June 24, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

रिजर्व बैंक के खजाने में कितनी रकम, कितना है सरप्लस फंड? यहां जानें सबकुछ

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने अपने खजाने से सरकार को 1.76 लाख करोड़ रुपये की राशि देने का निर्णय लिया है. आरबीआई की ओर से सरकार को दी गई यह अब तक की सबसे बड़ी राशि होगी. पूर्व गवर्नर बिमल जालान की अगुआई वाली कमेटी की सिफारिशों को आरबीआई की बोर्ड मीटिंग में स्वीकार कर लिया गया. इस 1.76 लाख करोड़ में से 1.23 लाख करोड़ रुपये वित्त वर्ष 2018-19 के सरप्लस (अधिशेष) के रूप में और 52,637 करोड़ रुपये रिजर्व से दिए जाएंगे, जो अतिरिक्त प्रावधान बताया जा रहा है. आइए समझते हैं कि आखिर रिजर्व बैंक का कितना बड़ा है खजाना और क्या होता है उसका सरप्लस और रिजर्व फंड.

 
इतना कुल भंडार, इतना है सोना:-
रिजर्व बैंक के साल 2017-18 के आंकड़ों के अनुसार, उसके बहीखाते में 36.2 लाख करोड़ रुपये की रकम है. हालांकि रिजर्व बैंक का बहीखाता किसी कंपनी की तरह पूरी तरह मुनाफे का नहीं होता. वह जितना करेंसी नोट छापता है उसका आधा से ज्यादा हिस्सा लायबिलिटी यानी देनदारी के रूप में होता है. खजाने का 26 फीसदी हिस्सा रिजर्व बैंक का सरप्लस रिजर्व होता है. यह सरप्लस असल में विदेशी या भारत सरकार की प्रतिभूतियों और गोल्ड में निवेश के रूप में होता है. टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, रिजर्व बैंक के पास करीब 566 टन सोना है. कुल खजाने का करीब 77 फीसदी हिस्सा विदेशी एसेट और रिजर्व के रूप में है. इसको लेकर रिजर्व बैंक और वित्त मंत्रालय में मतभेद भी रहा है कि उसके पास कितना रिजर्व होना चाहिए.

 

2. कितना है रिजर्व फंड
रिजर्व बैंक के पास दो तरह के रिजर्व होते हैं करेंसी ऐंड गोल्ड रीवैल्यूएशन अकाउंट (CGRA) और कॉन्ट‍िजेंसी फंड यानी आपात निधि. रिजर्व में सबसे बड़ा हिस्सा CGRA का होता है. साल 2017-18 में इसके तहत कुल 6.9 लाख करोड़ रुपये थे. यह उस गोल्ड और विदेशी करेंसी की वैल्यू है जो भारत की तरफ से रिजर्व बैंक के पास रहता है. बाजार के हिसाब से इस वैल्यू में उतार-चढ़ाव होता रहता है. कॉन्ट‍िजेंसी फंड या आपात निधि रिजर्व बैंक के पास मौजूद ऐसी राशि होती है, मौद्रिक नीति या एक्सचेंज रेट में बदलाव के समय जिसकी जरूरत पड़ सकती है. साल 2017-18 में रिजर्व बैंक के कॉन्ट‍िजेंसी फंड में 2.32 लाख करोड़ रुपये थे.

images(24)
क्या होता है रिजर्व बैंक का सरप्लस:-
रिजर्व बैंक का सरप्लस या अधिशेष राशि वह होती है जो वह सरकार को दे सकता है. रिजर्व बैंक को अपनी आय में किसी तरह का इनकम टैक्स नहीं देना पड़ता. इसलिए अपनी जरूरतें पूरी करने, जरूरी प्रावधान और जरूरी निवेश के बाद जो राशि बचती है वह सरप्लस फंड होती है जिसे उसे सरकार को देना होता है. रिजर्व बैंक को आय मुख्यत: सिक्यूरिटीज यानी प्रतिभूतियों में निवेश पर मिलने वाली ब्याज से होता है. रिजर्व बैंक ने साल 2017-18 में 14,200 करोड़ रुपये कॉन्टिजेंसी फंड के लिए तय किए थे. जितना ज्यादा इस फंड के लिए प्रोविजनिंग की जाती है, रिजर्व बैंक का सरप्लस उतना ही कम हो जाता है. वर्ष 2018-19 में रिजर्व बैंक ने 1,23,414 करोड़ रुपये का सरप्लस सरकार को देना तय किया है.

images(25)

ये भी पढ़ें ⬇️

आख़िर डॉलर कैसे बना दुनिया की सबसे मज़बूत मुद्रा

क्या डॉलर के बिना नहीं चल पाएगी भारत की अर्थव्यवस्था;

आखिर में कोई क्र्यू नहीं चाहता कि उसका बेटा किसान बने?

एशिया के त्रिदेव: भारत-जापान-चीन

भारत को सोने की चिड़िया क्यों कहा जाता था? जानिए

बड़े साहब के हस्ताक्षर के लिए भटकते पिता को देख बेटी ने खाई थी कसम, बनी IAS

कौन था फिरोज शाह जिसके नाम की जगह अब अरुण जेटली के नाम पर होगा स्टेडियम

उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर जिले के रहने वाले अरविंद कुमार वर्मा बने बक्सर के जिलाधिकारी

2 thoughts on “रिजर्व बैंक के खजाने में कितनी रकम, कितना है सरप्लस फंड? यहां जानें सबकुछ

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.