December 5, 2020

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

दिल्ली दंगे: पूर्व डीजीपी ने कहा- देशभक्तों को फंसा और नफरती भाषण देने वाले भाजपा नेताओं को छोड़ रही पुलिस

रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी रिबेरो मुंबई पुलिस कमिश्नर, गुजरात और पंजाब के डीजीपी और रोमानिया में भारतीय राजदूत भी रह चुके हैं।

नई दिल्ली |रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी जूलियो फ्रांसिस रिबेरो ने दिल्ली दंगों में पुलिस की भूमिका पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने दिल्ली पुलिस कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव को एक पत्र लिखकर सांप्रदायिक दंगों में जांच की भूमिका पर भी सवाल उठाए हैं। रिबेरो मुंबई पुलिस कमिश्नर, गुजरात और पंजाब के डीजीपी और रोमानिया में भारतीय राजदूत भी रह चुके हैं।

दिल्ली सांप्रदायिक दंगा मामले में दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा और उत्तर-पूर्व जिला पुलिस ने 100 से अधिक चार्जशीट दाखिल की हैं और करीब 1400 लोगों को गिरफ्तार किया है। पत्र में पूर्व आईपीएस अधिकारी ने कहा, ‘दिल्ली पुलिस ‘शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों’ के खिलाफ कार्रवाई कर रही है, जबकि भाजपा के वरिष्ठ नेताओं की अनदेखी कर रही है, जिन्होंने हिंसा के लिए भड़काऊ और सार्वजनिक तौर पर सांप्रदायिक भाषण दिए। सच्चे देशभक्त आपराधिक मामलों में फंस रहे हैं।’

पत्र में उन्होंने आगे कहा, ‘मैंने आपको भारी मन से लिखा है। एक सच्चे देशभक्त और भारतीय पुलिस सेवा के पूर्व स्वाभिमानी सदस्य के रूप में, मैं आपसे अपील करता हूं कि प्रदर्शनकारियों के खिलाफ दर्ज 753 एफआईआर में निष्पक्ष जांच सुनिश्चित करें। दिल्ली पुलिस ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के खिलाफ कार्रवाई की है। मगर जानबूझकर उन लोगों के खिलाफ संज्ञेय अपराधों को दर्ज करने में विफल रही जिन्होंने नफरत फैलाने वाले भाषण दिए थे, जिनसे उत्तर-पूर्व दिल्ली में दंगे भड़क गए।’

उन्होंने आगे लिखा कि ये मेरे जैसों को परेशान करने वाला है कि भाजपा नेता कपिल मिश्रा, अनुराग, ठाकुर और प्रवेश वर्मा जैसों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई, जबकि धर्म के आधार पर भेदभाव का विरोध करने वाली महिलाओं को अपमानित किया गया और महीनों तक जेल में रखा गया।

इधर दंगों के मामले में दिल्ली पुलिस ने माकपा महासचिव सीताराम येचुरी, स्वराज अभियान के नेता योगेंद्र यादव, अर्थशास्त्री जयती घोष, दिल्ली विश्वविद्यालय के प्राध्यापक एवं कार्यकर्ता अपूर्वानंद और डॉक्यूमेंटरी फिल्मकार राहुल रॉय के नाम सह-षडयंत्रकर्ताओं के रूप में दर्ज किए हैं।

आरोप है कि इन लोगों ने सीएए का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों को ‘किसी भी हद तक जाने को कहा’, सीएए-एनआरसी को मुस्लिम विरोधी बताकर समुदाय में नाराजगी बढ़ाई और भारत सरकार की छवि खराब करने के लिए प्रदर्शन आयोजित किए। दिल्ली के उत्तर पूर्वी जिले में 23 से 26 फरवरी के बीच हुए दंगों में पुलिस ने जो पूरक आरोप-पत्र दायर किया है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Powered By : Webinfomax IT Solutions .
EXCLUSIVE