July 7, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

छह साल हामिद के घर नहीं मनी थी ईद, फिर सुषमा स्वराज ने लौटाई थीं खुशियां, दिल छूने वाला किस्सा

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को देश विदेश में फंसे भारतीयों की मदद के लिए हमेशा याद किया जाएगा। चाहे वो मोसुल में फंसे भारतीय हों या फिर पाक में फंसे हामिद। सभी की मदद सुषमा स्वराज ने की। खास बात ये है कि सुषमा स्वराज की मदद से ही छह साल बाद हामिद के घर ईद की खुशियां लौटी थीं। आइए जानते हैं इस किस्से के बारे में….

 

मुंबई के रहने वाले हामिद निहाल अंसारी छह साल बाद पाकिस्तान की जेल से रिहा हुए थे। उनकी रिहाई में सुषमा स्वराज का अहम योगदान था। उस दौरान हामिद को देखकर उनका पूरा परिवार रो पड़ा था। हामिद पाकिस्तान की मरदान जेल में बंद था। हामिद की वापसी वाघा-अटारी बॉर्डर से हुई थी।

aa6e6a3b17f7e5f59d35efa7500f3a51

उस दौरान पास खड़े पिता और भाई की भी आंखें नम थीं। फौजिया अंसारी ने बताया था कि हामिद 2012 में अपनी फेसबुक फ्रेंड से मिलने के लिए बिना वीजा के पाकिस्तान चला गया था। हामिद अफगानिस्तान के रास्ते पाकिस्तान गया था। पाकिस्तान के कोहाट में उसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था।

f936c7792d0d15d35b854ba6a71b4300

आर्मी ने उस पर देशद्रोह का केस किया और 15 दिसंबर 2015 को हामिद को तीन साल की सजा सुनाई गई। हामिद के बारे में उनके फेसबुक दोस्तों ने जानकारी दी थी। जब उन्हें पता चला कि हामिद पाकिस्तान के पेशावर की जेल में सजा काट रहा है, तब वह विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मिले।

 

उन्होंने इस्लामाबाद स्थित भारतीय दूतावास के अधिकारियों को हामिद को हर संभव कानूनी मदद देने के आदेश दिए थे। हामिद अंसारी के भाई ने बताया था कि आज उनके परिवार की ईद है। छह साल से उनके परिवार ने कोई त्योहार नहीं मनाया। परिवार का कहना था कि सुषमा स्वराज से मीटिंग कर जो आत्मविश्वास पैदा हुआ, उसी से उम्मीद जगी कि बेटा घर लौट आएगा। आज सुषमा स्वराज के निधन पर ये परिवार भी स्तब्ध होगा।

tribute--to--sushma-swaraj

भावभीनी श्रद्धांजलि 🙏

ये भी पढ़ें ⬇️

आज के युवाओं के लिए मोदी-शाह की जोड़ी ने Friendship के 5 नए मायने दिए हैं..

मुंशी प्रेमचंद: सबसे बड़े लेखक, टीचर के तौर पर कभी 18 रुपए थी तनख्वाह

जिस दुश्मन की बहादुरी की कायल थी ब्रितानी फ़ौज

ये है भारत का सबसे खतरनाक रेजिमेंट जिसके छींक के आगे दुश्मनों की बंदूक भी थम जाती है!

दसवीं में थर्ड डिवीजन, बारहवीं में फेल लेकिन निराश होने के बजाय IPS बने मनोज कुमार शर्मा

सद्बुद्धि और विवेक क्या है?

2 thoughts on “छह साल हामिद के घर नहीं मनी थी ईद, फिर सुषमा स्वराज ने लौटाई थीं खुशियां, दिल छूने वाला किस्सा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.