May 20, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

सीख: जूते ना मिलने पर पैरों पर टेप लगाकर दौड़ने वाली नन्ही एथलीट ने जीता 3 गोल्ड मेडल

सफलता संसाधनो की मोहताज नही होती…

खबर पुरानी हो सकती है लेकिन सीख नही..दुनिया उसे ही याद रखती है, जो विजेता होता है. हारने वाले को कोई याद नहीं रखता.

 

इस नन्हीं एथलीट ने अपने प्रतिद्वंदियों को हराया और तीन स्वर्ण पदक जीते. बुलोस ने 400 मीटर, 800 मीटर और 1500 मीटर दौड़ में ये पदक हासिल किए.

नई दिल्ली|2019 महिला एथलीटों के लिए बेहद शानदार रहा. इस साल महिलाओं ने स्पोर्ट्स जगत में अपना दबदबा बनाए रखा. भारतीय महिला खिलाड़ियों ने भी राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मंचों तक पहुंचने के लिए जी जान से मेहनत की. मसलन इसी साल बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु (PV Sindhu) विश्व बैडमिंटन चैम्पियन (World Badminton Champion) बनने वाली पहली भारतीय बनीं. लेकिन इतनी बड़ी जीत हासिल करना क्या इतना आसान होता है. इस मुकाम तक पहुंचने के लिए कड़ी मेहनत, करने की जरूरत रहती है. ऐसी ही कहानी फिलिपीन्स (Philippines) की 11 साल की एथलीट की है जो अपनी उपलब्धि से इन दिनों चर्चा में है.

 

सभी महिलाओं में एक बात कॉमन है कि यह सभी कड़ी मेहनत करके आगे बढ़ती गई हैं। ऐसी एक कहानी Philippines की एथलीट की है जो जूते ना मिलने पर पैरों पर टेप बांधकर दौड़ी और गोल्ड मेडल जीता। इस एथलीट की उम्र महज 11 साल है पर हौसलों में कोई कमी नहीं है।

हाल ही में फिलिपीन्स की एक 11 साल की एथलीट खेल के प्रति अपने समर्पण को दिखाते हुए बगैर जूतों के रेस में दौड़ी. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक रिया बुलोस (Rhea Bullos) नाम की एक एथलीट इंटर स्कूल रनिंग मीट में अपने पांव में खास तरह के जूते पहन कर दौड़ीं. दरअसल नन्हीं एथलीट ने बैंडेज की मदद से ये जूते बनाए थे, यही नहीं बुलोस ने एंकल और सोल को ढकने के लिए बैंडेज की साइड में अपने तरह के ‘नाइकी’ लोगो भी जोड़ा.

 

सीबीएस स्पोर्ट्स के मुताबिक इस नन्हीं एथलीट ने अपने प्रतिद्वंदियों को हराया और तीन स्वर्ण पदक जीते. बुलोस ने 400 मीटर, 800 मीटर और 1500 मीटर दौड़ में ये पदक हासिल किए. कोच  प्रेडीरिक बी. वैलेनजुएला (Predirick B. Valenzuela) ने जब ऑनलाइन एथलीट की फोटो शेयर की तो लोगों ने नाइकी (Nike) से निवेदन किया कि वे बच्ची की मदद के लिए आगे आएं. इसके बाद एक बास्केटबॉल स्टोर के मालिक जैफ कारिआसो (Jeff Cariaso) ने ट्विटर यूजर्स से एथलीट का नंबर मांगा. जिसके बाद बुलोस तक मदद पहुंचा दी गई.

कौन है यह एथलीट
फिलिपिन की इस एथलीट का नाम  Bullos है जो अपने इंटर स्कूल रनिंग टीम में जूते ना मिलने की वजह से पैरों में टेप बांधकर दौड़ी। इस एथलीट ने अपने पैरों के Ankle और अंगूठे पर अच्छे से टेप को बांधकर एक जूता बनाया और उस पर अपनी एक कलाकारी करते हुए Nike के जूते का लोगो भी Pen से बनाया।

 

ये भी पढे: बस्ती:विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वाली 73 महिलाओं को किया गया सम्मानित

 

प्रतिद्वंद्वियों को हराते हुए जीता स्वर्ण पदक
सीबीएस स्पोर्ट्स के मुताबिक इस नन्ही अथिलीट ने अपने प्रतिद्वंद्वियों को हराते हुए तीन स्वर्ण पदक जीते जिनमें से एथलीट बुलोस ने 800 मीटर 1500 मीटर और 400 मीटर दौड़ में यह पदक हासिल किए।

 

ट्रेनर कर रहे एथलीट बुलोस की तारीफ
एथलीट के ट्रेनर ने एक इंटरव्यू में उनकी तारीफ करते हुए कहा कि उन्हें अपनी शिष्य पर गर्व है। बुलोस के ट्रेनर ने बताया कि वह एक मेहनती एथलीट है। ट्रेनिंग के वर्क जूते ना होने पर वह जल्दी थक जाती थी पर उसने कभी भी हार नहीं मानी।

 

ये भी पढ़े: बख्तियार खिलजी ने नालंदा विश्वविद्यालय को क्यों नष्ट कर दिया था?

 

ऐसे मिला एथलीट को जूता Nike का
जब बुलोस के ट्रेनर ने अपने शिष्य की जीत की तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर की तो लोगों ने बोला उसके पैरों पर देखते हुए Nike से निवेदन किया कि वह उसकी मदद करें।

Basketball के Showroom के मालिक ने बुलाया बुलोस को
सोशल मीडिया पर एथलीट की तस्वीरों को देखते हुए एक बास्केटबॉल स्टोर के मालिक ने ट्विटर पर अतीत का नंबर खोजा और उनको जूते तोहफे में दिए।

सोशल मीडिया पर ना इसी से कर रहे लोग अपील
सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लोग Nike से अपील कर रहे हैं कि वह अथिलीट को जरूर मदद करें और साथ ही अलग-अलग लोगों ने जूते दिलाने का वादा कर रहे हैं।

ये भी पढे:

उड़न परी; हिमा दास बनीं DSP, बेहद गरीबी में पली ये आदिवासी लड़की कैसे बनी इतनी बड़ी स्टार?

भारत की अपनी सुपरगर्ल्स

यूपी: मीरजापुर में झोपड़ी से निकल अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर अब तक निधि सिंह पटेल ने 10 स्वर्ण पदक, तीन रजत पदक और दो कांस्य पदकों पर किया कब्जा

जानिए 21 दिनों में छह स्वर्ण पदक जीतने वाली ;ढिंग एक्सप्रेस; हिमा दास की कहानी

कौन हैं भारतवंशी प्रीति पटेल जो ब्रिटेन की गृहमंत्री बनी.. जानिए..

क्या है राष्ट्र? कहां मिलता है राष्ट्रवाद…….जानिए

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.