September 19, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

जाति आधारित जनगणना हो, ‘नीट’ में ओबीसी आरक्षण सुनिश्चित किया जाए : संगठनों की मांग

नई दिल्ली|पिछड़े वर्ग, अनुसूचित जाति और जनजाति वर्गों के कई प्रबुद्ध व्यक्तियों और संगठनों ने सोमवार को केंद्र सरकार से आग्रह किया कि इस बार जनगणना में जाति आधारित आंकड़े भी एकत्र किये जाए ताकि विभिन्न क्षेत्रों में सभी पात्र समुदायों को आरक्षण का उचित लाभ मिल सके।

इन व्यक्तियों और संगठनों ने ‘सोशल रिवूल्यूशन अलायंस’ (एसआरए) के बैनर तले आयोजित संवाददाता सम्मेलन में यह भी कहा कि मेडिकल प्रवेश परीक्षा में ओबीसी के लिए आरक्षण सुनिश्चित किया जाना चाहिए।

आंध प्रदेश उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश वी. ईश्वरैया, इलाहाबाद उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश वीरेंद्र सिंह यादव, दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अवधेश कुमार साह, ‘वोटर एजुकेशन फाउंडेशन’ नामक संगठन के पदाधिकारी अशोक कुमार सिंह, ओबीसी महासभा (मध्य प्रदेश) के अध्यक्ष धर्मेंद्र कुशवाहा तथा कुछ अन्य लोग शामिल थे।

उन्होंने कहा, ‘‘हम सरकार के इस फैसले से आहत और हतप्रभ हैं कि 2021 की जनगणना में जाति आधारित जनगणना शामिल नहीं होगी।

उन्होंने कहा, ‘‘इस बार की जनगणना में जाति आधारित जनगणना को शामिल किया जाए। अगर ऐसा नहीं किया गया तो पिछड़े वर्गों के लोग आंदोलन करने को विवश होंगे।’’

एसआरए की ओर से यह मांग भी गई है कि ‘नीट’ की परीक्षा में ओबीसी आरक्षण सुनिश्चित किया जाए, ओबीसी वर्गों के कल्याण के लिए केंद्र के स्तर पर अलग मंत्रालय बनाया जाए और संघ लोक सेवा आयोग की तर्ज पर राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग बनाया जाए।

NEET 2021 परीक्षा में हुआ ये बड़ा बदलाव

शिक्षा बोर्डों द्वारा स्कूल पाठ्यक्रम में कमी को युक्तिसंगत बनाने के लिए, नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने NEET 2021 के पेपर में में आंतरिक विकल्प पेश करने का फैसला किया है. नीट की परीक्षा (NEET 2021 Exam) में यह इस बार का बड़ा बदलाव है. आज घोषित प्रश्न पैटर्न के अनुसार, नीट 2021 में शामिल तीन विषयों – भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित में दो खंड होंगे – ए और बी. पहले खंड में 35 अनिवार्य प्रश्न होंगे जबकि दूसरे खंड में 15 प्रश्न होंगे, जिनमें से छात्रों को किसी भी 10 का जवाब देना होगा.

 

एनटीए ने कहा, ”प्रत्येक विषय में दो खंड होंगे. खंड ए में 35 प्रश्न होंगे और खंड बी में 15 प्रश्न होंगे, इन 15 प्रश्नों में से उम्मीदवार किसी भी 10 प्रश्नों का जवाब देना होगा, प्रश्नों की कुल संख्या और समय का उपयोग समान रहेगा.” यह इस साल की जेईई मेन परीक्षा के लिए पेश किए गए कदम के समान है. इंजीनियरिंग परीक्षा में भी, NTA ने 30 वैकल्पिक प्रश्न जोड़े हैं, जिनमें से छात्रों को 25 उत्तर देने होंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.