क्राइम्स

गोरखपुर:वर्दी के दाग धुले; एरिया मैनेजर ने एमआर के साथ मिलकर किया रेप, पहले पुलिस पर था इल्‍जाम, अब खुला राज

Gorakhpur|युवती के साथ पुलिसवालों ने नहीं बल्कि दवा कम्पनी के दो एमआर ने गैंगरेप किया था। गोरखपुर में रहने वाले एक एमआर की गिरफ्तारी के बाद रविवार की देर शाम एसएसपी डॉ. सुनील गुप्ता ने घटना का खुलासा कर दिया। दूसरा एमआर वाराणसी का रहने वाला है उसकी तलाश में गोरखपुर क्राइम ब्रांच की एक टीम वाराणसी के लिए रवाना हुई है।

 

 

एसएसपी ने बताया कि वाराणसी का रहने वाला आशीष सिंह एक दवा कम्पनी में एमआर है। 12 फरवरी को वह गोरखपुर आया था। रेलवे स्टेशन पर स्थित आदर्श होटल के रूम नम्बर 108 में ठहरा था। बलिया के खेजुरी थाना क्षेत्र स्थित अजनेरा गांव निवासी आलोक कुमार सिंह भी एमआर है। वह गोरखपुर के शाहपुर थाना क्षेत्र स्थित धर्मपुर में किराए का मकान लेकर रहता है। दोनों पहले एक ही कम्पनी में काम करते थे। 14 फरवरी को आशीष ने आलोक को बुलाया था।

 

 

 

एसएसपी ने बताया कि दोनों बरगदवा क्षेत्र से लौट रहे थे। रास्ते में उन्हें युवती मिली उनमें से एक ने उसे बाइक पर बैठने के लिए कहा। आलोक ने खाकी रंग की जैकेट और शर्ट पहन रखी थी। उसकी बात सुनकर युवती डर गई और बाइक पर बैठ गई। दोनों उसे आदर्श होटल के कमरा नम्बर 108 में ले गए। आशीष बाहर ही रुक गया आलोक उसे अपने साथ कमरे में ले गया इसलिए युवती के साथ आलोक की ही सीसीटीवी फुटेज आई। रविवार को आलोक को पुलिस ने हड़हवा फाटक के पास गिरफ्तार कर लिया।

 

 

घटना में इस्तेमाल बाइक और हेलमेट भी बरामद
एसएसपी ने बताया कि घटना के खुलासे के लिए चार टीमें बनाई गई थी। युवती के जरिये उस स्थान की पहचान की गई जहां उसके साथ गैंगरेप हुआ था। होटल से मिले आईडी, सीसीटीवी फुटेज और सीडीआर के माध्यम से 30 घंटे में आरोपियों तक पुलिस पहुंच गई। सीसीटीवी फुटेज में दिख रहे आरोपी आलोक को पकड़ लिया गया है। घटना में इस्तेमाल बाइक और हेलमेट तक बरामद कर लिया गया है। दूसरे आरोपी आशीष की तलाश में टीम वाराणसी गई है। एसएसपी ने बताया कि मेडिकल जांच में युवती के साथ रेप की पुष्टि हुई है। उसका मजिस्ट्रेट के सामने 164 का बयान कराया जाएगा। उस बयान के आधार पर स्थिति और स्पष्ट हो जाएगी।

 

यह थी हुई घटना 
शाहपुर इलाके की रहने वाली 20 वर्षीय युवती बच्चों को ट्यूशन पढ़ाकर गुजारा करती है। गुरुवार शाम को मां के साथ गोरखनाथ स्थित हास्पिटल में दिखाने गई थी। वहां से गोरखनाथ थाना क्षेत्र के नया गांव स्थित बड़ी बहन के घर चली गई थी। रात नौ बजे के करीब मां-बेटी पैदल ही घर लौट रही थीं। बेटी आगे तो मां पीछे-पीछे चल रही थी। गोरखनाथ इलाके में एक बाइक पर सवार दो लोगों ने युवती को बैठा लिया था और धमकाते हुए उसे अपने साथ रेलवे स्टेशन रोड पर होटल में ले गए और गैंगरेप किया। रात में करीब एक बजे उन्होंने उसे छोड़ा और बदले में छह सौ रुपये भी दिए। वह किसी तरह ऑटो बुक करके रात में घर पहुंची। घरवालों ने पूछा तो रात में उसने कुछ नहीं बताया। सुबह परिजनों को जानकारी दी। उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। शुक्रवार देर रात ही पुलिस ने दो अज्ञात वर्दीधारियों पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी।

 

 

शराब पिलाकर की हैवानियत, युवती के विरोध न करने से होटल कर्मी भी समझ न पाए हकीकत

 

शराब पिलाने के बाद युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया था। मेडिकल जांच में उसके प्राइवेट पार्ट में चोट के निशान भी मिले हैं। इससे यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि उसके साथ होटल के कमरे में हैवानियत भी हुई है। युवती जिस तरह से आलोक के साथ होटल के कमरे में गई उससे सिक्योरिटी गार्ड भी कुछ नहीं समझ पाया। उसके विरोध या प्रतिरोध न करने की वजह से सिक्योरिटी गार्ड से लेकर अन्य लोगों ने उसे रोका नहीं। उधर, युवती का कहना था कि वह उन्हें पुलिसवाला समझ रही थी इस वजह से डर के मारे किसी तरह का प्रतिरोध नहीं कर पा रही थी।

 
मेडिकल जांच में हैवानियत की पुष्टि
केस दर्ज होने के बाद शनिवार को पुलिस ने युवती का जिला अस्पताल में मेडिकल कराया। जांच में युवती के साथ हैवानियत की पुष्टि हो गई थी। जांच में प्राइवेट पार्ट में चोट भी लगा पाया गया था। डीएनए जांच के लिए सीमन लिया गया है। नाखून, बाल, और मुंह से लार को भी जांच के लिए भेजा गया है।

 

इस वजह से युवती ने समझा पुलिसवाले
दरअसल दोनों एमआर में आलोक खाकी रंग की हॉफ जैकेट और इसी रंग का शर्ट पहना था। दूसरे एमआर आशीष को वह सर से सम्बोधित कर रहा था। यही वजह है कि युवती ने उन्हें पुलिसवाला समझ लिया।

 

गए थे दर्शन करने, पहुंच गए बफीर् खाने, पी ली शराब
आलोक ने बताया कि आशीष सर ने गोरखनाथ मंदिर में दर्शन करने की इच्छा जताई थी। शाम को मैं अपनी बाइक पर बैठाकर उन्हें ले गए। मंदिर न जाकर हमलोग बरगदवा में बुढ़ऊ चाचा की दुकान पर बफीर् खाने चले गए। वहीं से शराब पीने चले गए। मटन भी खाए। इसके बाद सर ने कहा मटन खा लिया हूं, शराब पी है अब दर्शन करने नहीं जाऊंगा। एसबीआई एटीएम के पास दोनों रुक कर आईसक्रीम खाने लगे इस बीच युवती पैदल ही तेजी से भागते हुए जा रही थी। आलोक ने कड़क आवाज कहा कि इतनी रात को कहां जा रही हो। उसने कहा कि घर से झगड़ा हुआ है इसलिए जा रहीं हूं। बकौल आलोक उसने गाड़ी पर बैठो, वह गाड़ी पर बैठ गई। होटल के पास आशीष सर उतर गए, मैने उनसे चाभी ली और उसे लेकर अकेले कमरे में पहुंचा। उसके बाद आशीष सर आए। मैं थोड़ी देर बाद निकल गया।

 

फुटेज, कॉल डिटेल और आईडी प्रूफ ने खोला राज
होटल के लिफ्ट में मिले सीसी फुटेज में युवक की तस्वीर के अलावा कमरा नम्बर 108 को बुक कराने वाले युवक की आईडी प्रूफ के तौर पर आधार तथा उसके नम्बर से पुलिस गुनहगारों तक पहुंच गई। तस्वीर, आधार कार्ड और नम्बर पर पुलिस ने काम शुरू किया। कॉल डिटेल के आधार पर जिन नम्बरों पर घटनावाली रात सबसे ज्यादा बात हुई थी और उनके मोबाइल नम्बर उस रूट पर मिल रहे थे जिस रूट पर घटना बताई जा रही है। उन नम्बरों को पुलिस ने अलग किया उसके बाद गोरखपुर के रहने वाले एमआर आलोक तक पुलिस पहुंच गई। वहीं वाराणसी के रहने वाले एमआर की तलाश में क्राइम ब्रांच की एक टीम वाराणसी निकल गई। गोरखपुर के एमआर को सबसे पहले पुलिस ने दबोचा, फुटेज की तस्वीर उसे मिल गई।

 

वर्दी के दाग धुले, गोरखपुर से लखनऊ तक राहत
वर्दीधारियों पर सामूहिक दुष्कर्म के आरोप से गोरखपुर से लेकर लखनऊ तक पुलिस अफसरों में हड़कम्प मचा था। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी लगातार घटना पर नजर बनाए हुए थे। राजनीतिक पार्टी और सामाजिक संगठन से जुड़े लोगों का धरना-प्रदर्शन शुरू हो गया था। इन सब के बीच पुलिस काफी दबाव में थी। अब जब घटना का खुलासा हुआ उसके बाद न सिर्फ वर्दी के दाग धुले बल्कि गोरखपुर से लखनऊ तक अफसरों ने राहत की सांस ली।

 

 

होटल की भी पुलिस कराएगी जांच
जिस होटल में युवती के साथ गैंग रेप हुआ उसमें होटल संचालन या कर्मचारियों की क्या भूमिका थी इसकी भी जांच होगी। आरोप लग रहे हैं कि रात में जब युवती को लेकर एमआर कमरे में गया तो उसकी एंट्री क्यों नहीं हुई। हालांकि दूसरी तरह यह भी कहा जा रहा है कि होटल की बुकिंग थी। रहने वाले व्यक्ति ने अपनी आईडी प्रूफ लगाई थी। लड़की ने किसी तरह का विरोध नहीं किया इस वजह से कोई कुछ समझ नहीं पाया। यह भी तर्क दिया जा रहा है कि होटल में जिसके नाम कमरा बुक है उससे मिलने भी लोग आते-जाते रहते हैं।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.