September 19, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

सड़क में गड्ढे या गढ्ढे में सड़क…: एक स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम से कम नही!!

सड़क में गड्ढे…: एक स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम से कम नही!!
तिरछी नज़र: गड्ढे सड़क बनवाने में बरती गई ईमानदारी का परिचायक हैं। सड़क बनाने में जितनी अधिक ईमानदारी बरती गई होती है गड्ढे उतनी ही जल्दी और उतने ही ज़्यादा बनते हैं।

जीवन में, सड़क का बहुत ही महत्व होता है। सड़क ना हो तो जैसे जीवन ही न हो। आप इधर से उधर जा ही ना पाएं। और अगर जाना चाहें भी तो बहुत ही धीरे-धीरे जा पाएं। सड़क जीवन को तीव्रता प्रदान करती है। और अब तो तो तीव्रतम एक्सप्रेस-वे भी बनने लगे हैं।

हम स्कूलों में पढ़ते हैं कि पहली बड़ी लंबी सड़क शेरशाह सूरी ने बनवाई थी, पेशावर से कोलकाता तक। लेकिन यह वामपंथियों द्वारा लिखा गया, पढ़ाया गया ‘मिथ्या’ इतिहास है। पहली सड़क मुझे तो लगता है भगवान कृष्ण ने बनवाई होगी। भगवान राम तो जंगलों में पगडंडियों के रास्ते लंका गए थे और वापस हवाई मार्ग से लौटे थे। उसके बाद उनके इधर उधर जाने के वृतांत नहीं हैं। इसलिए भगवान राम को तो सड़क बनवाने की जरूरत नहीं पड़ी होगी। पर भगवान कृष्ण का तो मथुरा से द्वारका और द्वारका से हस्तिनापुर आना जाना लगा ही रहता था अतः उन्होंने ही पहली लंबी सड़क बनवाई होगी। और पहला गोल्डन ट्रायंगल भी मथुरा-द्वारका-हस्तिनापुर ही बना होगा। आशा है असली इतिहासकार समुचित बदलाव कर लेंगे और इस गोल्डन ट्रायंगल को भी ढूंढ लेंगे। आगे से बच्चों को भी इतिहास में यही पढ़ाया जायेगा।

 

लेकिन सड़क हो और उसमें गड्ढे ना हो ऐसा हमारे देश में तो हो ही नहीं सकता है। सड़क नई हो या पुरानी, किसी के भी शासनकाल में बनी हो, उसमें गड्ढे होना लाजमी है। सड़क दस साल पहले बनी हो, दो साल पहले या फिर छह महीने पहले, उसमें गड्ढे ना हो ऐसा हो ही नहीं सकता है। सड़क बनवाने और उसमें गड्ढे खुदवाने के मामले में हमारी सारी सरकारें, भूतपूर्व और वर्तमान, बराबर की ईमानदार हैं।

सरकार तो बस ईमानदारी से सड़क बनवाती जाती है। और उसमें गड्ढे तो बस अपने आप ही बन जाते हैं। गड्ढे सड़क बनवाने में बरती गई ईमानदारी का परिचायक हैं। सड़क बनाने में जितनी अधिक ईमानदारी बरती गई होती है गड्ढे उतनी ही जल्दी और उतने ही ज्यादा बनते हैं। पूरी की पूरी सड़क का गड्ढे में तब्दील हो जाना यह बताता है कि सरकार ने उस सड़क विशेष को बनाने में बहुत ही अधिक ईमानदारी बरती है।

सड़क पर गड्ढे होना मात्र सरकार की ईमानदारी का ही परिचायक नहीं है अपितु यह यह भी बताता है कि सरकार जनता का कितना ख्याल रखती है। बिना गड्ढे वाली सड़क पर फर्राटे से बाइक, कार या बस चलाना दुर्घटना को आमंत्रण देता है। तेज गति से वाहन चलाने से यदि दुर्घटना होती है तो भयंकर होती है और उसमें जान और माल की हानि भी अधिक होती है। जबकि गड्ढों वाली सड़क पर मात्र छोटी-मोटी दुर्घटनाएं होती हैं और जान-माल की हानि भी कम होती है। अतः सरकार प्रजा के हित में ही गड्ढों वाली सड़कों का निर्माण करवाती है।

गड्ढों वाली सड़क पर वाहन चलने से गंभीर दुर्घटना की आशंका कम होने के अलावा वाहन चालक में कुछ विशेष गुणों का निर्माण भी होता है। उनमें से एक गुण है संयम। जब आप गड्ढों वाली सड़क पर गाड़ी चलाते हैं तो आपको बहुत ही संयम से धैर्य पूर्वक गाड़ी चलानी पड़ती है। गड्ढों को देखते हुए गाड़ी को गड्ढों से बचाकर, इधर उधर से निकालना पड़ता है जिससे आप में संयम और धैर्य जैसे गुण स्वत: ही निर्मित हो जाते हैं।

दूसरा गुण जो इन गड्ढों भरी सड़क पर चलने से निर्मित होता है वह है निर्णय लेने की क्षमता का विकास। जब कभी भी आपके सामने अधिक गड्ढों वाली सड़क आती है तो आपको तुरंत निर्णय लेना पड़ता है, देखना सोचना पड़ता है, कि आपका वाहन इस सड़क को पार कर पाएगा या नहीं। इससे आपमें तुरंत और ठीक ठीक निर्णय लेने की क्षमता विकसित होती है और आप जीवन के कठिन मोड़ों पर ठीक निर्णय ले सकते हैं।

तीसरा गुण जो इस तरह की सड़कों पर चलने से विकसित होता है वह है जोखिम उठाने और खतरा मोल लेने की क्षमता। जब आप गड्ढों भरी सड़कों पर वाहन चलाते हैं तो आप यह जानते समझते हुए भी वाहन चलाते हैं कि आपका वाहन कहीं भी, कभी भी खराब हो सकता है, टूट सकता है। परंतु यह जानते हुए भी वाहन चलाने से आप में जोखिम उठाने और खतरा मोल लेने की जो अद्भुत क्षमता विकसित होती है वह आपके जीवन में कई बार बहुत अधिक काम की साबित होती है।

गड्ढों भरी सड़कों पर चलने से चौथा गुण जो आता है वह है नए-नए रास्तों की खोज करना। जब भी आपके रास्ते में एक ऐसी गड्ढों भरी सड़क आ जाती है जिसे पार करना आपके वाहन के लिए मुमकिन नहीं होता है तो आप नए-नए रास्तों की खोज करने लगते हैं। कई बार जो नया रास्ता खोजते हैं वह भी गड्ढों से भरा होता है और आपको एक और नया रास्ता खोजना पड़ता है। कभी-कभी तो यह भी होता है कि आप एक नया रास्ता खोज कर कहीं पहुंचते हैं और दो-चार दिन वहां रुकने के बाद जब लौटने लगते हैं तो पता चलता है जिस गड्ढा विहीन रास्ते से आप आए थे वह भी अब गड्ढा युक्त है। अब आपको लौटने के लिए एक और नया रास्ता खोजना पड़ता है। यह नए-नए रास्ते खोजने का गुण और अनुभव आपको जीवन की कठिनाइयों में भी नये रास्ते खोजने में बहुत काम आता है, और आपमें छुपे अन्वेषक का आविष्कार भी करता है।

ऐसा नहीं है कि यह गड्ढों भरी सड़क केवल कुछ सिखाती ही है, हममें गुणों का विस्तार ही करती है। बल्कि यह गड्ढों वाली सड़कें हमारा अच्छा निशुल्क मनोरंजन भी करती हैं, आनंद भी देती है। किसी अच्छे गड्ढों वाली सड़क पर वाहन दौड़ाने में जो झूले मिलते हैं, वे किसी रोलर कोस्टर पर झूलने से कम मनोरंजक और कम आनंददायक नहीं होते हैं। इससे वही आनंद मिलता है और पेट में वैसी ही कुल्हन सी होती है जैसी किसी रोलर कोस्टर की सवारी में होती है।

गड्ढों वाली सड़कों के इतने लाभ देखते हुए मुझे लगता है कि भविष्य में हम ऐसी सड़कें बना पाएंगे जो अब की सड़कों से भी अच्छी हों, अधिक गड्ढों वाली हों। आजकल जो सड़कें बनती हैं, उनमें गड्ढे बनने में कुछ हफ्ते और कई बार तो कुछ महीने तक लग जाते हैं। आशा है भविष्य में हम ऐसी सड़कें बना पाएंगे जो बनने के अगले दिन ही गड्ढों भरी हो जाएं। आगे अधिक उन्नति करने पर हम सड़क बनाते हुए ही गड्ढा युक्त सड़कें बना देंगे। मैं आगे आने वाली सरकारों से भी यही उम्मीद करता हूं कि वे भी सड़क बनाने के मामले में भूतपूर्व और वर्तमान सरकारों से भी अधिक ईमानदार होंगी और अधिक से अधिक गड्ढों वाली सड़कें बनवायेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.