June 27, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

बस्ती: किशोरी संग छेड़खानी करने के आरोपी के खिलाफ पॉक्सो ऐक्ट न लगाना मुंडेरवा थानेदार को पड़ा भारी

बस्ती:मुंडेरवा थानांतर्गत एक गांव की रहने वाली किशोरी के अधिवक्ता पिता की मौत एक हादसे में मई में हो चुकी है। पीड़िता की मां के मुताबिक गांव में चार-पांच दिन बिजली गड़बड़ रहने के चलते सत्रह वर्षीय बेटी पास में ही मौजूद पेट्रोल पंप पर मोबाइल चार्ज करने के लिए लगा आई थी। कुछ देर बाद मोबाइल लेने गई तो पेट्रोल पंप मालिक ने उसे अपने केबिन में बुलाकर हालचाल पूछा।

 
मौका देखकर केबिन का दरवाजा और सीसीटीवी बंद कर दिया। उसके साथ छेड़खानी करने लगे। विरोध पर जबरदस्ती करते हुए नौकरी दिलाने का लालच दिया। बेटी किसी तरह हाथ-पैर जोड़कर घर आई। जानकारी होने पर 14 जुलाई को मुंडेरवा थाने में छेड़खानी की धाराओं में मुकदमा लिखा गया। विवेचना सही चल रही थी कि इसी बीच विवेचक का तबादला लालगंज थाना क्षेत्र में कर दिया गया।

 

दूसरे विवेचक ने एक माह के अंदर ही आरोपी को बचाने के लिए लीपापोती करते हुए फाइनल रिपोर्ट लगा दी। मां के मुताबिक, शिकायत पर थानाध्यक्ष ने अपशब्द कहते हुए थाने से भगा दिया। चारों तरफ से निराश होकर उसने आईजी का दरवाजा खटखटाया। न्याय का आश्वासन मिला है।

 

किशोरी संग छेड़खानी करने के आरोपी के खिलाफ पॉक्सो ऐक्ट न लगाना और माह भीतर ही आरोपी को बचाने के लिए लीपापोती करते हुए मामले में एफआर लगाना एसओ मुंडेरवा को काफी भारी पड़ सकता है। पीड़िता की विधवा मां की गुहार पर नाराज आईजी ने एसओ से स्पष्टीकरण तलब करते हुए अपने स्तर से मामले की विवेचना कराने की बात कही है। साथ ही घटना के दिन की सीसीटीवी फुटेज भी तलब की है। आईजी का यह तेवर देख अन्य थानेदारों की हालत खराब है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.