September 27, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

देवरिया: परिषदीय स्कूल में जान जोखिम में डालकर पढ़ रहे हैं 177 स्कूलों के छात्र

देवरिया:परिषदीय विद्यालयों में बच्चे जान जोखिम में डालकर पढ़ने को मजबूर हैं। जिले में ऐसे 177 परिषदीय विद्यालय हैं जिनके भवन जर्जर हालत में हैं। इसमें सर्वाधिक 48 विद्यालय सदर ब्लॉक में हैं। नगर क्षेत्र में कई भवन ऐसे हैं जो गिरने की हालत में हैं।

 

 

बेसिक शिक्षा परिषद के अधीन जिले में 26सौ विद्यालय संचालित होते हैं। इनमें से 177 विद्यालयों के भवन जर्जर हालत हैं। विभाग इन भवनों को चिन्हित किया जा चुका है। कुछ विद्यालयों में तो कक्षा की कमी से जर्जर भवनों में भी कक्षाएं भी लगती हैं। भारी बारिश के दिनों में खासतौर से भवनों के गिरने का भय बढ़ जाता है।

 

 

इससे कभी भी कोई हादसा हो सकता है। जर्जर भवनों में सर्वाधिक 48 भवन में विद्यालय सदर ब्लॉक में है। दूसरे नंबर पर बनकटा में 39 जर्जर भवन हैं। सबसे अधिक खस्ताहाल भवनों में भागलपुर 38 के साथ तीसरे नंबर पर हैं। भाटपार रानी और गौरीबाजार में 33 विद्यालयों के भवन जर्जर हैं।

 

लार क्षेत्र में रुद्रपुर क्षेत्र में 27 भवन जर्जर हैं। बैतालपुर में 24, पथरदेवा में 21, बरहज में 18, भटनी में 18 और तरकुलवा में 15 जर्जर भवन चिन्हित किए गए हैं। भलुअनी में सात, देसरही देवरिया में छ:, सलेमपुर में पांच और सबसे कम नगर क्षेत्र में एक भवन चिन्हित हैं। इन भवनों को अब गिराने की तैयारी है।
परिषदीय विद्यालयों के जर्जर भवन चिन्हित कर लिए गए हैं। इन भवनों को नियमानुसार गिराने की प्रक्रिया शीघ्र ही शुरु की जाएगी। सभी प्रधानाध्यापकों को जर्जर भवनों में कक्षा संचालित करने से मना किया गया है।

 

ओमप्रकाश यादव

बेसिक शिक्षा अधिकारी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.