January 16, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

मैं मुलायम : यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के संघर्ष और सफलता की कहानी

Main Mulayam Singh Yadav Release Date : महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस और नरेंद्र मोदी की जीवनी पर फिल्म के बाद अब बारी है मुलायम सिंह यादव की. उत्तर प्रदेश के तीन बार मुख्यमंत्री और एक बार देश के रक्षा मंत्री रह चुके समाजवादी पार्टी के सबसे बड़े नेता मुलायम सिंह यादव की जीवनी पर बनी फिल्म ‘मैं मुलायम’ 22 जनवरी, 2021 को रिलीज होगी.

गुरुवार को इसका ट्रेलर कोलकाता में लॉन्च हुआ. फिल्म की प्रोड्यूसर मीना सेठी मंडल हैं, जबकि निर्देशक शुभेंदु राज घोष. फिल्म में मुलायम सिंह यादव की भूमिका अभिनेता अमित सेठी ने निभायी है. फिल्म के संबंध में प्रोड्यूसर मीना सेठी मंडल ने बताया कि मुलायम सिंह यादव अपने आप में शक्ति के प्रतीक हैं.

उन्होंने कहा कि फिल्म में उनकी कार्यकर्ता से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनने तक की यात्रा दिखायी जायेगी. फिल्म बनाने से पहले उन्होंने मुलायम सिंह यादव के अलावा अखिलेश यादव से भी मुलाकात की थी. बाद में जब फिल्म का टीजर तैयार हुआ, तो उसे भी उन्होंने श्री यादव को दिखाया था. उसे देख कर वह बेहद खुश हुए थे.

श्रीमती मंडल कहती हैं कि वह बंगाल से हैं और चाहती थीं कि बंगाल में ट्रेलर रिलीज हो. आखिर मुलायम सिंह यादव पर ही बायोपिक बनाने की क्यों सोची? इस पर वह कहती हैं कि एक बार नेट पर सर्च के दौरान उन्होंने श्री यादव के बारे में पढ़ा और बेहद प्रभावित हुईं. इसके बाद उन्होंने स्क्रिप्ट राइटर रशीद इकबाल से इस संबंध में शोध करने को कहा.

शोध कार्य में करीब तीन महीने लगे. हालांकि, शूटिंग में दो महीने ही लगे. शूटिंग उत्तर प्रदेश के अलावा मुंबई, पुणे, चंडीगढ़ में हुई है. फिल्म पूरी तरह सच्ची घटनाओं पर आधारित है. हालांकि, दर्शकों को ध्यान में रखते हुए इसमें गाने भी डाले गये हैं. फिल्म का बजट करीब 7.5 करोड़ रुपये का है और इसे डॉन सिनेमा की ओर से समूचे विश्व में रिलीज किया जा रहा है.

मैं मुलायम में इन लोगों ने की है एक्टिंग


फिल्म में मिमो चक्रवर्ती, गोविंद नामदेव, मुकेश तिवारी, प्रकाश बेलावड़ी, सुप्रिया कार्निक, सायाजी शिंदे, राजकुमार कनोजिया, जरीना वहाब और अनुपम श्याम भी हैं. फिल्म में चौधरी चरण सिंह की भूमिका में गोविंद नामदेव और डॉ राम मनोहर लोहिया की भूमिका में प्रकाश बेलवाड़ी होंगे.

सुप्रिया कार्निक इंदिरा गांधी की भूमिका में नजर आयेंगी. मिथुन चक्रवर्ती के बेटे मिमो चक्रवर्ती, शिवपाल यादव तथा गोपाल सिंह रामगोपाल यादव की भूमिका में नजर आयेंगे. जरीना वहाब श्रीमती यादव की भूमिका निभायेंगी. श्रीमती मंडल कहती हैं कि फिल्म के जरिये एक बेहद खूबसूरत संदेश देने की उन्होंने कोशिश की है.

उन्होंने कहा कि संदेश यह है कि जैसे मुलायम सिंह यादव तमाम कठिनाइयों और संघर्षों का सामना करते हुए मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंचे, उसी तरह मेहनत और संघर्ष के जरिये किसी भी मुकाम को हासिल किया जा सकता है.

नेहरू के जमाने से अडिग है ये ‘धरतीपुत्र’, मोदी लहर भी नहीं डिगा सकी


गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव देश के उन चुनिंदा नेताओं में से हैं, जिन्होंने करीब 6 दशक से देश की राजनीति को न सिर्फ जिया है, बल्कि उस पर अपनी ‘धरतीपुत्र’ छवि का ठप्पा भी लगाया है. 80 वर्ष पूरे कर चुके मुलायम सिंह यादव करीब 59 वर्ष से राजनीतिक जीवन में सक्रिय हैं. 1960 में राजनीतिक जीवन की शुरुआत करने के वाले मुलायम सिंह यादव देश के उन ​चुनिंदा नेताओं में से एक हैं, जो अपने राजनीतिक जीवन में किंग मेकर से लेकर ​किंग तक की भूमिका में रहे. चाहे वह केंद्र की सत्ता हो या उत्तर प्रदेश की, हर जगह मुलायम ने अपना लोहा मनवाया.

1967 में पहली बार जीतकर पहुंचे यूपी विधानसभा


22 नवंबर 1939 को मुलायम सिंह एक साधारण परिवार में जन्मे. उन्होंने अपने शैक्षणिक जीवन में B.A, B.T और राजनीति शास्त्र में M.A की डिग्री हासिल की. उनकी पूरी पढ़ाई केके कॉलेज इटावा, एक.के कॉलेज शिकोहाबाद और बीआर कॉलेज आगरा यूनिवर्सिटी से पूरी हुई. मालती देवी से शादी के बाद साल 1973 में मुलायम सिंह के घर उनके बेटे अखिलेश यादव ने जन्म लिया. लेकिन तब तक वह राजनीति की दुनिया में अपने कदम जोरदार तरीके से जमा चुके थे.
देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के जमाने में 1960 में मुलायम सिंह यादव ने राजनीति की शुरुआत की थी और 1967 के चुनाव में वह पहली बार विधायक बन चुके थे. राजनीति में कूदने के लिए उन्हें प्रेरित करने वाली शख्सियत का नाम राम मनोहर लोहिया था. इसके बाद तो उन्होंने लोकसभा से लेकर यूपी विधानसभा में अपनी गहरी छाप छोड़ी. राजनीति में मुलायम के कद का इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि 2014 की मोदी लहर में जब कई सियासी दिग्गज हार का मुंह देख रहे थे, मुलायम सिंह यादव ने अकेले दो सीटों मैनपुरी और आजमगढ़ से जीत दर्ज की. बाद में उन्होंने मैनपुरी सीट अपने ही परिवार के तेज प्रताप यादव के लिए छोड़ दी और आजमगढ़ से सांसद रहे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.