अखण्ड भारत

सच के साथ:जब हिंसा ही देशभक्ति बन जाए…

जेएनयू में गुंडों में देशभक्ति भरने की इस प्रक्रिया में पुलिस भी गुंडों की सहयोगी थी। पुलिस या तो खुद गुंडागिरी करती है या फिर गुंडों का सहयोग करने लगती है।

 

images(43)

 

पिछले रविवार की शाम को ‘देशभक्त’ गुंडों ने जेएनयू में उधम मचाया। उनके समर्थक जेएनयू के बाहर भारत माता की जय, वंदेमातरम जैसे नारे लगा रहे थे और अंदर गुंडे छात्रों और अध्यापकों को पीट रहे थे। यानी देशभक्ति के नारों के साथ की गई गुंडई भी देशभक्ति होती है। गुंडों में देशभक्ति भरने की यह प्रक्रिया काफी रोचक है।

 

 

जेएनयू में गुंडों में देशभक्ति भरने की इस प्रक्रिया में पुलिस भी गुंडों की सहयोगी थी। पुलिस या तो खुद गुंडागिरी करती है या फिर गुंडों का सहयोग करने लगती है। यूपी में और जामिया में पुलिस ने खुद गुंडागर्दी की तो जेएनयू में गुंडागर्दी करने का काम गुंडों को दे दिया। पुलिस का चरित्र ही कुछ ऐसा बन गया है। क्योंकि पुलिस का पाला गुंडों से ही पड़ता है, इसीलिए या तो वह स्वयं गुंडई पर उतर आती है या फिर गुंडों का सहयोग करने लगती है।

 

 

इस जेएनयू के ‘टुकड़े टुकड़े गैंग’ को सरकारी गुंडों द्वारा देशभक्ति सिखाना जरूरी भी था। ये जेएनयू का ‘टुकड़े टुकड़े गैंग’ बात बात पर आज़ादी की बात करता है, जैसे कि देश में आज़ादी ही न हो। पर मेरा देश, भारत देश तो 1947 में ही आज़ाद हो चुका है। तो फिर किस बात की आज़ादी? हमारी स्वतंत्रता को तिहत्तरवां वर्ष चल रहा है। और ये लोग आज भी आज़ादी की बात करते हैं!!

 

 

यह ‘टुकड़े टुकड़े गैंग’ के लोग बात करते हैं, गरीबी से आज़ादी की। यह देश को कितनी तोड़ने वाली बात है। हमारे देश में अमीर और गरीब कितने सौहार्द से रहते हैं। सदियों से रहते आये हैं और आज भी रहते हैं। जब हमारा देश सोने की चिडिय़ा होता था तब से रहते आये हैं। जब घी और दूध की नदियां बहती थीं, तब भी अमीर और गरीब हमारे देश में साथ साथ, सौहार्दपूर्ण तरीके से रहते थे। और आज जब खाने के लाले पड़े हैं तब भी रह रहे हैं।

 

 

कभी इतिहास पढ़ा है इन ‘टुकड़े टुकड़े गैंग’ के सदस्यों ने! क्या कहीं भी इतिहास में दर्ज है कि हमारे देश में कभी भी, सतयुग से लेकर अब कलयुग तक, अमीर और गरीब में युद्ध हुआ हो! इस अमीर और गरीब के प्रश्न को उठा कर ये ‘टुकड़े टुकड़े गैंग’ देश का बंटवारा करना चाहता है। यानी कालाहांडी अलग देश हो और मुम्बई अलग देश। यानी मुम्बई में भी बांद्रा अलग और धारावी अलग।

 

 

आखिर इस ‘टुकड़े टुकड़े गैंग’ की मंशा क्या है? अरे भई, सरकार गरीबी दूर कर गरीबों को अल्पसंख्यक नहीं बनाना चाहती है। तो फिर देश में गरीबों को अमीरों के साथ इसी सौहार्दपूर्ण तरीक़े से रहने दो। देश के टुकड़े टुकड़े मत करो। सरकार किसी भी ऐसी ओछी, घिनौनी हरकत को बरदाश्त नहीं करेगी जो गरीब बहुसंख्यक समुदाय को अमीर अल्पसंख्यकों के खिलाफ भड़काये।

 

 

ये ‘टुकड़े टुकड़े गैंग’ चाहता है कि सबको मुफ्त शिक्षा मिले। सब लोग पढ़ें लिखें और वो भी मुफ्त में, या फिर नाममात्र के शुल्क में। यानी पढ़ाई हो गरीबों की, पर खर्च होंं अमीरों के, मिडिल क्लास के द्वारा दिये गए टैक्स के पैसे। उच्च शिक्षा ग्रहण करें गरीबोंं के बच्चे, करोड़ों अरबों रुपये खर्च हों सरकार के। शिक्षा के साथ लगभग फ्री हॉस्टल मिले और हो सके तो स्कोलरशिप भी मिले। यह ‘टुकड़े टुकड़े गैंग’ क्या सरकार को इतना बेवकूफ समझ बैठा है!

 

 

इस सरकार ने उच्च शिक्षा के लिए इंस्टीट्यूट ऑफ ऐमीनैंस खोले हैं। मोदी जी की सरकार से पहले किसी भी सरकार ने एक भी इंस्टीट्यूट ऑफ ऐमीनैंस नहीं खोला था। बताईये खोला था क्या? शिक्षा के क्षेत्र में जो सत्तर साल में नहीं हुआ वह इस सरकार ने कर दिखाया है। इन इंस्टीट्यूट्स ऑफ ऐमीनैंस में सरकारी तो हैं ही प्राइवेट भी हैं।

 

 

यानी गरीब के बच्चों को और अमीर के बच्चों को बराबर का मौका मिले (वैसे अमीर के बच्चे को अधिक मौका है, सरकारी में बराबर का मौका है तो प्राइवेट में सारा मौका)। पर यह ‘टुकड़े टुकड़े गैंग’ सरकार की इतनी सुंदर, सोची समझी शिक्षा नीति में गतिरोध पैदा कर रहा है। ‘टुकड़े टुकड़े गैंग’ चाहता है कि देश पढ़े लिखे और अनपढ़ों के बीच भी बंट जाये।

 

 

‘टुकड़े टुकड़े गैंग’ तो यह भी चाहता है कि भूख से कोई न मरे। अब यह भी क्या सरकार की जिम्मेवारी है। कोई कब, कहां और कैसे मृत्यु को प्राप्त होगा, यह तो विधि का विधान है। सरकार इसमें क्या कर सकती है। क्या सरकार ‘टुकड़े टुकड़े गैंग’ के बहकावे में आ कर विधि का विधान बदल दे। और वैसे भी देश में अन्न की, खाद्यान्न की कोई कमी तो है नहीं। मिल जरूर रहा है भले ही महंगा मिले। अब लोग खा ही नहीं पा रहे हैं, तो यह लोगों की ही कमी है। सरकार उसमें क्या कर सकती है।

 

 

देश में तो इतना कुछ है खाने के लिए कि लोग मोटापे से परेशान हो रहे हैं। डायटिंग कर रहे हैं। और यह टुकड़े टुकड़े गैंग भुखमरी से आज़ादी चाहता है। क्या यह टुकड़े टुकड़े गैंग देश में भरे पेट वालों और भुखमरों के बीच में भी बंटवारा करना चाहता है।

 

 

ये ‘टुकड़े टुकड़े गैंग’ वाले बात करते हैं रोजगार की। यानी बेरोजगारी दूर हो। पढ़ें और पढ़ाई खत्म करते ही नौकरी मिल जाये। सरकार पढ़ाये भी और नौकरी भी दे। अरे भई, सरकार है, आपकी नौकर नहीं। प्रधानसेवक प्रधान पहले हैं और सेवक बाद में। और फिर सरकार ने जो नई नौकरियां पैदा की हैं, गौरक्षकों की, मॉब लिंचिंग करने वालों की, और अब देशद्रोहियों को गुंडई द्वारा सीधा करने की। इन नौकरियों को नहीं करोगे तो बेरोजगारी कैसे खत्म होगी।

 

 

अब देश को एक रखना है, बंटवारा होने से बचाना है तो इन्हें सबक सिखाना ही होगा। देशभक्त गुंडे ही इन्हें सबक सिखा सकते हैं। जब गुंडे गुंडई पर उतर आयें और हिंसा कर देशद्रोहियों को सबक सिखाने लगें तो लाज़मी है कि पुलिस को उसमें सहयोग करना ही होगा। और जहां तत्काल एक्शन लेना हो, गुंडों का प्रबंध न हो पाये, तो पुलिस ही गुंडागर्दी पर उतर आये, यही तो देशभक्ति है!

images(45)

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.