अमेठी

पीसीएस अधिकारी का कॉलर पकड़ने वाले अमेठी के DM हटाए गए; कालर पकड़ने के क्या कारण है जानिए…

अमेठी: यूपी का एक ज़िला बहुतायत में लोग पहले नाम लेते थे क्योंकि राहुल गांधी यहां के सांसद थे. फिर चर्चा में तब आया जब स्मृति ईरानी यहां की सांसद बनीं. अब 2 दिनों से फिर से चर्चा में है, वजह यहां के डिस्ट्रिक्ट मैजिस्ट्रेट. प्रशांत कुमा शर्मा. क्यों? क्योंकि यहां के डीएम साहब ने जनता से बदसलूकी की. और इस घटना का वीडियो भयंकर वायरल हो गया. मामले की जानकारी स्मृति ईरानी को भी हुई तो उन्होंने भी ट्विटर पर डीएम की क्लास लगा दी. अब मामले में अपडेट ये है कि प्रशांत कुमार को डीएम के पद से हटा दिया गया है. और उनकी जगह अरुण कुमार नए डीएम बनाए गए हैं. लेकिन ये मामला है क्या, डीएम ने बदसलूकी क्यों की, किससे बदसलूकी की. विस्तार से समझ लीजिए.

 

बात मंगलवार यानी कि 12 नवंबर देर शाम की है. अमेठी के बीजेपी नेता के बेटे सोनू सिंह की गुंडों ने गोली मारकर हत्या कर दी. उसके अगले दिन यानी कि 13 नवंबर को लोग इस हत्या का विरोध करने के लिए जमा हुए. ज़िले में कानून व्यवस्था को लेकर भीड़ काफी गुस्से में थी. सभी पुलिस प्रशासन का विरोध कर रहे थे. मामले की खबर लगते ही मौके पर डीएम प्रशांत कुमार शर्मा भी पहुंचे. वहां उन्होंने लोगों को समझाने की कोशिश की. लेकिन समझाते-समझाते मामला बिगड़ गया. वो आग बबूला हो गए. उन्होंने मृतक के भाई का कॉलर पकड़ लिया, और बदसलूकी की. और ये पूरा मामला कैमरे में कैद हो गया. पहले आप वीडियो देख लीजिए. फिर आगे की कहानी बताते हैं.

 

डीएम ने जिनके साथ बदसलूकी की वो मृतक के भाई सुनील सिंह थे. जो पेशे से खुद एक पीसीएस अधिकारी हैं. ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. लोगों ने डीएम की क्लास लगानी शुरू कर दी. लोगों ने डीएम के व्यवहार पर कड़ी आपत्ति जताई. चूंकि मामला अमेठी का था, इसीलिए बात स्मृति ईरानी तक भी पहुंच गई. स्मृति ईरानी ने डीएम को टैग करते हुए एक ट्वीट किया.
‘विनय शील एवं संवेदनशील बनें हम यही प्रयास होना चाहिए. जनता के हम सेवक है, शासक नहीं’

 

इस ट्वीट का जवाब देते हुए डीएम प्रशांत कुमार ने एक वीडियो पोस्ट किया. ये वीडियो उस सुनील सिंह का था जिनके साथ डीएम ने बदसलूकी की थी. इस वीडियो में सुनील सिंह डीएम को डिफेंड करते दिखे, उन्होंने कहा कि उनके बीच कुछ नहीं हुआ था और मीडिया ने मामले को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया.

 

वैसे चेहरे के भाव को समझने वाले ये समझ जाएंगे कि उन्होंने किस तरह से ये बयान दिया है. खैर, हमने सुनील सिंह से सीधे संपर्क साधने की कोशिश की. कई बार फोन काटने के बाद आखिर में वो बात करने को तैयार हुए. डीएम के ट्विटर वाले वीडियो और मामले पर सवाल पूछने पर उन्होंने कहा-

 

सर हम पीड़ित लोग हैं, हमें न्याय चाहिए. मौके पर डीएम ने जो किया हो, लेकिन बाद में वो काफी अच्छे से पेश आए. उन्होंने हमें न्याय दिलाने का आश्वासन दिया है.

 

 
हमने फिर पूछा कि क्या वीडियो रिकॉर्ड करने ने लिए डीएम की तरफ से दबाव डाला गया. जिसपर सुनील सिंह ने कहा-

 

हमें वीडियो से नहीं न्याय से मतलब है. हमें न्याय मिल जाए. ज़िले की कानून व्यवस्था बहुत खराब है. हमारे भाई को रंगदारी के लिए फोन किया गया. उन्होंने रंगदारी देने से मना किया. भाई की हत्या जिन लोगों ने की है उन्हें पुलिस का संरक्षण प्राप्त है. चंद्रशेखर केसवानी और शुभम तिवारी के साथ 5 लोगों ने मिलकर भाई की हत्या की है. जिन्होंने हत्या की है वो अक्सर इलाके के थाने और आपपास दिखते हैं. मैंने पुलिस के साथ मिलीभगत की जानकारी एसपी ख्याति गर्ग को दे दी है. हमें बस इस मामले में न्याय चाहिए.

 

 
हमने इस मामले में डीएम का पक्ष भी जानने की कोशिश की. लेकिन कई बार संपर्क करने बाद भी उनका फोन नहीं लग सका. अब इस पूरे प्रकरण में एक शूटर की गिरफ्तारी हुई है. और बाकियों की तलाश जारी है. पुलिस का कहना है कि बाकियों की भी गिरफ्तारी जल्द हो जाएगी.

 

 

अब एक बार आखिर में डीएम के व्यवहार के बारे में भी बात कर लेते हैं. बड़े जानकर कह गए हैं कि अगर किसी व्यक्ति के व्यवहार को परखना हो तो इस बात का ध्यान दो कि सामने वाला गुस्से में कैसा बर्ताव कर रहा है. इस बात से कतई इनकार नहीं किया जा सकता है कि डीएम उस वक्त गुस्से में थे. काफी बोलने के बाद भी सामने वाला उनकी बात सुनने को तैयार नहीं था. लेकिन इन सबके बावजूद जिस तरीके से डीएम ने पीड़ित का कॉलर पकड़ कर खींचा, जिस तरीके उन्होंने बर्ताव किया. ऐसा बर्ताव एक ज़िला के अधिकारी को शोभा नहीं देता.

 

FB_IMG_1573739025869

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.