September 27, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

‘गाय’ और ‘ॐ’ के बहाने मथुरा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विपक्ष पर वार

कान्‍हा की नगरी मथुरा पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘ॐ’ और ‘गाय’ के बहाने विपक्ष पर करारा वार किया। उन्‍होंने कहा कि ‘ॐ’ शब्‍द सुनते ही कुछ लोगों के कान खड़े हो जाते हैं, कुछ लोगों के कान में ‘गाय’ शब्‍द पड़ता है तो उनके बाल खड़े हो जाते हैं, उनको करंट लग जाता है। उनको लगता है कि देश 16वीं-17 वीं सदी में चला गया है। ऐसे लोगों ने ही देश को बर्बाद कर रखा है। अमेरिका पर हुए 9/11 हमले का उल्‍लेख करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आतंकवाद एक वैश्विक समस्‍या है। आज आतंकवाद एक विचारधारा बन गई है। आतंक की जड़ें हमारे पड़ोस में पनप रही हैं। हम इसका मजबूती से सामना कर रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे। उन्‍होंने कहा कि आतंकवादियों को पनाह और प्रशिक्षण देने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए भारत पूर्ण रूप से सक्षम है और हमने करके दिखाया भी है।

‘2 अक्टूबर तक अपने घरों को प्लास्टिक से मुक्त करें’
पीएम मोदी ने कहा, ‘हमें यह कोशिश करनी है कि इस वर्ष 2 अक्तूबर तक अपने घरों, अपने दफ्तरों, अपने कार्यक्षेत्रों को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त करें। आज स्वच्छता ही सेवा अभियान की शुरुआत हुई है, नैशनल ऐनीमल डिजीज कंट्रोल प्रोग्राम को भी लॉन्च किया गया है। महात्मा गांधी का यह 150वां प्रेरणा का वर्ष है। स्वच्छता ही सेवा के पीछे भी यही भावना छुपी हुई है। आज से शुरू हो रहे इस अभियान को इस बार विशेष तौर पर प्लास्टिक के कचरे से मुक्ति के लिए समर्पित किया गया है।’

 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘ब्रजभूमि ने हमेशा से ही पूरे विश्व और पूरी मानवता को प्रेरित किया है। आज पूरा विश्व पर्यावरण संरक्षण के लिए रोल मॉडल ढूंढ रहा है लेकिन भारत के पास भगवान श्रीकृष्ण जैसा प्रेरणा स्रोत हमेशा से रहा है, जिनकी कल्पना ही पर्यावरण प्रेम के बिना अधूरी है। प्रकृति, पर्यावण और पशुधन के बिना जितने अधूरे खुद हमारे आराध्य नजर आते हैं उतना ही अधूरापन हमें भारत में भी नजर आएगा। पर्यावण और पशुधन हमेशा से ही भारत के आर्थिक चिंतन का महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है।

इस देश का दुर्भाग्य है कि कुछ लोगों के कान में अगर ‘ॐ’ और ‘गाय’ शब्द पड़ता है तो उनके बाल खड़े हो जाते हैं। उनको लगता है कि देश 16वीं शताब्दी में चला गया, ऐसा ज्ञान रखनेवाले लोगों ने देश को बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।

 

‘100 दिन में हमने अभूतपूर्व काम करके दिखाया’
पीएम मोदी ने कहा, ‘नए जनादेश के बाद कान्हा की नगरी में पहली बार आने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है। इस बार भी पूरे उत्तर प्रदेश का आशीर्वाद मुझे और मेरे साथियों को प्राप्त हुआ है। देशहित में आपके इस निर्णय के लिए में ब्रजभूमि से आपके सामने शीश झुकाता हूं। आप सभी के आदेश के अनुरूप बीते 100 दिन में हमने अभूतपूर्व काम करके दिखाया है। मुझे विश्वास है कि देश के विकास के लिए आपका यह समर्थन और आशीर्वाद हमें मिलता रहेगा।’

 

इससे पहले यूपी के मथुरा पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी ने दुधारू पशुओं को गंभीर बीमारियों से मुक्त कराने के लिए तैयार की गई 13,500 करोड़ की टीकाकरण योजना का शुभारम्भ किया। पीएम ने यहां कार्यक्रम की शुरुआत गोसेवा से की। कचरा प्रबंधन से जुड़ी महिलाओं के साथ खुद कचरा छांटकर पीएम ने लोगों से प्लास्टिक का प्रयोग बंद करने की सांकेतिक अपील की। साथ ही उन्होंने सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ मुहिम भी लॉन्च की।

 

1000 करोड़ से ज्यादा की योजनाओं का शिलान्यास किया:-
मोदी ने मथुरा मेंकचरा बीनने वाली महिलाओं से मुलाकात की। प्रधानमंत्री मथुरा के लिए 1000करोड़ रु. सेज्यादा की योजनाओं का शिलान्यास किया।मोदी ने वेटरनरी विश्वविद्यालय में पशु आरोग्य मेले का उद्घाटन किया। प्रधानमंत्री नेमेले मेंकिसानों से भी बातचीत की। इस दौरान उन्होंने यह जानने की कोशिश की कि सरकार की योजनाओं का लाभ किसानों को मिल रहा है या नहीं। पीएम ने प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। इसमें नई तकनीकों का प्रयोग किया गया है।

 
‘पर्यावरण प्रेम के बिना कृष्णभक्ति अधूरी’
मोदी ने कहा, ‘‘नए जनादेश के बाद कान्हा की नगरी में पहली बार आने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है। इस बार भी पूरे उत्तर प्रदेश का पूरा आशीर्वाद मुझे और मेरे साथियों को प्राप्त हुआ है। देशहित में आपके इस निर्णय के लिए में ब्रजभूमि से आपके सामने शीश झुकाता हूं।’’

 
‘‘भारत के पास श्रीकृष्ण जैसा प्रेरणा स्त्रोत रहा है, जिसकी कल्पना पर्यावरण प्रेम के बिना अधूरी है। कालिंदी जिसे यमुना कहते हैं। हरी-गास चरती उनकी धेनु। क्या इसके बिना श्रीकृष्ण की तस्वीर पूरी हो सकती है। क्या दूध, दही, माखन के बिना बाल गोपाल की कल्पना कोई कर सकता है। प्रकृति, पर्यावरण और पशुधन के बिना जितने अधूरे हमारे अराध्य नजर आते हैं उतना ही अधूरापन हमे भारत में भी नजर आएग। प्रकृति से संतुलन बनाकर ही हम नए भारत की तरफ आगे बढ़ेंगे।’’


‘प्लास्टिक पशुओं की मौत का कारण बन रहा’
मोदी ने कहा कि आज स्वच्छता ही सेवा अभियान की शुरुआत की गई। नेशनल एनिमल डिजीज प्रोग्राम को भी शुरू किया गया। पशुओं के स्वास्थ्य संवर्धन और पोषण से जुड़ी योजनाएं भी शुरू की गई। मथुरा के पर्यटन से जुड़ी भी कई परियोजनाओं की भी शुरुआत की गई।

 
‘‘कुछ दिन बाद हम बापू की 150वीं जयंती का पर्व मनाएंगे। महात्मा गांधी ने स्वच्छता को प्रमुखता दी। हमें उनसे सीखना चाहिए। यही उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि भी है। स्वच्छता ही सेवा के पीछे भी यही भावना जुड़ी है। आज से शुरू हो रहे अभियान को प्लास्टिक से कचरे से मुक्ति के लिए समर्पित किया गया है। यह समस्या समय के साथ गंभीर होती जा रही है। बृजवासी अच्छी तरह जानते हैं कि कैसे प्लास्टिक पशुओं की मौत का कारण बन रहा है। मैं देशभर में काम कर रहे सभी हेल्थ गुप, सिविल सोसाइटी, युवा मंडल, महिला मंडल, क्लब, स्कूल, कालेजों से सिंगल यूज प्लास्टिक खत्म करने के मिशन में शामिल होने का आग्रह करता हूं।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.