बैंकिंग

रुपये कार्ड की महत्त्व की जानकारी;

कुछ समय पहले वित्त मंत्रालय ने आधार कार्ड की व्यवस्था लागू की थी जो कुछ नेक इरादों एवम लक्ष्य को ध्यान में रख कर लिया गया निर्णय था जिसे देशव्यापी स्तर पर लागू करवाने के लिए कई तरह के आदेश दिए गए पर दुर्भाग्य से आधार कार्ड का असली उद्देश्य सफल नहीं हो पाया . परन्तु फिर भी यह एक परिचय पत्र के तौर पर काफी विश्वसनीय माना जा रहा हैं जिसका उपयोग बेंक, सरकारी कार्यों एवम परिवहन इत्यादी जहाँ भी एक परिचय पत्र की आवश्यक्ता हैं वहां इसका उपयोग जारी हैं.

लेकिन अब वित्त मंत्रालय ने एक नये “रूपए पत्र” की घोषणा की हैं जो कि एक ATM CARD की तरह हैं और यह कार्ड (रूपए पत्र) सभी कल्याण योजनाओ में आधार कार्ड की जगह लेगा .

आधार कार्ड भी अपनी जगह उपयोग में लिया जायेगा पर रूपए पत्र को ज्यादा महत्व दिया जायेगा और उसे अधिक स्थानों में उपयोगी बने ऐसे अधिकार दिए गए हैं .

रूपए कार्ड क्या हैं ? (What is RuPay card )

रूपए कार्ड NPCI (नेश्नल पेमेंट्स कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया/ भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम) की खोज हैं जिसकी वित्त मंत्रालय ने मई 2014 में घोषणा की . रूपए कार्ड यह शब्द Rupay तथा Payment दोनों शब्दों को जोड़कर बनाया गया हैं जिससे उसके महत्व को जाना जा सकता हैं कि रूपए कार्ड पेमेंट सम्बन्धी सभी लेने देन के क्षेत्र में उपयोगी हैं . इसका उदेश्य चेक तथा केश में होने वाले लेनदेन को कम करना हैं . साथ ही सभी वर्गों को कार्ड पेमेंट की तरफ खीचना भी हैं . भारत में ATM की सुविधा होते हुए भी सामान्य व्यक्ति उसके इस्तेमाल से कतराता हैं .

maxresdefault(4)

रुपये कार्ड की उपयोगिता (Importance Of Rupay Card )
रूपए कार्ड को अधिक शक्तिशाली बना देने के कारण यह उपभोक्ताओं के साथ साथ बैंक के लिए भी उपयोगी हैं . इसके सरल व्यवहार के कारण और अधिका उपयोगी होने के कारण यह उपभोक्ता के लिए पहली पसंद बन गया हैं .

यह पैसों की लेनदेन में लगने वाली राशि को कम करता हैं इस कारण यह उपभोक्ताओ के लिए अधिक प्रभावशाली हैं .
यह अनुकूलित सेवाओं और उत्पादों का विकास सुनिश्चित करेगा .
यह लेनदेन की प्रक्रिया को सुरक्षित करता हैं अर्थात इसमें धोखाधड़ी की सम्भावना नहीं हैं .
सबसे महत्वपूर्ण बात, यह केंद्रीकृत और बायोमेट्रिक लेनदेन प्रणाली हैं जिसे ग्रामीण क्षेत्रो में पहुँचाने के लिए बनाया गया हैं . जिससे सफलतापूर्वक पूरा देश एक केन्द्रीय लेनदेन की प्रक्रिया निर्मित कर सके .
वित्त मंत्रालय द्वारा इसका उचित मूल्य निर्धारित कर,अधिक व्यावहारिक बनाने की योजना है .
रुपये कार्ड की विशेषताएँ (Features of rupay card)

रुपये कार्ड की विशेषताएँ इस प्रकार हैं-

कार्ड में कार्ड धारक की फोटो नहीं है.
यह एक पिन आधारित प्राधिकरण है जिसमे अतिरिक्त सुरक्षा स्तर होते है जब खरीद दुकानों पर लेनदेन होता है.
इसकी न्यूनतम सीमा 10 साल तक की है लेकिन यह प्रत्येक बैंक के लिए अलग – अलग होती है.
विभिन्न बैंकों में छूट के ऑफर भी होते है जैसे उदाहरन के लिए केनरा बैंक irctc.co.in पर रेलवे टिकेट बुकिंग, मूवी टिकेट खरीदने पर उपयोगिता बिल पर नगदी वापस करता है.
यह दुनिया की सातवीं भुगतान गेटवे प्रणाली है.
रुपये कार्ड के लाभ (Advantages of rupay card)

रूपये कार्ड के निम्न लाभ हैं-

इसमें लगभग 1,45,270 एटीएम और लगभग 8,75,000 पॉइंट ऑफ़ सेल के टर्मिनल स्वीकार किये जाते हैं.
रुपये 10,000 से अधिक ई- कॉमर्स साइट्स को जोड़ता है यह भुगतान की पद्धतियों में से एक है.
वर्तमान में 8 लाख टर्मिनल्स में से भारत में लगभग 1.8 लाख व्यापारी टर्मिनल्स को स्वीकार किया गया है.
व्यापारी को 0.01 % लेनदेन शुल्क देना पड़ेगा.
लेनदेन की सीमा बहुत अधिक है. और हाँ यह प्रत्येक बैंक में अलग – अलग हो सकती है.
ग्राहक को उसके कार्ड के माध्यम से प्रत्येक लेनदेन के लिए SMS चेतावनी मिल जाएगी.
रूपये कार्ड से हानि (Disadvantages from rupay card)

रूपये कार्ड से निम्न हानि भी हो सकती है जिस पर ध्यान देना आवश्यक है-

वीजा और मास्टर कार्ड पुरस्कार पॉइंट्स प्रदान करता है, और इस स्तर पर रुपये कार्ड द्वारा पुरस्कार पॉइंट्स प्रणाली पर ऐसी कोई अपडेट नहीं है.
इसको जारी करने पर और वार्षिक शुल्क पर कोई अपडेट उपलब्ध नहीं है.

images(411)
रुपये कार्ड के लिए पात्रता (Eligibility for the rupay card)

रुपये कार्ड के लिए पात्रता इस प्रकार है-

रुपे कार्ड प्राप्त करने के लिए ; व्यक्ति को बैंक के बचत या चालू खाता धारण करना होगा.
मौजूदा और नये ग्राहक दोनों ही इस पर एप्प्लाई करने के लिए पात्र हैं.
मौजूदा ग्राहक भी डेबिट कार्ड समर्पित कर उसके बदले में रुपये कार्ड प्राप्त कर सकता है.
इसके अलावा किसी भी नये खाता धारक को प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत रूपये कार्ड मिल सकेगा.
रूपये कार्ड पाने के लिए आवेदन (Application for get the rupay card)

भारतीय उपभोक्ता सार्वजनिक बैंकों और निजी क्षेत्र के बैंकों पर रुपये कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं.यह देश में 200 से अधिक सहकारी और ग्रामीण बैंकों द्वारा जारी किया गया है. नीचे कुछ बैंकों की सूची दी गई है जहाँ रुपये कार्ड के लिए आवेदन किया जा सकता है.

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक –
•सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया
•स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया
•बैंक ऑफ़ बरोदा
•पंजाब नेशनल बैंक
•बैंक ऑफ़ इंडिया
•यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया
•आन्ध्र बैंक
•केनरा बैंक
निजी क्षेत्र के बैंक –फ़ेडरल बैंक रुपये कार्ड को जारी करने के लिए भारत में पहला निजी क्षेत्र का बैंक है.इसके अलावा ICICI बैंक और HDFC बैंक भी हैं.
विदेशी बैंक – इसमें 2 विदेशी बैंक सिटी बैंक और HSBC बैंक भी शामिल हैं.
मौजूदा ग्राहक जिसका इन बैंकों में बचत या चालू खाता है वह रुपये कार्ड के लिए एप्प्लाई कर सकता है. भारत सरकार ने सार्वजनिक बैंकों से अपने मौजूदा ग्राहक को रुपये कार्ड जारी करने और टर्मिनल्स को स्थापित करने जो इस भुगतान को स्वीकार करते है, के लिए कहा. हालाँकि इसका मतलब यह नहीं है कि इन बैंकों में वीजा और मास्टर कार्ड बंद हो जायेगा.लेकिन सरकार ने अपने देश के कार्ड के लिए और अधिक ध्यान केन्द्रित करने पर जोर दिया है.

एटीएम से पैसे निकालने की सीमा और पॉइंट ऑफ़ सेल से खरीदारी की सीमा (Withdrawal limit at ATM and shopping limit point of sale (PoS)

सार्वजनिक, निजी, सहकारी और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक रुपये कार्ड को जारी कर रहे है, और सभी बैंकों के एटीएम पर रोज पैसे निकलने की सीमा पर एक कैप लगा दी गई है और खरीदारी की सीमा इस प्रकार निर्धारित की गई है-

सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया : 40,000 रूपये और 1,00,000 रूपये.
बैंक ऑफ़ इंडिया : प्रत्येक 25,000 रूपये
बैंक ऑफ़ बरोदा : 25,000 रूपये और 50,000 रूपये
महाराष्ट्र ग्रामीण बैंक : प्रत्येक 10,000 रूपये
पंजाब नेशनल बैंक : 25,000 रूपये और 60,000 रूपये
ओरिएंटल बैंक ऑफ़ कॉमर्स : प्रत्येक 25,000 रूपये
UCO : प्रत्येक 25,000 रूपये
देना बैंक : 20,000 रूपये और 25,000 रूपये
विजय बैंक : 30,000 रूपये और 25,000 रूपये
रुपये कार्ड का उपयोग कर ऑनलाइन भुगतान करने का तरीका (Process of online payment using rupay card)

रूपये कार्ड के कई फायदे हैं उनमें से एक है ऑनलाइन खरीद. रुपये कार्ड का उपयोग ऑनलाइन लेनदेन के लिए पेसिक्योर के माध्यम से किया जा सकता है. एक सुरक्षित भुगतान सेवा की शर्त के अधीन ग्राहक को पहली बार के लिए सफलता पूर्वक लेनदेन द्वारा पेसिक्योर के साथ सफलतापूर्वक दर्ज किया जायेगा. डेबिट कार्ड धारक मासिक बिलों का भुगतान करने के लिए इस कार्ड का उपयोग कर सकते है, जैसे उत्पादों को ऑनलाइन खरीदना आदि.

पहली बार ऑनलाइन लेनदेन

रूपये कार्ड का उपयोग कर इन्टरनेट पर लेनदेन बहुत सरल है इसके रूप में अलग पंजीकरण की आवश्यकता नहीं है. यह 2 चरणों में होती है : कार्ड की जानकारी और otp.

पेसिक्योर के साथ पंजीकृत करने के लिए कैसे रुपये कार्ड का उपयोग कर पहली बार ऑनलाइन खरीद करें इसके निम्न चरण हैं-

एक बार जब उपयोगकर्ता जारीकर्ता के भुगतान स्क्रीन पर जाता है, ग्राहक प्रमाणीकरण अनुरोध सेंट हो जाता है. यह प्राधिकरण नेट बैंकिंग/otp/ चुनौतीपूर्ण प्रश्नों के माध्यम से किया जा सकता है.
नेट बैंकिंग के माध्यम से भुगतान के लिए, उपयोगकर्ता को लॉग इन विवरण दर्ज करने की जरूरत होती है, और otp के मामले में, कोड पंजीकृत मोबाइल नंबर या ई मेल पते पर भेजा जायेगा. चुनौतीपूर्ण सवाल के माध्यम से सत्यापन के मामले में, उपयोगकर्ता को आवश्यक सवाल के जवाब देने की जरुरत होती है. नये otp के लिए अनुरोध हर नये लेनदेन के लिए किया जाना चाहिए. यदि आपको पहली बार में otp नंबर नहीं मिलता है तो आप इसके लिए दोबारा कोशिश कर सकते हैं.
ऊपर दी हुई जानकारी में प्रवेश करते ही जारीकर्ता, उपयोगकर्ता के लिए भुगतान सफलता प्रतिक्रिया भेज देंगे.
इसके बाद भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (NCPI) के लिए इमेज का चयन और एक वाक्यांश में प्रवेश का पेज खुल जाएगा. आपको आपकी चयनित इमेज और वाक्यांश को हमेशा याद रखना होगा क्योंकि भविष्य में कोई भी ऑनलाइन भुगतान करने के लिए ये दोनों विवरण आवश्यक हैं.यह चरण पूरा होने के बाद आपका रुपये कार्ड ऑनलाइन उपयोग के लिए दर्ज हो जायेगा.
अब उपयोगकर्ता को एटीएम पिन दर्ज करने की जरुरत होती है जिसके बाद लेनदेन विवरण सबमिट होता है और पैसे कार्ड धारक के खाते से डेबिट हो जाते है. इस तरह लेनदेन पूरा हो जाता है.

rupay-logo
रूपए कार्ड एवम आधार कार्ड में अंतर (Difference between RuPay Card and Aadhar card) :

रूपए कार्ड एवम Aadhar Card दोनों एक दुसरे से भिन्न हैं इनका उपयोग अलग-अलग भाग में किया जाता हैं . आधार कार्ड एक परिचय पत्र के तौर पर उपयोगी हैं एवं बैंक में अकाउंट बनाने जैसी सुविधाओ में उपयोगी हैं .

रूपए कार्ड एक एटीएम कार्ड की तरह उपभोक्ता के लिए उपयोगी हैं जो कई प्लेटफार्म पर सुविधाजनक हैं . आधार कार्ड की असफलता के कारण वित्त मंत्रालय ने रूपए कार्ड की घोषणा की . वित्त मंत्रालय का मुख्य कारण था वह धन के लेन देन के विवरण को एक ही स्थान पर केन्द्रित करना चाहते थे जिससे एक सभी प्रकार के transaction के लिए one stop solution बनाया जा सके . परन्तु आधार कार्ड इसमें असफल साबित हुआ . इस हेतु रूपए कार्ड लाया गया जिसे सभी जगह स्वीकृति दी गई हैं जिससे सुरक्षा सम्बन्धी परेशानियों को नियत्रण में लाना आसान होगा साथ ही लेन देन सम्बन्धी विवरण में पारदर्शिता भी बढ़ेगी .

लेकिन अभी भी रूपए कार्ड के सामने सबसे बड़ी चुनौति हैं इसे पुरे देश में जल्द से जल्द लागू करना तथा ग्रामीण इलाकों में लोगों को इसके प्रति जागरूक बनाना. इसी तरह कि परेशानी आधार कार्ड के सामने भी थी . और भारत में अधिक ग्रामीण तथा छोटी जगह के लोग होने के कारण यह कार्ड की सफलता कठिन हैं . उन्हें इस एटीएम रूपी कार्ड के इस्तेमाल के लिए तैयार कर पाना बहुत बड़ा चेलेंज हैं.

पढ़ते रहिए 👇

https://suchkesath.wordpress.com

1 reply »

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.