September 29, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

बस्ती: अपने पूर्वज ऋषियों के तर्पण, वेदाध्ययन, व श्रवण-मनन का महापर्व है श्रावणी उपाकर्म-आचार्य ओमव्रत

अपने पूर्वज ऋषियों के तर्पण, वेदाध्ययन, व श्रवण-मनन का महापर्व है श्रावणी उपाकर्म-आचार्य ओमव्रत

बस्ती 12 अगस्त|आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर आर्य समाज नई बाजार बस्ती द्वारा आयोजित श्रावणी उपाकर्म एवं वेदप्रचार सप्ताह के अंतर्गत आज का यज्ञ मुरलीजोत मुहल्ले में संपन्न हुआ जिसमें रघुवंश सिंह व योग शिक्षक अजीत कुमार पाण्डेय मुख्य यजमान रहे। यज्ञ कराते हुए गुरुकुल तरतारपुर हापुड़ से पधारे आचार्य ओमव्रत जी ने बताया कि श्रावणी उपाकर्म अपने पूर्वज ऋषियों के तर्पण, वेदाध्ययन, व श्रवण-मनन का महापर्व है।

प्राचीन काल में इसी दिन विद्यार्थियों का यज्ञोपवीत संस्कार कर उन्हें वेदाध्ययन कराया जाता था। पुराने यज्ञोपवीत धारण किया जाता है। कालांतर में यह रक्षाबन्धन के रूप में भाई बहन के प्रेम का त्यौहार बन गया जिसमें बहन की रक्षा का व्रत लेता है। इस अवसर पर पंडित नेम प्रकाश त्रिपाठी ने भजनोपदेश करते हुए कहा कि हमें यज्ञ से अपने जीवन को पवित्र बनाना चाहिए। इससे वेदप्रचार, स्वाध्याय व ऋषि तर्पण तीनों कार्य एक साथ होते हैं।

कार्यक्रम का संचालन करते हुए आचार्य देवव्रत आर्य ने कहा कि यह कार्यक्रम 19अगस्त जन्माष्टमी तक प्रतिदिन सायं 6:30 बजे से रात्रि 9:30बजे तक चलेगा जिसमें वैदिक मंत्रों का अत्यंत सरल रूप में विद्वानों द्वारा व्याख्या की जाएगी। रक्षाबंधन के पावन पर्व व श्रावणी पूर्णिमा के अवसर पर ओम प्रकाश आर्य प्रधान आर्य समाज नई बाज़ार बस्ती ने जनपदवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं दीं हैं और सभी भाई बहनों के स्वस्थ व निरोगी जीवन की कामना की है।

 

इस अवसर पर जनपद के विभिन्न स्थानों पर वेद के विद्वान ब्राह्मणों द्वारा यज्ञ, सामुहिक योग, व सस्वर वेदपाठ किया जाता है और वेद रक्षा का व्रत लेते हैं। योग शिक्षक गरुण ध्वज पाण्डेय ने कहा कि श्रावणी उत्सव को ऋषि तर्पण उत्सव भी कहा जाता है जो हमें अपने पूर्वज ऋषियों की सनातन परम्परा का अनुसरण व अनुकरण करने की प्रेरणा देता है। इस अवसर पर नवल किशोर चौधरी अनूप कुमार त्रिपाठी गणेश आर्य राजेंद्र जयसवाल शंकर जयसवाल रवि कुमार मोहिनी राधा देवी कार्तिकेय संतोष कुमार रोहित कुमार श्लोक कुमार सहित अनेक लोग उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.