August 9, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

लोकराजा राजर्षि छत्रपति शाहू जी महाराज स्मृति शताब्दी वर्ष 2022 विनम्र अभिवादन!

लोकराजा राजर्षि छत्रपति शाहू जी महाराज स्मृति शताब्दी वर्ष 2022 विनम्र अभिवादन!

 

न्यूज डेस्क |यदि हम मानव संस्कृति का इतिहास देखें तो कृषि के विकास ने एक विकसित समाज के उद्भव में योगदान दिया है। विषय की पृष्ठभूमि में जाएं तो सत्रहवीं शताब्दी में ईस्ट इंडिया कंपनी और कई अन्य विदेशी व्यापारी भारत आए। उन्होंने आधुनिक जीवन शैली का परिचय दिया और साथ ही शोषण की व्यवस्था को मजबूत किया। उन्नीसवीं सदी में जब ब्रिटिश साम्राज्य पूरे भारत में फैल गया तो महात्मा फुले और दादाभाई नौरोजी ने भारतीय कृषि की लूट को लेकर आवाज उठाई।

इसका नतीजा यह हुआ कि बाद के दौर में विभिन्न उपनिवेशवादियों ने मेहनतकशों के जीवन में समृद्धि लाने के लिए अपना उदारवादी चेहरा प्रस्तुत किया। देखा जाए तो कोल्हापुर रियासत के राजा छत्रपति शाहू महाराज मेहनतकश किसानों के जीवन को बदलने के लिए विशेष प्रयास करने वाले अग्रदूतों में से एक हैं। यही वजह है कि 21वीं सदी में जो सामाजिक आंदोलन हुए, वे उनकी रचनात्मक सोच और कार्य से प्रभावित हैं और आंदोलनकारियों ने अपने आंदोलनों में शाहू महाराज की तस्वीरों का इस्तेमाल किया।

वर्ष 2022 राजर्षि छत्रपति शाहू महाराज स्मृति-शताब्दी वर्ष है। मराठा के भोंसले राजवंश और कोल्हापुर रियासत के राजा शाहू महाराज को भारतीय इतिहास में एक लोकतांत्रिक शासक और सामाजिक सुधारक के तौर पर देखा जाता है। यह बात तो सर्वविदित है ही कि सामाजिक सुधारक ज्योतिबा फुले के योगदान से प्रभावित शाहू महाराज ने अपने राज्य में निचली कही जाने वाली जातियों को लेकर कई प्रगतिशील तथा उदारवादी निर्णय लिए थे, लेकिन हम यहां उन्हें एक अलग संदर्भ में याद करना चाहते हैं। संदर्भ है कि क्या आधुनिक भारत के रूप में हम अभी भी शाहू महाराज की जल-नीति और उनकी कृषि-नीति से कुछ सीख सकते हैं?

‘किंग एडवर्ड कृषि संस्थान’ की स्थापना

यह जानते हुए कि देश का विकास कृषि के विकास पर निर्भर करता है, शाहू महाराज ने सचेत रूप से अपने राज्य में कृषि पर ध्यान दिया।

बात चाहे सूखे की हो या अकाल जैसी स्थितियों की हो या फिर पशु रोगों या कम उत्पादन की, शाहू महाराज ने इन प्रमुख बिंदुओं पर ध्यान देते हुए किसानों की आर्थिक विकास योजनाओं को रणनीति के स्तर पर लागू किया। अहम बात यह है कि एक शासक होकर भी शाहू महाराज ने कृषि संकट से निपटने के लिए किसानों से मुलाकातें कीं और संवाद के दौर शुरू किए। इस तरह, उन्होंने किसानों की वास्तविक समस्याओं को अच्छी तरह समझने का प्रयास किया।

यह महसूस करते हुए कि कृषि की खराब स्थिति किसानों की गरीबी को बढ़ाती है और उनके जीवन-स्तर को कम करती है, शाहू महाराज ने कृषि की उत्पादकता और किसानों की आय बढ़ाने के प्रयास शुरू किए। कोल्हापुर ऐसा राज्य था जब कृषि उत्पादन बढ़ाने और योजना को साकार करने के लिए आधुनिक तकनीकों को अपनाया गया था।

वर्ष 1912 यानी आज से 110 वर्ष पूर्व शाहू महाराज ने कोल्हापुर में ‘किंग एडवर्ड कृषि संस्थान’ की स्थापना की थी। इस संस्थान के माध्यम से उन्नत बीज, खाद, पशुपालन की जानकारी किसानों तक पहुंचने लगी। उनके प्रयासों से ही आधुनिक कृषि उपकरणों का एक संग्रहालय भी बनाया गया था।

साहूकारों पर लगाई पाबंदियां

इसके बाद शाहू महाराज ने किसानों के लिए दमनकारी कही जाने वाले वन-कानून और ऋण-नीति को बदल दिया। इस तरह से बतौर शासक उन्होंने जनता और खास तौर पर किसानों के बीच अपना विश्वास पैदा किया। शाहू महाराज ने वर्ष 1895 में अदालत के माध्यम से किसानों को ऋण देना शुरू किया, क्योंकि किसान साहूकारों से ऋण ले रहे थे और रुपये की दर से ब्याज दे रहे थे।

1 जून, 1899 को एक अध्यादेश जारी कर साहूकारों पर कई तरह की पाबंदियां लगा दी गईं, जिसके तहत किसानों की खेतों से खड़ी फसलों की जब्ती पर रोक लगा दी गई। इसके अलावा, महारानी विक्टोरिया की स्मृति में एक कोष की स्थापना करके, साहूकारों ने किसानों को उनकी जब्त की गई भूमि को पुनः प्राप्त करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना शुरू कर दिया।

यह मानते हुए कि यदि किसान जड़ी-बूटियों की खेती करते हैं तो उनकी आय में वृद्धि हो सकती है, उन्होंने किसानों को सागौन, हिरदा, बेहड़ा, आम, सौंफ, काजू और अन्य जड़ी-बूटियों की खेती करने के लिए प्रोत्साहित किया। गौर करने वाली बात यह भी है कि उनके शासन-काल में साबूदाने की खेती के लिए विशेष प्रोत्साहन दिया गया। इसके अलावा, वे आधुनिकतम कृषि उपकरणों के बारे में किसानों को जानकारी देने के लिए कृषि उपकरणों की प्रदर्शनी भी आयोजित कराते थे।

‘पन्हाला चाय नं.4’ नाम से नया ब्रांड

जैसे ही शाहू महाराज को लगा कि किसानों को नकदी फसलों की ओर रुख करना चाहिए, उन्होंने पन्हाला में चाय, कॉफी और रबर के विशेष बागान लगाए, साथ ही किसानों को आलू, कपास, भांग और रेशम जैसी फसलें उगाने के लिए प्रोत्साहित किया। पर्वतीय क्षेत्रों की जलवायु परिस्थितियों के कारण चाय उत्पादन प्रयोग काफी हद तक सफल रहा। उनके दौर में ‘पन्हाला चाय नं. 4’ नाम से एक नया ब्रांड जारी किया। यह सच है कि शाहू महाराज की मृत्यु के बाद ब्रांड का अंत हो गया, लेकिन किसानों को चाय जैसी नकदी फसलों की ओर मोड़ने के लिए उनकी नीति महत्वपूर्ण थी।

मानव जीवन और कृषि के बीच अंतर्संबंध की व्याख्या करते हुए शाहू महाराज ने कहा है, ”कृषि दोहरी समृद्धि लाती है। इससे सबसे पहले तो स्वयं को सुख मिलता है, साथ ही सभी मनुष्यों को सुख हासिल होता है। कृषि कार्य करते समय क्षत्रिय धर्म बाधित होता है तो यह समझ ही गलत है। जिस व्यक्ति पर समाज का क्रम और उत्थान निर्भर करता है, वह मनुष्य जो ऐसे कर्म करता है, वह मनुष्य संदेश देता है कि सही मायने में वही क्षत्रिय है, भोजन मनुष्य को भी जीवन देता है और दूसरों को भी। दुनिया में श्रम की प्रतिष्ठा महान है, बहुत महान है। कृषि श्रम की गरिमा है।”

उस समय कोल्हापुर रियासत की जनसंख्या आठ से नौ लाख के बीच थी। उनके शासन के दौरान कृषि मुख्य व्यवसाय था, लेकिन खेती छोटे जमीन के टुकड़ों में विभाजित थी। परिवार के विभाजन के कारण इसे अपरिहार्य माना जाता था। ऐसे समय में शाहू महाराज का मत था कि खेती में जमीन के छोटे टुकड़ों की व्यवस्था बदलनी पड़ेगी और बड़े पैमाने पर समूह में खेती को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए, ताकि खेती का व्यवसाय लाभदायक हो सके। उन्होंने यह राय व्यक्त की और उसी के अनुसार अपनी कृषि-नीति तैयार की।

अविभाज्य विरासत अधिनियम लागू किया

मणगाव सम्मेलन में बोलते हुए शाहू महाराज ने कहा था, ”अपने पुरखों की भूमि को साझा करें, ताकि आम आदमी न्यूनतम दस एकड़ जमीन साझा कर सके।” शाहू महाराज ने अपनी राय सिर्फ भाषणों तक ही सीमित नहीं रखी, बल्कि उन्होंने वर्ष 1913 में ‘अविभाज्य विरासत अधिनियम’ बनाया। उसके बाद यह निर्णय लिया गया कि कोई विरासत में मिली भूमि आवंटित नहीं की जा सकती है।

कोल्हापुर स्थित राधानगरी बांध शाहू महाराज की जल-नीति का प्रमाण है। इस स्पष्ट विचार के साथ कि जब तक कृषि को सिंचाई के तहत नहीं लाया जाएगा, तब तक किसानों की आय नहीं बढ़ेगी, उन्होंने पानी के उपयोग को ध्यान में रखते हुए कृषि-नीति बनाने का निर्णय लिया। उन्होंने कृषि को जलमग्न करने के लिए नए कुओं, झीलों, बांधों और नहरों का निर्माण शुरू किया। आज से सौ साल पहले राधानगरी बांध का निर्माण उनकी दूरदर्शिता को दर्शाता है। तथ्य यह है कि सौ साल से भी ज्यादा पुराना होने के बावजूद इस बांध का निर्माण बेहतरीन है। राधानगरी बांध परियोजना वर्ष 1909 में शुरू की गई थी। शाहू महाराज ने वर्ष 1918 तक इस बांध के निर्माण के लिए 14 लाख रुपए खर्च किए थे।

महाराष्ट्र के अन्य हिस्सों की तरह कोल्हापुर क्षेत्र भी सूखे से ग्रस्त था। इसलिए, सूखे के उन्मूलन के साथ-साथ शाहू महाराज ने भविष्य की जल योजना की नीति लागू की। उनका जोर जमीन से पानी निकाले बिना नदियों और झीलों के पानी के इस्तेमाल पर था। उन्होंने नए सार्वजनिक तालाबों के निर्माण के साथ-साथ मौजूदा झीलों की मरम्मत का कार्य भी किया। उन्होंने सिंचाई-विभाग भी बनाया और सूखे को स्थायी रूप से दूर करने के लिए एक सिंचाई अधिकारी नियुक्त किया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.