September 29, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

बस्ती: डीएम ने स्थापित अतिखतरनाक प्रकृति के कारखानों में सुरक्षा के व्यापक प्रबंध करने के दिए निर्देश

डीएम ने स्थापित अतिखतरनाक प्रकृति के कारखानों में सुरक्षा के व्यापक प्रबंध करने के दिए निर्देश

बस्ती 23 अगस्त। जिले में स्थापित अतिखतरनाक प्रकृति के कारखानों में सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किए जाने के लिए जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन ने सभी विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया है। कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित जिला संकट स्थिति समूह की बैठक को सम्बोधित करते हुए उन्होने कहा कि प्रत्येक कारखानों के लिए अलग आपात योजना तैयार की जाय। आपदा आने के पश्चात् तत्काल जिला प्रशासन को सूचित किया जाय।

उल्लेखनीय है कि 1984 में भोपाल गैस त्रासदी के पश्चात् उ0प्र0 सरकार द्वारा इस समूह के गठन का निर्णय लिया गया है। इसके अनुसार रासायनिक दुर्घटनाओ से निपटने के लिए समूह का गठन एंव कार्ययोजना तैयार करने का निर्देश दिया गया है। जिला स्तरीय संकट स्थित समूह की जिलाधिकारी अध्यक्ष है। सहायक निदेशक कारखाना गोरखपुर इसके संयोजक है।

इसके अलावा पुलिस अधीक्षक, सीएमओ, एसडीएम, अग्निशमन अधिकारी, सूचना अधिकारी, अध्यक्ष व्यापार मंडल, मुख्य अभियन्ता जल निगम, क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण अधिकारी, कृषि अधिकारी, आरटीओ, चेम्बर्स आफ इडस्ट्री के सचिव, उद्योग प्रतिनिधि मेसर्स बजाज, हिन्दुस्तान शुगर लि0 रूधौली तथा मेसर्स सुयश पेपर मिल, आपदा विशेषज्ञ तथा नागरिक सुरक्षा के निदेशक इसके सदस्य है।

जिलाधिकारी ने सुगर मिल रूधौली तथा सुयश पेपर मिल के प्रतिनिधियों से मिल में रासायनिक आपदा से सुरक्षा के प्रबंधो की जानकारी लिया। उन्होने निर्देश दिया कि समय-समय पर माकड्रिल करके सुरक्षा प्रबंधों का जायजा लें तथा प्रत्येक विभाग के रिस्पांस टाइम का आकलन करें। उन्होने अग्निशमन यंत्र हमेशा तैयार रखने का निर्देश दिया। उन्होेने अग्निशमन अधिकारी को निर्देशित किया है कि समय-समय पर ऐसे मिलों का निरीक्षण कर सुरक्षा का जायजा लें तथा रिपोर्ट दें। अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) अभय कुमार मिश्र ने कहा कि कारखानो में रासायनिक अतिज्वलनशील पदार्थ प्रचुर मात्रा में भण्डारित होता है। उन्होने मुण्डेरवा चीनी मिल को भी इसमें शामिल करने का निर्देश दिया। यहॉ पर एथनाल बनाने के साथ-साथ बिजली भी पैदा की जाती है।

सहायक निदेशक गोरखपुर ए0के0 सिंह ने अति ज्वलनश्शील पदार्थो की परिचालन एवं उपयोग हेतु सुरक्षा मानको के बारे में अवगत कराया। औद्योगिक एवं रासायनिक आपदा के न्यूनीकरण हेतु आपदा विशेषज्ञ रंजीत रंजन को निर्देशित किया गया कि जनपद मे स्थापित औद्योगिक इकाइयो से समन्वय स्थापित कर उनका आन साइट एवं आफ साइट प्लान तैयार कर वर्ष में कम से कम एक बार मॉकड्रिल का कार्यक्रम आयोजित किया जाय। समस्त औद्योगिक इकाइयों द्वारा लगाये गये सुरक्षा मापक यन्त्रो को सूचीवद्ध कर इन्डियन डिजास्टर रिर्सोस नेटवर्क (भारत सरकार) के साइट पर अपलोड कराये।

बैठक में उप जिलाधिकारी रूधौली आनन्द श्रीनेत, रूधौली चीनी मिल से आर.के. सिन्हा, बीसी मंण्डल दिनेश कुमार, संजय कुमार, चौधरी फ्लोर मिल से सुनील कुमार, दीवान चन्द, केदारनाथ सिंह, अग्निशमन अधिकारी पशुपति, चेम्बर्स आफ इंडस्ट्री के सचिव हरिशंकर शुक्ला, व्यापार मंडल के अध्यक्ष आनन्द राजपाल, विद्युत से अरूण कुमार श्रीवास्तव तथा विभागीय अधिकारीगण उपस्थित रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.