ताज़ा ख़बरें

पीएम के आह्वान से नया संकट : एक साथ लाइट बंद करने से फेल हो सकते हैं पावर ग्रिड !

पीएम के आह्वान से नया संकट : एक साथ लाइट बंद करने से फेल हो सकते हैं पावर ग्रिड !

 
ऑल इंडिया पावर इंजीनियर्स फ़ेडेरेशन ने चिंता जताई है कि पावर ग्रिड फेल होने से चिकित्सा सेवाएँ भी प्रभावित हो सकती हैं जिस से सारे देश में हाहाकार मच सकता है। इस सबको लेकर फ़ेडेरेशन प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर आगाह करेगा।

 

Suchkesath|प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर 5 अप्रैल को रात 9 बजे एक साथ लाइटें बंद होने से पूरे देश में बिजली सप्लाई का पावर ग्रिड फेल होने का ख़तरा उत्पन्न हो गया है। ये हमारा कहना नहीं बल्कि बिजली विभाग के इंजीनियरों का ही मानना है। बिजली बंद करने के आह्वान से केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय और बिजली उत्पादन तथा वितरण से जुड़ी सभी इकाइयों की रातों की नींद उड़ गई है।

पावर ग्रिड फेल होने से चिकित्सा सेवाएँ भी प्रभावित हो सकती हैं जिस से सारे देश में हाहाकार मच सकता है।

बिजली विभाग के इंजीनियर मानते हैं कि 5 अप्रैल को रात नौ बजे नौ मिनट के लिए सारी लाइटें बंद होने से अचानक पावर लोड काम हो जाएगा जिस से देश भर में बिजली सप्लाई का पावर ग्रिड फेल हो सकती है। ऑल इंडिया पावर इंजीनियर्स फ़ेडेरेशन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान सुनने के बाद उनको एक पत्र लिखकर सम्भावित बड़े ख़तरे से आगाह करने की बात कही है।

 

grid letter 1

 

फ़ेडरेशन के अध्यक्ष शैलेंद्र दुबे के अनुसार लॉकडाउन के चलते बिजली की मांग पहले ही काफ़ी कम है। पिछले महीने 24 मार्च को लॉकडाउन की घोषणा होने के बाद से अब तक 10 दिनों में ग्रिड पर लोड लगभग 30 प्रतिशत कम हो गया है। ट्रेन, फैक्ट्री समेत सभी बड़े व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद पड़े हैं। बिजली का और स्टोरेज करना संभव नही है। जिस समय लोड कम होता है या बढ़ता है उस समय किसी पॉवर प्लांट में उतना लोड कम किया जाता है या बढ़ाया जाता है।

 

 

शैलेंद्र दुबे बताते हैं कि देश में जो बिजली कि सप्लाई हो रही है उसका 70 प्रतिशत से अधिक थर्मल प्लांट से आता है। उनके अनुसार थर्मल प्लांट की लोड कम करने की क्षमता बहुत सीमित होती है, और अगर थर्मल प्लांट को उनकी क्षमता के 60 प्रतिशत लोड से कम पर चलाये जाएं तो उनके स्थायित्व पर भारी संकट आ सकता है। उन्होंने बताया कि ऐसे बिंदु को ‘टेक्निकल मिनिमम’ कहा जाता है। लॉकडाउन शुरू होने के बाद से बड़ी संख्या में थर्मल प्लांट ‘टेक्निकल मिनिमम’ या उसके क़रीब ही चल रहे हैं।

 

IMG_20200405_124550_033

 

 

 

 

 

 

IMG_20200405_124559_534 वरिष्ठ अभियंता कहते हैं कि अगर प्रधानमंत्री के आह्वान पर बिजली बंद करने का अमल 70 प्रतिशत भी अमल में आता है तो पावर ग्रिड पर अचानक बड़ा फ़र्क़ पड़ेगा। जिस से अनावश्यक तौर पर सारी व्यवस्था हलकान होगी क्यूँकि ग्रिड डिस्टर्ब हुआ तो उपभोक्ताओं को कई घंटे तक अंधेरे में रहना होगा। क्यूँकि व्यवस्था को दोबारा शुरू होने में 12-18 घंटे तक लग सकते हैं। इस बीच चिकित्सालयों और अन्य आपातकालीन सेवाएं भी प्रभावित हो सकती हैं।

 

 

अब इस ख़तरे से कैसे बचा जाए इसके लिए राष्ट्रीय स्तर पर ग्रिड को बचाने के लिए सभी राज्यों में वीडियो कॉन्फ्रेंसिग पर विचार किया जा रहा है। अभियंताओं (इंजीनियर्स) को उम्मीद है कि निश्चित रूप से इसमें कुछ निर्देश सामने आयेंगे।

 

 

देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में तय किया गया है कि सम्भावित ख़तरे से निबटने के लिए सभी अभियंता अपने स्टाफ़ के साथ 5 अप्रैल को रात 8 बजे से 10 बजे तक सब स्टेशनों पर जगह–जगह ड्यूटी पर मौजूद रहेंगे।

 

 

ऊर्जा मंत्रालय के डेटा के अनुसार 2 अप्रैल 2020 को भारत में पॉवर की माँग 1,25,817 MW थी जबकि 2 अप्रैल 2019 को यह माँग 1,68,326 MW थी। यानी 02 अप्रैल 2020 को माँग में 20 प्रतिशत कि कमी दर्ज हुई है।

 

 

उल्लेखनीय है कि 3 अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक संदेश में कोरोना वायरस की महामारी से लड़ने में सभी देशवासियों से देशव्यापी एकजुटता दिखाने के लिए 5 अप्रैल को रात में 9 बजे 9 मिनट के लिए सारी लाइटें बंद करके घरों के दरवाज़ों, बॉलकनी में मोमबत्तियाँ, दीये और मोबाइल लाइट जलाने का आह्वान किया है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.