May 20, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

रमजान या रमादान में से सही क्या है… इस्लाम धर्म के इस पवित्र महीने के नाम को लेकर कन्फ्यूजन क्यों है?

न्यूज डेस्क 2अप्रैल |दुनियाभर के मुसलमानों के लिए पवित्र महीने यानी माह-ए-रमजान (Ramzan) की शुरुआत होने वाली है. इस्लाम (Islam) धर्म में चलने वाले इस्लामिक हिजरी कैलेंडर के मुताबिक साल का 9वां महीना रमजान का होता है. धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, इस माह-ए-रमजान में पूरे महीने भर रोजे (Roza) रखे जाते हैं. रात के आखिरी पहर से उपवास शुरू होता है ओर सूर्यास्त के बाद व्रत तोड़ा जाता है. कुछ समुदायों में इसकी अवधि अलग होती है. चांद का दीदार होने के आधार पर महीने के आखिरी दिन ईद मनाई जाती है.

बहरहाल, इस माह-ए-पाक को लेकर सोशल मीडिया पर बधाइयों का दौर शुरू हो चुका है. लोग अपने दोस्तों-रिश्तेदारों को इसकी बधाई दे रहे हैं. लेकिन आप गौर करेंगे तो पाएंगे कि बधाई संदेशों में कहीं ‘रमजान मुबारक’ (Ramzan Mubarak) तो कहीं ‘रमादान मुबारक’ (Ramadan Mubarak) लिखा जा रहा है. यानी रमजान शब्द का भी इस्तेमाल हो रहा है और रमादान शब्द का भी. ऐसे में सवाल कई सारे हैं. ये रमज़ान है या रमादान? दोनों में से कौन-सा शब्द सही है? इसको लेकर कन्फ्यूजन क्यों है?

ये भी पढे:Ramadan: रमजान क्यों मनाई जाती है और इसकी सच्चाई क्या है?

अरबी और उर्दू भाषा का फेर

जामिया हमदर्द यूनिवर्सिटी में असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ मोहम्मद ​जीशान बताते हैं कि नाम को लेकर जो कन्फ्यूजन है वह उर्दू और अरबी भाषा को लेकर है. उन्होंने बताया कि रमादान अरबी लफ्ज है, जबकि रमजान उर्दू शब्द. दोनों ही नाम सही हैं. दुबई की एक मल्टीनेशनल कंपनी में कार्यरत भारतीय मुस्लिम स्कॉलर मो रेहान अली ने बताया कि खाड़ी के देशों (Gulf Countries) में रमादान बोला जाता है, क्योंकि इन देशों में अरबी भाषा की प्रधानता है, न कि उर्दू की. वहीं भारत में उर्दू की प्रधानता के कारण रमजान बोला जाता है.

अरबी में क्यों बोला जाता है रमादान?

रमजान उर्दू लफ्ज है और रमादान अरबी लफ्ज. लेकिन ऐसा क्यों है, इस बारे में भी डॉ ​जीशान ने बताया. उन्होंने कहा कि अरबी भाषा की जो वर्णमाला है, उसमें देखेंगे तो ‘ज़्वाद’ अक्षर का स्वर अंग्रेजी में जेड (Z) के बजाय डी की संयुक्त ध्वनि (ḍād) होता है. इसीलिए अरबी में इसे रमजान की बजाय रमादान कहा जाता है. बहुत सारे लोग इस तर्क से इत्तेफाक नहीं रखते, लेकिन यह एक बड़ी वजह हो सकती है।

 

More Read: Ramadan: रमजान क्यों मनाई जाती है और इसकी सच्चाई क्या है?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.