January 23, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

तरुण गोगोई: असम के तीन बार मुख्यमंत्री रहे गोगोई का निधन

गुवाहाटी |असम के सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री रहने का रिकॉर्ड बनाने वाले कांग्रेस के दिग्गज नेता तरुण गोगोई का 84 साल की उम्र में सोमवार को निधन हो गया। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री हेमंत बिस्वा शर्मा ने बताया कि लंबे समय से बीमार चल रहे पूर्व मुख्यमंत्री का आज शाम पांच बजकर 34 मिनट पर देहांत हो गया। तरुण गोगोई 2001 से 2016 तक असम के मुख्यमंत्री रहे।तरुण गोगोई के बेटे और लोकसभा सदस्य गौरव गोगोई असम के मुख्य सचिव जीष्णु बरूआ के साथ शनिवार रात अस्पताल पहुंचे थे। वहीं, गोगोई की बेटी और बहू भी रविवार को अस्पताल पहुंची थीं। शनिवार रात से ही सांसद, विधायक और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अस्पताल में डेरा डाले हुए थे।

कांग्रेस के 84 वर्षीय दिग्गज नेता को कोरोना वायरस संक्रमण से मुक्त होने के बाद पैदा हुई दिक्कतों की वजह से दो नवंबर को जीएमसीएच अस्पताल में भर्ती कराया गया था। कई सारे अंगों के निषक्रिय पड़ने के बाद वह जीवन रक्षक प्रणाली के सहारे से थे।  मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने रविवार को उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की थी और अस्पताल के अधिकारियों से उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली थी। 

इससे पहले तरुण गोगोई के स्वास्थ्य में रविवार सुबह मामूली सुधार देखा गया था। गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (जीएमसीएच) के अधीक्षक अभिजीत शर्मा ने बताया था उनके गुर्दे ठीक से काम कर सकें, इसके लिए दिन में चिकित्सकों ने डायलिसिस का पहला चक्र पूरा किया था।

तरुण गोगोई के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शोक जताया है। उन्होंने कहा, ”श्री तरुण गोगोई जी एक लोकप्रिय नेता और एक वयोवृद्ध प्रशासक थे, जिन्हें असम के साथ-साथ केंद्र में भी राजनीतिक अनुभव था। उनके निधन से दुखी हूं। दुख की इस घड़ी में मेरे विचार उनके परिवार और समर्थकों के साथ हैं। ओम शांति।”

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने उन्हें सच्चा कांग्रेसी नेता क़रार देते हुए कहा कि उन्होंने पूरी ज़िंदगी असम के लोगों को एक साथ लाने में बिता दी.

6 बार सांसद, तीन बार मुख्यमंत्री, ऐसा रहा तरुण गोगोई का सियासी सफर

असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई का निधन हो गया है. उनकी उम्र 84 साल और 8 महीने की हो चुकी थी. उन्होंने गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (GMCH) में अंतिम सांस ली. लंबे समय से बीमार चल रहे तरुण गोगोई पूरी तरह से लाइफ सपोर्ट पर थे. कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद तरुण गोगोई को गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था.

असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई का निधन हो गया है. उनकी उम्र 84 साल और 8 महीने की हो चुकी थी. उन्होंने गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (GMCH)  में अंतिम सांस ली. लंबे समय से बीमार चल रहे तरुण गोगोई पूरी तरह से लाइफ सपोर्ट पर थे. कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद तरुण गोगोई को गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था.

हालांकि उन्हें 25 अक्टूबर को डिस्चार्ज कर दिया गया था. लेकिन इसके बाद उनकी तबीयत फिर बिगड़ी और दो नवंबर को उन्हें फिर से GMCH में भर्ती कराया गया. उनके परिवार में पत्नी डॉली गोगोई, बेटी चंद्रिमा और एक बेटा गौरव हैं, जो कांग्रेस सांसद भी हैं.

2001 से 2016 तक तीन बार असम के मुख्यमंत्री रहे तरुण गोगोई का जन्म 1 अप्रैल 1936 को असम के जोरहाट जिले के रंगाजन टी एस्टेट में में हुआ था. उनके पिता डॉ कमलेश्वर गोगोई रंगाजन टी एस्टेट में डॉक्टर थे. वहीं उनकी माता ऊषा गोगोई कवयित्री थीं. उनके माता-पिता उन्हें प्यार से पुनाकोन कहा करते थे. तरुण गोगोई की शुरुआती पढ़ाई रंगाजन निम्न बुनियादी विश्व विद्यालय से हुई थी. इसके बाद उन्होंने कक्षा चौथी तक जोरहाट मदरसा स्कूल से की. साल 1949 में वह जोरहाट सरकारी हाई स्कूल चले गए, जहां से उन्होंने 10वीं पास की. उन्होंने जोरहाट जिले के ही जगन्नाथ बरूआ कॉलेज से ग्रेजुएशन किया और फिर गुवाहाटी यूनिवर्सिटी से एलएलबी की डिग्री हासिल की.

ऐसे बने राजनीति के माहिर खिलाड़ी.

तरुण गोगोई पहली बार 1968 में जोरहाट के म्युनिसिपल बोर्ड के सदस्य चुने गए.-गोगोई 6 बार कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा सांसद रह चुके हैं. साल 1971 से 85 तक वह जोरहाट लोकसभा सीट से जीते. इसके बाद 1991 से 96 और 1998-2002 तक उन्होंने कलियाबोर सीट का प्रतिनिधित्व किया. फिलहाल इस सीट से उनके बेटे गौरव गोगोई सांसद हैं.

-तरुण गोगोई का कद उस वक्त बढ़ा जब साल 1976 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की अगुआई में वह ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के जॉइंट सेक्रेटरी चुने गए. साल 1985 से 1990 तक वह पार्टी के महासचिव भी रहे. तब प्रधानमंत्री राजीव गांधी थे. जब पीवी नरसिम्हा राव प्रधानमंत्री बने तो उन्होंने उनकी कैबिनेट में (1991-96) खाद्य प्रसंस्करण राज्यमंत्री का कार्यभार संभाला.

-वह 1986 से 90 तक असम प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भी रहे. इसके बाद 1996 में वह दोबारा इस पद के लिए चुने गए.

-गोगोई चार बार विधायक भी रहे. उन्होंने सबसे पहले मार्गेरिटा विधानसभा क्षेत्र से (1996-98) जीत हासिल की. इसके बाद 2001 से वह तिताबर विधानसभा सीट से चुने जाते रहे.

-साल 2001 में हुए विधानसभा चुनावों में जब कांग्रेस ने शानदार जीत हासिल की तो तरुण गोगोई को मुख्यमंत्री बनाया गया. इसके बाद रिकॉर्ड तीन बार वह लगातार सीएम चुने गए.

-लेकिन 2014 के लोकसभा चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन के बाद उनके नेतृत्व पर सवाल उठने लगे. असम की 14 लोकसभा सीट से कांग्रेस कुल 3 ही जीत पाई. जबकि बीजेपी ने 7 सीटें जीतीं, जो असम से किसी भी पार्टी द्वारा लोकसभा चुनाव में जीती गईं सबसे ज्यादा सीटें हैं.

-चुनाव से पहले गोगोई ने ऐलान किया था कि अगर कांग्रेस 14 सीटों में से 7 पर जीत हासिल नहीं कर पाई तो वे मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे देंगे. जुलाई 2014 में उन्होंने संकेत दे दिया था कि वह 2016 के विधानसभा चुनाव में पार्टी का नेतृत्व नहीं करेंगे.चुना था माता-पिता से अलग करियरतरुण गोगोई के पिता डॉ कमलेश्वर गोगोई रंगजन टी एस्टेट में एक मेडिकल प्रैक्टिशनर थे. वहीं उनकी मां उषा गोगोई कवियत्री थीं. वो प्रसिद्ध कवि गणेश गोगोई की छोटी बहन थीं, इसके अलावा उन्हें अपने कविता संग्रह, हियार सामर (दिल का खजाना) के लिए खास पहचान मिली थी. तरुण गोगोई ने अपने माता-पिता से अलग अपना करियर एक वकील के तौर पर शुरू किया.

उन्होंने साल 1963 में असम की गुवाहाटी यूनिवर्सिटी से एलएलबी की. वो सामाजिक कार्यों और राजनीति में भी गहरी रुचि रखते थे.30 जुलाई 1972 को, गोगोई ने डॉली गोगोई से विवाह किया. डॉली ने जीव विज्ञान से पढ़ाई की थी. उनके एक बेटे गौरव गोगोई और बेटी चंद्रमा गोगोई हैं.बागवानी था पसंदीदा काम असम राज्य में सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी निभाने वाले तरुण गोगोई ने अपने बिजी समय में से एक खास वक्त बागवानी और किताबों को दिया. उन्हें पढ़ने का हमेशा शौक रहा. इसके अलावा खेलों के प्रति भी उनकी रुचि रही. वो टेनिस और फुटबॉल जैसे गेम पसंद करते थे. वह अखिल असम मोइना परिजात, बच्चों के संगठनों और भारत युवक समाज के पूर्व कोषाध्यक्ष रह चुके हैं. हाल ही में एनआरसी को लेकर भी वो खूब चर्चा में रहे. इसके विरोध में उन्होंने याचिका डाली थी और 36 साल बाद फिर से काला कोट पहनकर कोर्ट पहुंचने को लेकर खूब चर्चा बटोरी थी.  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.