June 29, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

 

मैं एक भूत हूँ |

बरसों से मैं इसी पेड़ के नीचे बैठा हूँ |
कितना समय बीत गया है यहाँ बैठे-बैठे, इसका मुझे कोई अंदाजा नहीं | ५ वर्ष या ५० वर्ष, मुझे सब समान लगने लगा है | मुझे पता है तुम्हें विश्वास नहीं हो रहा होगा कि इस दुनिया में भूत भी हो सकते हैं | मुझे भी नहीं था जब तक मैं जीवित था |

 

मेरे पिता एक धनी व्यक्ति थे | इसलिए मैंने अपने जीवन में कभी कोई जिम्मेदारी नहीं ली | हमेशा घूमना-फिरना मौज-मस्ती ही मेरा जीवन था | मित्रों के साथ मैं पूरी दुनिया घूमा हूँ | अच्छे कपड़े पहनना, बड़े होटलों में खाना इन सब चीजों का मुझे बहुत शौक था | मेरी मृत्यु भी मेरे शौक के कारण ही हुई |

 

एक पार्टी में शामिल होने की जल्दबाजी में मैं गाड़ी बहुत तेज चला रहा था | सामने से आती हुई एक बस की गति का मैं ठीक से अंदाजा नहीं लगा पाया और मेरी गाड़ी उससे टकरा गई | उसके बाद क्या हुआ इसका मुझे पता नहीं | फिर अचानक एक दिन मैं जागा | मुझे लगा किसी गहरी नींद से सोकर उठा हूँ | कुछ ठीक से याद नहीं आ रहा था | आसपास देखा तो मेरे माता-पिता बिलख-बिलखकर रो रहे थे | मेरे दादा-दादी, भाई-बहन सबकी आँखों में आँसू थे | पहले तो मैं समझ ही नहीं पाया कि क्या हो रहा है | जब मैंने ध्यान दिया तो देखा कि मैं तो उनके पास ही लेटा हूँ | मुझे ही देख कर सब दुखी हो रहे हैं |

 

images(1)

 

कुछ क्षण के लिए तो मेरा सिर चकरा गया कि मैं एक साथ दो जगह कैसे ? मैनें तुरंत अपनी माँ को यह बताने की कोशिश की पर वह मेरा बोलना सुन नहीं पा रही थी | मैंने एक-एक कर सब से बात करने का प्रयत्न किया पर कोई भी मुझे सुन नहीं पा रहा था | मैंने लोगों को छूने का प्रयत्न किया पर न मैं उन्हें महसूस कर पा रहा था न वो मुझे | आसपास के लोगों को सफेद कपड़ो में देख कर, उन्हें मेरे माता-पिता को मेरी मृत्यु पर दिलासा देते देख कर मुझे समझ आया कि मेरी मृत्यु हो चुकी है | मेरा शरीर सामने पड़ा था और मैं उससे बाहर | मैं एक भूत बन चुका था |

 

इस सत्य ने मुझे पूरी तरह हिला कर रख दिया | न मैं किसी से बात कर सकता था न कुछ खा सकता था और न ही कुछ महसूस कर सकता था | भूख तो लगती भी नहीं थी किंतु खाने की इच्छा बहुत होती थी | माता-पिता से बात न कर पाने का दुख, मित्रों से बोल न पाने का दुख सहना मेरे लिए बहुत कठिन था |

 

images(2)

 

मैं कई वर्षों तक अपने परिवार के आसपास भटकता रहा | होटलों के आसपास चक्कर काटता रहा | अपनी जान पहचान वाले कई लोग दिख जाते पर कोई मुझे नहीं देख पाता | मेरे दुख का कोई पारावार न था |

 

एक दिन मैंने मेरे परिवार वालों को बात करते सुना कि जिस बस के साथ मेरी दुर्घटना हुई थी उसके ड्राइवर को ७ वर्ष की जेल हो गई है | यह सुनकर तो मुझ पर बिजली टूट पड़ी | मेरे कारण वह बेचारा जेल जाएगा | मेरी गलती की सजा उसको मिल रही है | मैंने अपने माता-पिता को पुलिस को सच बताने का बहुत प्रयत्न किया, पर कोई फायदा नहीं | भूत की आवाज कोई नहीं सुन सकता |

 

images(3)

 

अपनी परिस्थिति से दुखी होकर मैं कई वर्ष पूर्व इस पीपल के पेड़ के नीचे आकर बैठ गया | तब से न जाने कितने वर्ष बीत गए, इसका कोई अंदाजा नहीं | मुझे आज तक कोई दूसरा मेरे जैसा नहीं दिखा | मैं कब तक ऐसा रहूँगा ? मेरा भविष्य क्या होगा ? इसका भी मुझे पता नहीं | मैं दिन-रात ईश्वर से यही प्रार्थना करता हूँ कि मुझे इस भूत वाले जीवन से मुक्ति मिले | मेरी आत्मकथा सुनने के बाद आशा है आप भी भगवान से मेरी मुक्ति के लिए प्रार्थना करेंगे |

 

और गाड़ी धीरे चलाएंगे। यातायात नियमों के अनुसार चलें, नहीं तो भूत तो बनेंगे ही , हां अगर भूत नहीं बनें तो गाड़ी के दाम से ज्यादा जुर्माना भी देना पड़ सकता है।

nm3113_3911814_835x547-m

 

Leave-Sooner
Drive- Slower
Live-Longer

2000px-NYCDOT_SW-675.svg

ये भी पढ़ें ⬇️

बिना हेलमेट के घूम रहे थे दरोगा, युवक ने कहा ‘हेलमेट लगा लो नहीं तो फाड़ कर रख दूंगा’

अब अगर गाड़ी पर लिखा मिला ‘उत्तर प्रदेश सरकार’ तो सरकारी कर्मचारी होंगे निलंबित

15000 की स्कूटी पर 23000 का चालान, नए ट्रैफिक नियम पड़ गए भारी

आधुनिक तकनीक और मानवीय संवेदनाएं

गांवों की समस्याएं

आखिर सड़क हादसे राजनीतिक मुद्दा क्यों नहीं बनते?

सावधान! विकास के रास्ते विनाश के वास्ते?

चुनाव आचार संहिता : क्यों और कैसे?

भारत नहीं, कोलंबिया यूनिवर्सिटी में पढ़ाई जाती है डॉ. भीमराव आम्बेडकर की आत्मकथा

 

3 thoughts on “भूत की आत्मकथा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.