November 30, 2020

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

गोरखपुर:खुद का साथी ही निकला प्रॉपर्टी डीलर इंद्रासन का हत्यारा

●खुद का साथी ही निकला प्रॉपर्टी डीलर इंद्रासन का
हत्यारा
● ₹15 लाख ना देने पड़ें इसलिए की दोस्त की हत्या
●पुलिस ने घटना में शामिल चार आरोपियों को किया
गिरफ्तार, मुख्य आरोपी की तलाश जारी

गोरखपुर। चिलुआताल इलाके के रहने वाले प्रापर्टी डीलर इंद्रासन उर्फ मंटू की हत्या उसके सबके भरोसेमंद साथी कन्हैया ने ही की थी। ₹15 लाख की उधार टाइल्स का पैसा न चुकाना पड़े इसलिए कन्हैया ने अपने साथियों के साथ मिलकर इंद्रासन की हत्या करने की योजना बनाई। हत्या के 12 घंटो के भीतर क्राइम ब्रांच और चौरीचौरा पुलिस ने चार आरोपियों को गिरफ्तार करके वारदात का पर्दाफाश कर दिया। मुख्य आरोपित नौतनवां में टाइल्स की दुकान चलाने वाले कन्हैया की तलाश में पुलिस की छापेमारी जारी है। घटना का खुलासा करते हुए एसपी नार्थ अरविंद पाण्डेय ने बताया कि गोरखपुर-कुशीनगर फोरलेन पर बेलवा बाबू गांव के पास लक्ष्मी गुप्ता के धान के खेत में सोमवार को प्रापर्टी डीलर इंद्रासन की लाश मिली थी। गला रेत कर हत्या के बाद शव को वहां फेंक दिया गया था। इंद्रासन प्रापर्टी डीलिंग का काम करता था। परिवारीजनों ने पुलिस को बताया कि रविवार की दोपहर वह कन्हैया से रुपए लेने की बात कहकर घर से निकले थे, कहा कि नौतनवां से देर शाम तक लौट आएंगे। लेकिन रात में उनका मोबाइल फोन स्विच आफ हो गया। छानबीन में इंद्रासन की हत्या कर फेंकी गई लाश बरामद हुई। पुलिस ने सर्विलांस के जरिए रमेश उर्फ रोशन, राकेश कुमार, रफीक और प्रवीण को प्रॉपर्टी डीलर की हत्या के जुर्म में गिरफ्तार किया।

बार-बार पैसे मांगने पर बनाई हत्या की योजना

आरोपियों ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि मोहरीपुर में किराए पर रहने वाले कन्हैया की नौतनवा में शिवम मार्बल्स और टाइल्स नाम की दुकान है। इंद्रासन ने अपने सम्पर्क से कन्हैया को राजस्थान से ₹15 लाख का टाइल्स दिलवाई थी। बार-बार ​इंद्रासन अपना पैसा मांग रहा था। लेकिन हर बार कन्हैया रुपए लौटाने में टालमटोल करता रहा। पैसा न देना पड़े इसलिए उसने इंद्रासन की हत्या की योजना बनाई। रविवार को पैसा देने के लिए कन्हैया ने उसे नौतनवां बुलाया। दुकान पर काफी देर तक इंद्रासन बैठा रहा। योजना के अनुसार अन्य अभियुक्त रफीक, राकेश और रमेश कार के पीछे-पीछे नौतनवां तक गए। तीनों साथी भी दुकान पर पहुंच गए और उन लोगों ने एक साथ खाना खाया। फिर सभी लोग रात में साढ़े 10 बजे लौटकर गोरखपुर आए। कार में कन्हैया ने इंद्रासन से कहा कि पैसा चौरीचौरा में मिलेगा। इंद्रासन के हां कहने पर कार से ही सभी चौरीचौरा की तरफ चले गए। जगदीशपुर से आगे बढ़ने के बाद सुनसान सड़क देखकर कन्हैया ने इंद्रासन का गला कस दिया। आगे बैठे रमेश ने स्टैयरिंग संभाल ली। कुछ दूर जाकर आरोपियों ने कार रोक दी। खेत में ले जाकर इंद्रासन की मौत पक्की करने के लिए कन्हैया ने चाकू से उसका गला रेत दिया। आरोपी कार को मेडिकल कॉलेज के पास ले जाकर छोड़ आए। फिर आराम से अपने घरों को लौट गए। कन्हैया को उसके परिचित कारोबारी पार्टनर प्रवीण ने बाइक से नौतनवां पहुंचा दिया। खेत में जब पुलिस तहकीकात के लिए पहुंची तो वहां कोई ऐसा सामान नहीं मिला जिससे कोई सुराग मिल सके। इसके बाद पुलिस ने इंद्रासन के मोबाइल नंबरों को खंगालना शुरू किया जिसके बाद पुलिस इस घटना की तह जा सकी और घटना में शामिल चार आरोपियों को 12 घंटो में गिरफ्तार कर लिया।

इन लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

रमेश उर्फ रोशन, निवासी बेलवा रायपुर पोखरा टोला
थाना गुलरिहा
राकेश कुमार, निवासी महमूदाबाद थाना पिपराइच
रफीक, निवासी महमूदाबाद थाना पिपराइच
प्रवीण कुमार, निवासी नवापार थाना पिपराइच

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Powered By : Webinfomax IT Solutions .
EXCLUSIVE