January 18, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

ब्रिटेन में कोरोना के नए वर्जन का खौफ,अब तक ब्रिटेन से आए 20 संक्रमित,ब्रिटेन की आवाजाही पर लगी पाबंदी

नई दिल्ली |ब्रिटेन में टीकाकरण अभियान के बीच कोरोना का नया घातक रूप सामने आया है। वायरस का यह नया वर्जन और तेजी से फैलने और बढ़ने वाला बताया जा रहा है। भारत के कई राज्यों में कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामले ब्रिटेन से आने वाले यात्रियों के कारण मिल रहे हैं। वहां से आने वाली उड़ानों के जरिए अब तक देश के विभिन्न राज्यों में कुल 20 संक्रमित यात्री आ चुके हैं। हालांकि, अभी यह कहना मुश्किल है कि ये सभी कोरोना की नई स्ट्रेन से संक्रमित हुए हैं।


ब्रिटेन से लौटे यात्रियों के कोविड संक्रमित होने की पुष्टि अब तक कर्नाटक, चेन्नई, दिल्ली, अमृतसर और कोलकाता में हुई है। इसे देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के ज्वाइंट मॉनिटरिंग ग्रुप ने तत्काल एक बैठक बुलाई और ब्रिटेन में कोविड-19 के हालात का भारत में प्रभाव का जायजा लिया। साथ ही इसके समाधान पर भी चर्चा की। कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के कारण ब्रिटेन में सनसनी है और वहां सरकार ने लॉकडाउन लागू कर दिया है। वहीं भारत ने ब्रिटेन से आने वाली सभी उड़ानों पर 31 दिसंबर तक के लिए प्रतिबंध लगा दिया है।

भारत सरकार सर्तक, संक्रमण रोकने को दिए ये निर्देश

ब्रिटेन में मिले कोरोना वायरस के एन वर्जन के चलते भारत सरकार सतर्क हो गई है। सरकार ने आदेश दिया है कि ब्रिटेन से आने वाले यात्रियों की भारत आने पर कोरोना जांच कराई जाएगी । इनमें से जो भी यात्री संक्रमित पाया जाएगा, उसके लिए अलग से आइसोलेशन की व्यवस्था की जाएगी। 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने ब्रिटेन में कोरोना के नए वर्जन के खतरे को देखते हुए वहां से लौटने वाले यात्रियों के लिए ‘मानक संचालन प्रक्रिया’ (एसओपी) जारी की है। एसओपी के मुताबिक, 21 से 23 दिसंबर के बीच ब्रिटेन से भारत आए यात्रियों में अगर कोरोना का संक्रमण पाया जाता है, तो उन्हें इस खास स्ट्रेन (वायरस का नया रूप) के लिए अलग से जांच करवानी होगी। इसकी जिम्मेदारी राज्य सरकार की होगी। साथ ही यात्रियों को 14 दिनों की यात्रा का विवरण भी देना होगा। 

ब्रिटेन से आने वाले यात्री के कोरोना संक्रमित होने पर इन्हें राज्य सरकार के आइसोलेशन सेंटर में रखा जाएगा। नमूनों को जांच के लिए एनआईवी पुणे भेजा जाएगा। अगर संक्रमित व्यक्ति में साधारण कोरोना वायरस पाया जाता है, तो उसे होम आइसोलेशन में भी रखा जा सकता है। अगर व्यक्ति में कोरोना का नया रूप पाया जाता है, तो उसे 14 दिन सरकारी आइसोलेशन में बिताने होंगे। जहां एक बार फिर उसकी कोरोना जांच की जाएगी। 24 घंटे के अंतराल में दो बार नमूनों के निगेटिव आने पर ही व्यक्ति को छुट्टी दी जाएगी। वहीं 25 नवंबर से अब तक ब्रिटेन से भारत आए लोगों की जानकारी ब्यूरो आफ इमिग्रेशन संबंधित राज्य सरकारों को देगा।

ब्रिटेन की आवाजाही पर पाबंदी
भारत ने सोमवार को 23 से 31 दिसंबर तक ब्रिटेन के लिए विमानों की आवाजाही पर रोक लगाने का ऐलान किया ताकि ब्रिटेन में आए कोविड-19 के नए स्ट्रेन का संक्रमण देश में फैलने से रोका जा सके। भारत के अलावा करीब 40 देशों ने ब्रिटेन से आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया है।वहीं नेपाल ने भी ब्रिटेन से आने वाली उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिया है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.