June 18, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

बस्ती:मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना में पात्र कन्याओं को लाभान्वित करने के लिए एक सप्ताह का अभियान संचालित करने के लिए जिलाधिकारी ने दिया निर्देश..

बस्ती:मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना में पात्र कन्याओं को लाभान्वित करने के लिए एक सप्ताह का अभियान संचालित करने के लिए जिलाधिकारी ने दिया निर्देश

बस्ती| मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना में पात्र कन्याओं को लाभान्वित करने के लिए एक सप्ताह का अभियान संचालित करने के लिए जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिया है। सीएमओ, बीएसए, कार्यक्रम अधिकारी, डीआईओएस तथा नगर निकाय के सभी अधिशासी अधिकारियों को भेजे गये पत्र में उन्होने कहा है कि 24 हजार लक्ष्य के सापेक्ष एक वर्ष में मात्र 6647 आवेदन स्वीकृत किए गये है।


उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना का मुख्य उद्देश्य कन्या भ्रूण हत्या को समाप्त करना, सामान लैंगिक अनुपात सीमित करना, बाल विवाह की कुप्रथा को रोकना, बालिकाओं के स्वास्थ्य व शिक्षा को प्रोत्साहन देना, बालिकाओ को स्वावलम्बी बनाने में सहायता प्रदान करना, बालिका के जन्म के प्रति समाज में सकारात्मक सोच विकसित करना है।


उन्होंने कहा है कि योजना के अन्तर्गत 06 विभिन्न श्रेणियों में बालिकाओं को आर्थिक सहायता दिये जाने का प्रावधान किया गया हैं। इस योजना में 24 हजार का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जिसमें सीएमओ 07 हजार, बीएसए 05 हजार, कार्यक्रम अधिकारी 03 हजार, डीआईओएस 07 हजार तथा अधिशासी अधिकारियों द्वारा नगर निकाय में 02 हजार लक्ष्य है।


उन्होंने कहा कि खण्ड शिक्षा अधिकारी स्तर पर 461, डीआईओएस स्तर पर 105, बीडीओ स्तर पर 496, बीएसए स्तर पर 23 तथा एसडीएम स्तर पर 30 आवेदन पत्र आनलाइन लम्बित है। इसको तीन दिन में निस्तारण करने का निर्देश दिया गया है।


जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया है कि निर्धारित लक्ष्य की पूर्ति हेतु अपने क्षेत्र में अभियान चलाकर मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना का प्रचार-प्रसार कराते हुए शासनादेशानुसार श्रेणियों में पात्र आवेदको से आनलाइन पोर्टल mksy.up.gov.in पर आवेदन कराये तथा इसकी सूचना एक सप्ताह के अन्दर जिला प्रोबेशन अधिकारी को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना मा0 मुख्यमंत्री जी की एक महत्वाकाॅक्षी योजना है, इसमें किसी भी प्रकार की शिथिलता न बरती जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.