June 24, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

बस्ती: विकास खंड रुधौली के प्रभारी एडीओ पंचायत पर एफआईआर दर्ज

बस्ती: ग्राम पंचायत बजहा में एक बछड़ा व एक गाय की मौत हो गई थी। शनिवार को वहां तैनात सफाई कर्मी विजय सेन पटवा ने पशुओं के मरने की सूचना फोन पर प्रभारी एडीओ पंचायत रुधौली को दी तो उन्होंने गाली देते हुए पशुओं को लेकर भी अमर्यादित शब्दों का प्रयोग किया। जिसका आडियो सफाई कर्मी विजय सेन पटवा ने वायरल कर दिया। आडियो वायरल होने पर डीपीआरओ ब्रह्मचारी दूबे ने प्रभारी एडीओ राजेश पांडेय को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया।
हियुवा ने रविवार को प्रभारी डीएम अरविन्द कुमार पांडेय व एसपी पंकज कुमार को ज्ञापन देकर आरोपी एडीओ पंचायत के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की मांग की थी। रुधौली पुलिस ने हियुवा जिलाध्यक्ष अज्जू हिन्दुस्तानी की तहरीर पर एडीओ पंचायत राजेश पांडेय व एक अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। हालांकि बैकफुट पर आए सफाईकर्मी ने दबाव में आकर ऑडियो वायरल करने व एडीओ पंचायत के व्यवहार को आपसी सहमति के आधार पर समाप्त करने की बात कही थी।

 

 

सीडीओ ने ग्राम पंचायत बजहा की गौशाला का निरीक्षण

सीडीओ अरविन्द कुमार पांडेय ने ग्राम पंचायत बजहा की गौशाला का निरीक्षण किया। पता चला कि 19 सितम्बर को एक बछड़े व 20 सितम्बर को एक गाय की मौत हो गई थी। बछड़े की मौत का कारण अधिक हरा चारा खा लेने के कारण हुआ अफरा (गैस की बीमारी) तथा गाय की मौत का कारण गर्दन के पास रीढ़ की हड्डी में चोट लगना बताया गया।

 

अलबत्ता सफाई कर्मियों व ग्रामीणों ने सीडीओ को बयान दिया कि 19 और 20 सितम्बर को हुई पशुओं की मौत की सूचना क्षेत्रीय पशु चिकित्साधिकारी को दी गई थी, लेकिन कोई नहीं आया। मौके पर सीडीओ ने कहा कि पूर्व में ही बजहा की गोशाला के लिए निर्देश दिया गया था कि चारों तरफ गायों के बैठने के लिए ऊंचा चबूतरा बना दिया जाए, लेकिन निर्देश के बाद भी निर्माण नहीं हुआ। मोहलत मांगते हुए प्रधान ने सफाई कर्मियों के रोल पर सवाल खड़ा किया। कहा कि वह 24 घंटे गोशाला पर नहीं रहते हैं। ऐसे में वह अपने स्तर पर निजी कर्मी को रखना चाहते हैं, जो 24 घंटे काम करेगा।

 

ग्राम सचिव पर आरोप है कि उन्होंने पशुओं के मरने की सूचना उच्चाधिकारियों को नहीं दी। इतना ही नहीं समय पर उनका मोबाइल फोन भी बंद रहा। अलबत्ता ग्रामीणों ने सचिव फैज अहमद के समय-समय पर आने की बात कही। सीडीओ ने बीडीओ रुधौली को ग्राम सचिव के खिलाफ कार्रवाई का निर्देश दिया है।

 

हरा चारा है ही नहीं तो बछड़े की कैसे हो गई मौत

ग्रामीणों ने पशुपालन विभाग के इस दावे पर सवाल खड़ा कर दिया कि 19 सितम्बर को बछड़े की मौत अधिक मात्रा में हरा चारा खाने से हा गई। ग्रामीणों का कहना है कि गोशाला में हरा चारा है ही नहीं तो उसके कम या अधिक खाने का सवाल ही नहीं उठता है। गाय के मौत का कारण उसके गर्दन के पास रीढ़ की हड्डी में चोट लगना बताया गया। सवाल उठता है कि 19 और 20 सितम्बर बुलाने पर डॉक्टर तक आए ही नहीं तो उनके मौत की वजह कैसे जान गए? सफाई कर्मियों का कहना था कि मृत जानवर फूल रहे थे। बछड़े की मौत का तीसरा दिन व गाय के मौत का दूसरा दिन होने के चलते शव खराब होने लगे थे। डॉक्टर नहीं आए, इसलिए उन्हें जमीन में दफन कर दिया। ऐसे में बिना पोस्टमार्टम के मौत का कारण कैसे स्पष्ट हो गया?

 

 

निरीक्षण के दौरान मौजूद रहा हियुवा का प्रतिनिधिमंडल

हिन्दू युवा वाहिनी का प्रतिनिधि मंडल जिलाध्यक्ष अज्जू हिन्दुस्तानी के नेतृत्व में बजहा गोशाला पहुंचा। हियुवा ने सीडीओ से मांग किया कि प्रदेश सरकार की मंशा के अनुसार गोशालाओं का संचालन हो। इस कार्य में लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। जिला उपाध्यक्ष श्रीमान जयप्रकाश सिंह, जिला संयोजक आईटी सेल बबलू निषाद, जिला मंत्री जितेंद्र यादव, अनु सिंह श्रीनेत, राजकुमार सोनी, पंकज कुमार आदि मौजूद रहे। दूसरी तरफ हियुवा का प्रतिनिधिमंडल एसपी पंकज कुमार से मिलकर आरोपी एडीओ पंचायत के गिरफ्तारी की मांग की।

 

 

सफाई कर्मी संघ ने गोशाला से हटाने की मांग की

राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद अध्यक्ष अतुल कुमार पाण्डेय की अध्यक्षता में परिषद पदाधिकारियों, उत्तर प्रदेश ग्राम पंचायत राज सफाई कर्मचारी संगठन पदाधिकारियों, सफाई कर्मियों की संयुक्त बैठक लोहिया मार्केट परिसर में सम्पन्न हुई। बैठक में कहा गया कि शासनादेश के विरूद्ध सफाई कर्मियों की ड्यूटी गौशालाओं में लगा दिया गया है। सफाई कर्मियों को गौशाला से हटाकर उन्हें पूर्ववत स्थान पर भेजा जाए। यदि 11 अक्टूबर तक सफाई कर्मियों नहीं हटाया गया तो वह निर्णायक आन्दोलन करेंगे। मंजू देवी, ऊषा कुशवाहा, रेखा देवी, असलम अंसारी, रामसोहरत यादव, लालजी निषाद, प्रदीप कुमार, शिव कुमार यादव, मनोज चौधरी, सन्तोष तिवारी, अजय चौधरी, मुकेश मिश्र, मनोज, शितांश श्रीवास्तव, अनिल श्रीवास्तव, महेन्द्र प्रताप राव, भरतराम, दिनेश श्रीवास्तव, महेश चौधरी आदि मौजूद रहे।

 

‘बजहा की गोशाला में बछड़े की मौत गैस की बीमार व गाय की मौत रीढ़ की हड्डी में चोट लगने के कारण हुई थी। इसकी रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को भेज दी गई है। गोशाला में पशुओं की जांच के लिए चिकित्सक नियमित रूप से जाते हैं।

 

डॉ. अश्वनी कुमार तिवारी, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.