% से भी कम खर्च गरीबी मिटाने के लिए किया जाए तो बड़ी सफलता हासिल होगी।

आबादी में टॉप:
आप इस सूची को पढ़ रहे हैं। बधाई हो आप दुनिया की 30% आबादी में टॉप पर हैं।

लोगो का गरीबी से बहार आना हर देश में सामान्य रूप से नही हुआ है . यह ज्यादातर चीन और इंडोनेशिया और भारत में हुआ है जहाँ लोग गरीबी से बहार आये हैं . लेकिन आज भी गरीबो की आबादी में से आधी से अधिक आबादी अफ्रीका में रहती है

सबसे ज्यादा गरीब लोग गावों में रहते हैं जो पढ़े लिखे नही होते और खेती बारी ही उनका धंधा होता है .

गरीबी के कारण

निरक्षरता – कम या बिलकुल भी नही पढ़े लिखे लोग देश की अर्थव्यवस्था में शामिल नही हो पाते आज जो भी देश दुनिया में आगे निकला है वह शिक्षा के कारण ही आगे निकला है आज दुनिया विज्ञानं और प्रोदोगिकी में इतना आगे निकल गया है की इस ज़माने में जो निरक्षर रहेगा वो कभी आगे नही बढ़ सकता . पृथ्वी पर उपलब्ध संसाधनों का कैसे उपयोग करना है यह एक शिक्षित व्यक्ति ही जान सकता है

संसाधनों की कमी – सऊदी अरब और बाकि सारे अरब देश पहले बहोत ही गरीब थे लेकिन जब वह तेल का पता चला और वे लोग पूरी दुनिया को तेल बेचकर आमिर हो गये अगर अरब देशो में तेल जैसे संसाधन मौजूद नही होते तो आज सऊदी अरब गरीब ही रहता . जिस देश में जितना ज्यादा प्राकृतिक संसाधन पाए जाते हैं वह देश उतना ही संम्पन्न होता है

गुलामी – हमारा देश भारत सौकड़ो सालो तक अंग्रेजो का गुलाम रहा उन्होंने ने भारत में सैकड़ो सालो तक लूट मचाया . जब कोई देश गुलाम हो जाता है तो वह गरीब हो जाता है, आज अगर भारत में इतनी गरीबी है तो उसका एक मुख्या वजह गुलामी है

सामाजिक तनाव और झगडे – सीरिया और इराक में कई सालो तक लड़ाई चलने के बाद वहां का अर्थव्यवस्था ख़तम हो चूका है वे देश कहा जाय को 100 साल पीछे जा चुके हैं और वह गरीबी बढ़ गयी है

धार्मिक कारण – कुछ लोग अपनी वर्तमान की हालत सुधारने में विस्वास नही करते, वे सब कुछ भगवान पर छोड़ देते हैं और मरने के बाद मुक्ति की कामना में लग जाते हैं . एक अध्ययन में यह पाया गया की जो लोग ज्यादा ही धार्मिक होते हैं वे गरीब भी होते है

पारिवारिक कारण – कुछ लोग ऐसा सोचते है की जितना ही बड़ा परिवार होगा उतना ही हम संपन्न होंगे और इसी कारण ना चाहते हुए भी अपने परिवार को गरीबी में धकेल देते हैं अगर परिवार बड़ा है तो बच्चो को अच्छी शिक्षा देना संभव नही है और बिना शिक्षा का गरीबी से बहार निकलना भी संभव नही है

धन दौलत क्या है ? पैसा क्या है ?

पहले जब पैसा नहीं था तब लोग अपने वस्तु आदान प्रदान करते थे उसे बार्टर सिस्टम बोलते हैं. किसी के पास ज्यादा आनाज होता था तो किसी के पास ज्यादा मवेशी गाय , भैस। तो लोग मवेशी और अनाज आदान प्रदान कर लेते थे। तो यहाँ मवेशी और आनाज वो वस्तु है जिसकी कीमत है और आदान प्रदान किया जा सकता है। फिर यहाँ पैसा आता है। पैसा भी एक वैल्यू है हम अपने मवेशी को बेच कर पैसे में बदल सकते है और फिर उस पैसे से बाद में आनाज भी खरीद सकते है।  अब  शायद आपको पता चल गया होगा की पैसा क्या है।  पैसा एक वैल्यू है जो हम बनाते है और जो बिक सकता है।

हम सभी  धरती पर उपलब्ध सामग्रियों का उपयोग करते है जो इस धरती पर पहले आया वो धरती पर उपलब्ध वस्तुओ का एक अच्छा वैल्यू क्रिएट कर दिया जो अन्य लोगो की जरूरत को पूरा करता है।  जैसे आज के समय में जिसके पास धन दौलत है इसका मतलब ये हुआ की उन्होंने कुछ वैल्यू क्रिएट किया होगा अगर वो नहीं किये होंगे तो उनके खानदान में किसी ने  किया होगा। इसलिए  वो अब आमिर है और धरती पर उपलब्ध अलग अलग वस्तुओ को अपने वैल्यू से आदान प्रदान कर सकते है।

गरीबी और अमीरी ये कोई किस्मत की बात नहीं है।  कोई भी  गरीब और आमिर हो सकता है। ये सब उसने कितना वैल्यू क्रिएट किया इस बात पर निर्भर करता है।

यहाँ वैल्यू  को आप पैसा ,आनाज और धन दौलत भी बोल सकते है। भगवान ने हर किसी को हाथ पैर और दिमाग दिया है।  जिसका उपयोग करके हम भी कुछ वैल्यू बना सकते है।

गरीबी कोई  श्राप नहीं है।  इसे हटाया जा सकता है।

मेहनत और परिश्रम से इंसान इस दुनिया में कुछ भी हासिल कर सकता है अगर वो ठान ले तो।

आप मेहनत करने से पीछे न हटे।

आप जो कुछ भी करे जिंदगी में चाहे वो बिज़नेस हो या नौकरी, ठीक से करे।

किसी काम में आपका अगर मन नहीं लगता हो तो वो काम न करे क्यों की अगर मन नहीं लगेगा तो अच्छा वैल्यू क्रिएट नहीं होगा और अगर अच्छा वैल्यू क्रिएट नहीं होगा तो उसका कीमत भी कम होगा।

जय हिन्द दोस्तों।


Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.