October 3, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

घमंड पर सुविचार;

घमंड न करना जिन्दगी मे तकदीर बदलती रहती है शीशा वही रहता है बस तस्वीर बदलती रहती है,दुसरो को सुनाने के लिए अपनी “आवाज” ऊँची मत करो, बल्कि अपना “व्यक्तित्व” इतना ऊँचा बनाओ कि आपको सुनने के लिए “लोग” इंतज़ार करे हमेशा खुश रहना चाहिए,क्योकि परेशान होने से कल की मुश्किल दूर नही होती बल्कि….आज का सुकून भी चला जाता है।ए “सुबह ”तुम जब भी आना,सब के लिए बस “खुशियाँ” लाना.हर चेहरे पर “हंसी ” सजाना,हर आँगन मैं “फूल ”खिलाना.जो “रोये ” हैं इन्हें हँसाना.जो “रूठे ” हैं इन्हें मनाना,जो “बिछड़े” हैं तुम इन्हें मिलाना.प्यारी “सुबह ” तुम जब भी आना,सब के लिए बस “खुशिया ”ही लाना।
जन्म से ना तो कोई दोस्त पैदा होता है और ना ही दुश्मन, वह तो हमारे घमंड, ताकत या व्यवहार से बनते है।ज़िंदगी को अगर खुल कर जीना है तो थोडा सा झुक कर जियो, तब देखो फिर, ये ईश्वर आपको कितना ऊँचा उठा देंगे।दिल से लिखी बातें दिल को छू जाती हैं कुछ लोग मिलकर बदल जाते हैं और कुछ लोगों से मिलकर जिन्दगी बदल जाती है। “आनंद” एक “आभास” है जिसे हर कोई ढूंढ रहा है…”दु:ख” एक “अनुभव” है जो आज हर एक के पास है…फिर भी जिंदगी में वही “कामयाब” है जिसको खुद पर “विश्वास” हे..!!वक्त तो रेत है फिसलता ही जायेगा।जीवन एक कारवां है चलता चला जायेगे,मिलेंगे कुछ खास इस रिश्ते के दरमियां थाम लेना उन्हें वरना कोई लौट के न आयेगा।जिदंगी ‘ बेहतर ‘ तब होती है।जब आप खुश होते है..लेकिन जिंदगी ‘बेहतरीन’ तब होती है ….जब आपकी वजह से लोग खुश होते है..।समय” “सत्ता” “संपत्ति”और “शरीर”चाहे साथ दे ना दे, लेकिन ”स्वभाव” ”समझदारी”और “सच्चे संबंध” हमेशा साथ देते हैं…प्रेम से भरी हुईं “आँखें” श्रद्धा से झुका हुआ “सर”,सहयोग करते हुऐ “हाथ”,सन्मार्ग पर चलते हुए “पाँव”,_*
और सत्य से जुडी हुई “जीभ”,
ईश्वर को बहुत पसंद है

•●‼ आपका दिन शुभ हो ‼●•
🙏 मुस्कुराते रहिये 🙏
अच्छे समय से ज्यादा, अच्छे इंसान के साथ रिश्ता रखो.
अच्छा इंसान अच्छा समय ला सकता है, लेकिन अच्छा समय अच्छा इंसान नहीं ला सकता


۞ ∥ जीवन का कड़वा सच ∥ ۞
गरीब आदमी जमीन पर बैठ जाए तो वो जगह उसकी औकात कहलाती है…
और
अगर कोई धनवान आदमी जमीन पर बैठ जाए तो ये उसका बड़ाप्पन कहलाता है….


दुनिया की सबसे अच्छी “किताब” हम खुद हैं.
खुद को “अच्छे” से पढ़ लीजिए
,,,,,,
सब समस्याओं का
“समाधान” हो जाएगा..

कीमत इन्सान की नहीँ
उसके कीमती समान की होती है

किनारा न मिले तो कोई बात नहीं, दुसरो को डुबाके मुझे तैरना नहीं हे।


अपने लिए नहीं तो उन लोगों के लिए कामयाब बनो, जो आपको नाकामयाब देखना चाहते हैं |



किसी मूर्ख से बहस करने से बेहतर है कि शांत रहा जाए


मैं अपनी गलती पर शर्मिंदा हूँ, मैं भूल गया था कि तुम एक मूर्ख हो।


आत्मसम्मान एक छोटी सी चीज़ है जो आपको दूसरों से अलग बनाती है।

ना ही कद बड़ा होता ? है और ना ही पद बड़ा होता हैं, बड़ा वो होता है जो मुसीबत में एक दूसरे के लिये हमेशा खड़ा होता हैं ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.