January 25, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

बस्ती:पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की जयंती सुशासन दिवस के रूप में मनायी गयी

बस्ती:पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्व0 अटल बिहारी बाजपेयी की जयन्ती सुशासन दिवस के रूप में मनायी गयी

बस्ती। पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्व0 अटल बिहारी बाजपेयी की जयन्ती सुशासन दिवस के रूप में पूरे जिले में मनायी गयी। मुख्य कार्यक्रम पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्व0 अटल बिहारी बाजपेयी ऑडिटोरियम बस्ती में आयोजित किया गया।जहाँ सांसद हरीश द्विवेदी,जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन, पुलिस अधीक्षक हेमराज मीणा ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया।


कार्यक्रम में मा0 प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कुल 90490345 किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का रू0 180980690000 धनराशि उनके खातों में स्थानांतरित किया। इसमें से जिले के कुल 418576 किसानों को रू0 83.71 करोड़ की धनराशि उनके खातों में प्राप्त हुयी है। इस अवसर पर पूर्व प्रधानमंत्री स्व0 अटल बिहारी बाजपेयी तथा पं0 मदनमोहन मालवीय की जयन्ती पर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए प्रधानमंत्री ने अपने सम्बोधन में कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री, स्वर्गीय अटल बिहारी बाजपेयी ने भगवतगीता के संदेशो के अनुसार अपना जीवनयापन किया। उन्होने प्रधानमंत्री रहते हुए गाॅव, गरीब, किसान के कल्याण के लिए योजनाए संचालित किया।


उन्होंने कहा कि वे भ्रष्टाचार को राष्ट्रीय रोग मानते थे, इसलिए उन्होने इसको समाप्त करने के लिए सार्थक कदम उठाया। प्रधानमंत्री ने कहा कि वर्तमान सरकार भी उनके दिखाये गये रास्ते पर चलते हुए कार्य कर रही है। जो पैसा किसान, मजदूर तक पहुचने में 100 के स्थान पर मात्र 15 रह जाता था, तकनीक के इस्तेमाल से अब पूरा-पूरा पैसा किसान के खाते में पहुॅच रहा है। उन्होने बताया कि पी0एम0 किसान सम्मान निधि योजना में अबतक 110 लाख हजार करोड़ रूपये की धनराशि किसानो के खातो में भेजी जा चुकी है।


उन्होंने बताया कि किसानों द्वारा मामूली प्रीमियम की धनराशि जमा करने पर उन्होने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ आसानी से प्राप्त हो रहा है। इस योजना के अन्तर्गत 90 हजार करोड़ रूपया किसानों को उनके फसल क्षति का मुआवजा दिया जा चुका है। उन्होने कहा कि स्वामीनाथ कमेटी की रिपोर्ट को वर्तमान सरकार लागू कर रही है।


उन्होंने बताया कि किसानों को उनके उत्पादन का लाभकारी मूल्य दिलाने के लिए देश की एक हजार कृषि उत्पादन मण्डी को आनलाइन जोड़ा गया है। इसके माध्यम से किसान लाभकारी मूल्य प्राप्त कर रहे है। किसानों को माइक्रोइरीगेशन, उनके गाॅव के पास ही उत्पादों का भण्डारण, किसानों, पशुपालको, मछुआरो के लिए किसान क्रेडिट कार्ड की सुविधा से जोड़कर उन्हें लाभान्वित किया जा रहा है।


उन्होंने कहा कि किसानों के जीवनस्तर में सुधार करने के लिए उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना, प्रधानमंत्री जन आरोगय-आयुष्मान भारत योजना, सौभाग्य योजना के अन्तर्गत पक्का आवास, गैस सिलेण्डर, 05 लाख रूपये तक सरकारी अथवा निजी अस्पताल में निःशुल्क इलाज की सुविधा तथा बिजली कनेक्शन उपलब्ध कराया जा रहा है। साथ ही मृदा स्वास्थ्य कार्ड तथा सिचांई के लिए सोलर पम्प किसानों को उपलब्ध कराया जा रहा है। इसके अलावा 60 वर्ष आयु पुरी करने वाले किसानों को 03 हजार रूपये मासिक पेंशन भी दी जा रही है। प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर उ0प्र0 के महराजगंज जिले तथा अरूणाचल प्रदेश, उड़ीसा, गुजरात के किसानों से सम्वाद भी किया।


प्रधानमंत्री ने जोर देकर कहा कि नये कृषि कानूनों के बारे में किसानों के बीच भ्रम फैलाया जा रहा है। उन्होने स्पष्ट किया कि किसी भी दशा में इससे किसानों का कोई क्षति नही होगा। किसान पूरे देश में आनलाइन कही भी अपने उत्पाद को बेच सकेंगे तथा लाभकारी मूल्य हासिल कर सकेंगे। कान्टैªक्ट फार्मिंग से उनके भूमि के मालिकाना हक पर कोई खतरा नही होंगा। उत्पाद बेचने को लेकर किसान और कान्टैक्ट कम्पनी के बीच समझौते से फसल की क्षति होने पर भी किसानों को उतना ही मूल्य प्राप्त होंगा। इसमें यह भी प्रावधान है कि कान्ट्रैक्ट करने वाली कम्पनी किसी भी दशा में कान्ट्रैक्ट समाप्त नही कर सकती, जबकि किसान ऐसा कर सकेंगे। भारत सरकार के कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने सभी का स्वागत करते हुए कहा कि नये कृषि कानूनों के संबंध में किसान संगठनों से वार्ता के लिए सरकार हमेशा तैयार है।


प्रेक्षागृह में आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए सांसद हरीश द्विवेदी ने कहा कि भूतपूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी तथा पं0 मदनमोहन मालवीय को श्रद्धांजलि अर्पित किया तथा उनके व्यक्तित्व एंव कृतित्व पर प्रकाश डाला। उन्होने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा संचालित योजनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि इससे लोगों के जीवनस्तर में सुधार आया है। किसानों को उनके उत्पाद का लाभाकारी मूल्य प्राप्त हुआ है।


उन्होंने कहा कि मूल्य समर्थन योजना में किसानों को उनके उत्पाद का डेढ गुना दाम प्राप्त हो रहा है। सरकार द्वारा 03 गुना से अधिक गेहॅू व धान एवं अन्य उत्पादों की खरीद की जा रही है। उन्होने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोनाकाल में प्रधानमंत्री द्वारा रू0 500 प्रत्येक जनधन खातो में उनकी सहायता के लिए भेजे गये। प्रवासी मजदूरों के राशन, भोजन, रोजगार की व्यवस्था करायी गयी। समारोह को जिलाध्यक्ष महेश शुक्ला ने भी सम्बोधित किया। सभी आगतो के प्रति जिलाधिकारी ने आभार व्यक्त किया। समारोह का संचालन जिला कृषि अधिकारी संजेश श्रीवास्तव ने किया।


इस अवसर पर हरित क्रान्ति योजना के अन्तर्गत लालचन्द्र तथा रामकृपाल को रू0 40300 का रोटावेटर यंत्र पर अनुदान तथा रामकुमार, रामजीत एवं आनन्द कुमार को 10-10 हजार रूपया पम्पसेट पर अनुदान का चेक दिया गया। साथ ही लकड़ा फार्मर प्रोडुयूसर कम्पनी तथा सोनूपार फार्मर प्रोडुयूसर कम्पनी को फार्म मशीनरी बैंक की चाॅभी दी गयी। जिला औद्यानिक मिशन के अन्तर्गत 05 लोगों को पैकहाउस स्थापना के लिए 2-2 लाख रूपये कुल 10 लाख रूपया का अनुदान दिया गया। साथ ही उद्यान विभाग की ओर से पावर ट्रीलर का स्वीकृति पत्र 05 लाभार्थियों को 75-75 हजार रूपये का अनुदान दिया गया।


इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी अभय कुमार मिश्रा, उप निदेशक कृषि डाॅ0 संजय त्रिपाठी, एसडीएम सदर आशाराम वर्मा, सीओ गिरीश कुमार सिंह, अनूप खरे, अखण्ड सिंह, विवेकानन्द मिश्रा, जगदीश शुक्ला, प्रमोद पाण्डेय, भारी संख्या में किसान उपस्थित रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.