August 9, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

बस्ती: छात्र नेता के मर्डर से जुड़े महत्वपूर्ण सुराग लगे हाथ : एडीजी

बस्ती: छात्रनेता कबीर हत्याकांड में पुलिस के हाथ बेहद अहम सुराग लगे हैं। हत्याकांड की मुख्य वजह के साथ ही नामजद आरोपितों को ट्रेस करने की तफ्तीश में शनिवार को दिनभर एडीजी आशुतोष पांडेय व आईजी आशुतोष कुमार लगे रहे। सर्किट हाउस में जांच में लगे पुलिस अफसरों से बारी-बारी बातचीत कर अपडेट जाना। एडीजी श्री कुमार का कहना है कि हत्याकांड में महत्वपूर्ण सुराग मिले हैं।

 

 

जांच में काफी चीजें निकलकर सामने आ रही हैं। फरार आरोपित भी जल्द ही गिरफ्त में होंगे। एक-दो दिन में कई तथ्य उभर कर सामने आने की पूरी उम्मीद है। छात्रनेता कबीर तिवारी की हत्या के बाद शहर के बिगड़े हालात की जांच करने के लिए शासन स्तर से 9 अक्टूबर को एडीजी अभियोजन आशुतोष कुमार पांडेय को जिले में भेजा गया था। उन्होंने प्रकरण में कबीर की हत्या के बाद जिला अस्पताल ले जाने से लेकर शहर में हुई तोड़फोड़ से जुड़े हर पहलु की जांच की।

 

 

उन्होंने माना कि जिला अस्पताल से रेफर होने के बाद एंबुलेंस को पुलिस की कस्टडी में भेजा जाना चाहिए था। शहर में हत्याकांड से कुछ दिनों पहले छात्रगुटों के बीच हुई मारपीट में भी कोतवाली पुलिस ने सही एक्शन नहीं लिया। पुलिस व प्रशासन के बीच बेहतर तालमेल न होने के कारण नौ अक्टूबर को एंबुलेंस में शव लेकर कोतवाली पहुंचने के बाद हालात बेकाबू होने लगे थे। इन सभी पहलुओं की रिपोर्ट उनके स्तर से शासन को भेजी जा चुकी है। जिले के डीएम व एसपी को हटा दिया गया है। इस प्रकरण में कुछ थानेदारों पर भी कार्रवाई की तलवार लटक रही है।

 

 

 

एसटीएफ भी खंगाल रही कॉल रिकार्डकबीर हत्याकांड में घटना के बाद पिस्टल व तमंचे के साथ दबोचे गए दो हमलावरों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है। पुलिस के हाथ इनका मोबाइल लगा था। इसके आधार पर काफी अहम सुराग हाथ लगे हैं। साथ ही पुलिस ने कुछ और संदिग्धों के नंबरों को रडार पर ले रखा है। एडीजी स्तर से कॉल डिटेल खंगालने में एसटीएफ को भी जिम्मेदारी सौंपी जा चुकी है। कड़ी से कड़ी जोड़कर पुलिस हत्याकांड से जुड़े सभी किरदारों को सामने लाने में जुटी है।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.