July 7, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

बस्ती मेडिकल कॉलेज के डाक्टरो ने किया कमाल,मासूम बच्चे के गले में फंसे सिक्के को बिना आपरेशन के निकाला

बस्ती 01 जून| उम्र के बच्चे अक्सर शरारती होते हैं उन्हें जैसे ही कोई चीज जमीन छोटीया बिस्तर के आस-पास पड़ी मिलती है तो वह तुरंत उसे उठाकर मुंह में डाल लेते हैं, जो माता-पिता के लिए चिंता का सबब बन सकता है। बच्चों को अक्सर जो चीज आकर्षित करती है वे उसे खाने की ओर दौड़ पड़ते हैं। आपने अक्सर देखा होगा कि छोटे बच्चे अनजाने में सिक्का उठाकर अपने मुंह में डाल लेते हैं, जो भोजन या सांस- नली में फंसकर उनके लिए जानलेवा साबित हो सकता हैं।

गोंडा जिले के छपिया थानांतर्गत खजौरी गांव के मोहन लाल के छह वर्षीय बेटे नीरज ने सोमवार को तरबूज खाने के दौरान 10 रुपए का सिक्का निगल लिया। सांस और खाने की नली के बीच सिक्का अटक गया। दर्द से छटपटा रहे मासूम को लेकर पेशे से मजदूर मोहन सीएचसी छपिया गए। डॉक्टर ने हालत गंभीर देख तुरंत जिला अस्पताल बस्ती रेफर कर दिया। जिला अस्पताल बस्ती के चिकित्सकों ने मेडिकल कालेज गोरखपुर ले जाने की सलाह दी।

निराश परिजन गोरखपुर जाने की तैयारी कर रहे थे कि किसी ने बताया कि मेडिकल कॉलेज बस्ती में इसका इलाज संभव है। मोहन बेटे को लेकर मेडिकल कॉलेज गए जहां रात करीब एक बजे एक्सरे से देखने के बाद पता चला कि सिक्का खाने की नली में ‘क्रीकोफैरिंग के पास अटका हुआ है। इसके तुरंत बाद सीनियर डॉ. मोहम्मद आमीर के साथ जेआर डॉ. आमीर खान और नॉन पीजी जेआर डॉ. अमित नायक ने इलाज शुरू किया। पीडियाट्रिक डिपार्टमेंट की हेड डॉ. अलका शुक्ला के निर्देशन में ‘फालीज कैथेटर विधि, से सिक्के को बाहर निकाल लिया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.