June 24, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

मैं कागज़ हूं तो क्या हुआ , मैं ताकतवर हूं

सबसे पहले मैं आपको अपना परिचय दे दूँ – “मैं हूँ पैसा”
मेरा साधारण रूप है, दुर्बल सी काया है, लेकिन मैं दुनियाँ को पुनर्व्यवस्थित करने की क्षमता रखता हूँ।

         मैं इन्सान का व्यवहार और प्रकृति बदलने की क्षमता  रखता हूँ। क्योंकि इन्सान मुझे आदर्श मानता हैं। कई लोग अपने व्यवहार को बदल देते है, अपने दोस्तों को धोखा देते है, अपना शरीर बेच देते है, यहाँ तक कि अपना धर्म छोड़ देते है, सिर्फ मेरे लिए।

          मैं नेक भ्रष्ट में फर्क नहीं करता, लोग मुझे प्रतिष्ठा के मानक के तौर पर इस्तेमाल करते है कि आदमी अमीर है या गरीब, इज्जतदार है या नहीं।

         मैं शैतान नहीं हूँ, लेकिन लोग अक्सर मेरी वजह से गुनाह करते हैं।

          मैं तीसरा व्यक्ति नहीं हूँ, लेकिन मेरी वजह से पति पत्नी आपस में झगड़ते है।

           ये सही है कि मैं भगवान नहीं हूँ लेकिन लोग मुझे भगवान की तरह पूजते है। यहाँ तक कि भगवान को पूजने वाले भी मेरी भक्ति करते है, भले ही वो आपको इससे दूर रहने की सलाह देते हैं।

          वैसे तो मुझे लोगों की सेवा करनी चाहिये लेकिन लोग मेरे गुलाम बनना चाहते हैं।

           मैंने कभी किसी के लिए बलिदान नहीं दिया, लेकिन कई लोग मेरे लिए अपनी जान दे रहे हैं।

          मै याद दिलाना चाहता हूँ कि मैं आपके लिए सब कुछ खरीद सकता हूँ, आपके लिए दवाईयाँ ला सकता हूँ, लेकिन आपकी उम्र नहीं बढा सकता।

         एक दिन जब भगवान का बुलावा आयेगा तो मैं आपके साथ नहीं जाऊँगा बल्कि आपको अपने पाप भुगतने के लिए अकेला छोड़ दूँगा और यह स्थिति कभी भी आ सकती है। आपको अपने बनाने वाले को खुद ही जवाब देना पड़ेगा और उसका निर्णय स्वीकारना होगा।


 उस समय सर्व शक्तिमान आपका फैसला करेगा और मेरे बारे में पूछेगा, लेकिन मैं आपसे अभी पूछता हूँ- “क्या आपने जीवन भर मेरा सही इस्तेमाल किया या  आपने मुझे ही भगवान बना दिया ?”
एक अंतिम जानकारी मेरी तरफ से….
मैं “ऊपर” आपके साथ नहीं जाऊँगा बल्कि आपकी सत्कर्मों की पूंजी ही आपके साथ चलेगी।
मुझे वहाँ मत ढूँढ़ना।
“मैं पैसा हूँ”…सोच समझ कर जीवन यापन किजिये ईश्वर आप के साथ रहे!!!
धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.