August 9, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

हनीमून होटल को हनुमान होटल बताना पड़ा महंगा,ऑल्ट न्यूज के को-फाउंडर मोहम्मद जुबैर गिरफ्तार, धार्मिक भावनाएं आहत करने का है आरोप

 

हनीमून होटल को हनुमान होटल बताना पड़ा महंगा,ऑल्ट न्यूज के को-फाउंडर मोहम्मद जुबैर गिरफ्तार, धार्मिक भावनाएं आहत करने का है आरोप

न्यूज डेस्क 28 जून|ऑल्ट न्यूज (AltNews) के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर को सोमवार को दुश्मनी को बढ़ावा देने और धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। दिल्ली पुलिस ने जुबैर के खिलाफ आईपीसी की धारा 153/295 के तहत केस दर्ज किया गया है।

जानकारी के अनुसार, दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की IFSO यूनिट ने जुबैर के खिलाफ सोशल मीडिया पर सांप्रदायिक अशांति फैलाने के आरोप में गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक, उसे जुबैर के खिलाफ 27 जून को ट्विटर के जरिए एक शिकायत मिली थी, जिसमें जुबैर के एक ट्वीट का जिक्र किया गया था। पुलिस ने इस संबंध में आईपीसी की धारा 153ए और 295ए के तहत केस दर्ज कर आज जुबैर को पूछताछ के लिए बुलाया था।

स्पेशल सेल का दावा है कि जुबैर के खिलाफ पर्याप्त सबूत होने के बाद उसे वर्तमान मामले में गिरफ्तार कर लिया गया है। दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, वर्तमान मामला ट्विटर हैंडल हनुमान भक्त @balajikijaiin की एक पोस्ट के आधार पर दर्ज किया गया है, जहां उसने “2014 से पहले: हनीमून होटल” और “2014 के बाद: हनुमान होटल” पोस्ट के संबंध में मोहम्मद जुबैर के नाम से एक अन्य ट्विटर हैंडल के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर किया था।

 

दिल्ली पुलिस ने कहा कि एक फोटो (ट्वीट में) दिख रहा है जहां होटल के साइनबोर्ड ‘हनीमून होटल’ को बदलकर ‘हनुमान होटल’ कर दिया गया है। हनुमान भक्त @balajikijaiin ने ट्वीट किया, “हमारे भगवान हनुमान जी को हनीमून से जोड़ना हिंदुओं का सीधा अपमान है क्योंकि वह ब्रह्मचारी हैं। कृपया इस आदमी के खिलाफ कार्रवाई करें”।

पुलिस ने बताया कि एक विशेष धार्मिक समुदाय के खिलाफ तस्वीर और भड़काऊ बयान वाली मोहम्मद जुबैर की उक्त पोस्ट जानबूझकर की गई है जो लोगों के बीच नफरत को भड़काने के लिए पर्याप्त है, जो सार्वजनिक शांति बनाए रखने के लिए हानिकारक हो सकती है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि उक्त पोस्ट के आधार पर उपरोक्त मामला दर्ज किया गया है।

 

अधिकारी ने बताया कि दिल्ली पुलिस को एक ट्विटर हैंडल से अलर्ट किया गया था कि मोहम्मद जुबैर ने पहले आपत्तिजनक ट्वीट किया था और उनके फॉलोवर्स / सोशल मीडिया संस्थाओं ने उन नफरत फैलाने वाली बहसों की श्रृंखला को आगे बढ़ाया तो उनकी जांच की गई और जुबैर की भूमिका को आपत्तिजनक पाया गया।

पूछताछ के दौरान जुबैर लगातार सवालों से बचने की कोशिश करता रहा और न तो जांच के लिए जरूरी तकनीकी उपकरण मुहैया कराए और ना ही जांच में सहयोग किया। इतना ही नहीं, जांच के दौरान जुबैर का आचरण भी संदिग्ध पाया गया। इसके बाद पुलिस ने इस मामले में साजिश को उजागर करने के लिए उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की और फिर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। अधिकारी ने बताया कि मामले में आगे की जांच के लिए जुबैर की पुलिस रिमांड मांगने के लिए पटियाला हाउस कोर्ट में ड्यूटी मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया जा रहा है।

बता दें कि, मोहम्मद जुबैर ऑल्ट न्यूज नाम से फैक्ट चेकिंग वेबसाइट चलाते हैं। उन पर कथित फैक्ट चेकिंग के नाम पर लोगों की धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप है।

 

गौरतलब है कि, भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा और निष्कासित नेता नवीन कुमार जिंदल द्वारा पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ कथित विवादास्पद टिप्पणी को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए थे, इसके साथ ही कुछ जगहों पर हिंसा भड़क गई थी। कथित तौर पर इन प्रदर्शनों को भी ऑल्ट न्यूज के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर द्वारा ही हवा दी गई थी।

राहुल गांधी, अखिलेश यादव समेत विपक्षी नेताओं ने की गिरफ्तारी की निंदा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी समेत विपक्षी नेताओं ने जुबैर की गिरफ्तारी को लेकर केन्द्र सरकार पर निशाना साधा. गांधी ने ट्वीट किया, “भाजपा की घृणा, कट्टरता और झूठ को बेनकाब करने वाला हर एक व्यक्ति उनके लिए खतरा है. सच्चाई की एक आवाज को गिरफ्तार करने से हजार आवाजें और पैदा होंगी. सच्चाई की हमेशा जीत होती है…” तृणमूल कांग्रेस के नेता डेरेक ओ ब्रायन, पार्टी सांसद महुआ मोइत्रा, तेलंगाना राष्ट्र समिति, ऑल इंडिया मजलिसे इत्तेहादुल मुस्लमीन के नेता असदुद्दीन ओवैसी ने भी गिरफ्तारी की निंदा की.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.