January 26, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

संतकबीर नगर: SP की वर्चुअल रैली से पहले गिरफ्तारियां, अखिलेश बोले- ‘डरी BJP के मुखौटे उतरने और पैर उखड़ने शुरू’

संतकबीरनगर|उत्तर प्रदेश के संत कबीरनगर में समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता सुनील सिंह समेत अन्य कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया गया। वे पार्टी की वर्चुअल रैली की तैयारियां कर रहे थे। सपा नेताओं की गिरफ्तारी के विरोध में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट किया है। उन्होंने बीजेपी सरकार पर हमला बोलते हुए लिखा कि गिरफ्तारी यह साबित करती है कि सपा सरकार बहुत डरी हुई है।

अखिलेश यादव ने ट्वीट किया, ‘किसानों के समर्थन में संत कबीर नगर में होने वाली सपा की वर्चुअल रैली के आयोजकों व सपा के कार्यकर्ताओं को यूपी की भाजपा सरकार ने गिरफ़्तार करके साबित कर दिया है कि वह सपा के आंदोलन से कितना डरी हुई है। अब देश-प्रदेश में जनविरोधी भाजपा के मुखौटे उतरने व पैर उखड़ने शुरू हो गए हैं।’

समाजवादी पार्टी ने बोला हमला
अखिलेश यादव के अलावा समाजवादी पार्टी ने ट्वीट किया, ‘किसानों के हक में उठने वाली समाजवादियों की आवाज को सत्ता के जोर से दबाने में लगे CM का कायरतापूर्ण कदम! DM को सूचित, राष्ट्रीय अध्यक्ष के संतकबीर नगर में वर्चुअल ‘किसान संवाद’ को प्रशासन ने रोका, कार्यक्रम स्थल को किया तहस नहस, संयोजक सुनील सिंह को किया गिरफ्तार, घोर निंदनीय!’

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष  अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा सरकार की नीतियां कारपोरेट की पोषक हैं। तीन कृषि अधिनियम बनाकर भाजपा सरकार ने किसानों के हितों पर गहरी चोट की है। इससे देश का किसान आंदोलित और आक्रोशित है। समाजवादी पार्टी किसानों के संघर्ष में उनके साथ है। भारत बंद में भी समाजवादी पार्टी किसानों के पक्ष में खड़ी रही।

उत्तर प्रदेश की राजनीति में किसानों के मसीहा चौधरी चरण सिंह हैं। 23 दिसम्बर 2020 को उनकी जयंती है। समाजवादी पार्टी इसे ‘किसान दिवस‘ के रूप में मनाएगी। 25 दिसम्बर 2020 को समाजवादी किसान घेरा का आयोजन होगा। गांव के स्तर पर किसानों के बीच अलाव जलाकर समाजवादी नेता भाजपा की किसान विरोधी नीतियों का पर्दाफाश करेंगे। 25 दिसम्बर 2020 को महाराजा बिजली पासी जयंती मनाई जाएगी।

किसानों की खेती कारपोरेट के हाथों गिरवी रखने तथा खेती पर से किसानों का स्वामित्व छीनने के लिए भाजपा सरकार तीन नए कानून ले आई है। इस कानून से किसान का हक और सम्मान दोनों छिन जाएंगे। इसलिए पूरे देश में किसान आंदोलन चल रहा है। समाजवादी पार्टी किसान को भाजपा की कुनीतियों से अवगत कराने के लिए ही समाजवादी पार्टी किसान घेरा कार्यक्रम का आयोजन कर रही है क्योंकि भाजपा नेतृत्व किसानों में भ्रम और भय फैलाकर अपनी राजनीतिक स्वार्थ पूरा करना चाहता है। किसानों को भाजपा नेता बदनाम कर रहे हैं। इस सबके खिलाफ समाजवादी पार्टी संघर्षरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.