क्राइम्स

यूपी: पीसीएस अधिकारी मणिमंजरी राय ने आत्महत्या की या हुई हत्या?

यूपी: पीसीएस अधिकारी मणिमंजरी राय ने आत्महत्या की या हुई हत्या?

 
कई मीडिया रिपोट्स के अनुसार मणिमंजरी राय के पिता ने कहा कि मणिमंजरी ने कई ठेकेदारों की फाइल को रिजेक्ट किया था। जिसके चलते उनकी हत्या हुई है। विपक्ष भी इस मामले में सरकार से निष्पक्ष जांच की मांग कर रहा है।

 

बलिया|

“…पलकों पे नींद आने दे

जरा फिर से मुस्कुराने दे

ए ज़िंदगी !

तू थोड़ी सी रुक जरा

थोड़ा सा वक़्त दे”

ये पंक्तियां उत्तर प्रदेश की पीसीएस अधिकारी मणिमंजरी राय द्वारा फेसबुक पर लिखी गईं थी। मणिमंजरी राय अब हमारे बीच नहीं रहीं। सोमवार, 6 जुलाई की देर रात उनके आत्महत्या करने की खबरें मीडिया में आईं। जिसके बाद यूपी प्रशासन में हड़कंप मच गया। एक ओर परिवार ने इसे आत्महत्या मानने से इंकार कर दिया तो वहीं अब विपक्ष भी इस मामले में सरकार से निष्पक्ष जांच की मांग कर रहा है।

images(46)

 

क्या है पूरा मामला?

प्राप्त जानकारी के मुताबिक यूपी के गाजीपुर की रहने वाली 30 वर्षीय मणिमंजरी राय ने दो साल पहले ही बलिया के मनियर नगर पंचायत के अधिशासी अधिकारी के पद पर कार्यभार ग्रहण किया था। वह जिला मुख्यालय के ही आवास-विकास कॉलोनी में किराये के मकान में रहती थीं और यहीं से उनका मनियर आना-जाना था।

स्थानीय लोगों के मुताबिक सोमवार को मणिमंजरी राय अपने तीसरे तल के मकान में अकेले ही थी। आस-पास के लोगों को जब कमरे की खिड़की के शीशे से कुछ अनहोनी की आशंका हुई। तो उन्होंने पुलिस को इसकी सूचना दी। पुलिस ने जरूरी औपचारिकता पूरी करने के बाद जब दरवाजा खोला तब पता लगा कि पीसीएस अधिकारी मणिमंजरी राय ने अपने बेडरूम में कथित तौर पर आत्महत्या कर ली है।

पुलिस अधीक्षक ने तत्काल फोरेंसिक टीम बुलाई। रात तक डीएम-एसपी मौके पर मौजूद रहे। कहा जा रहा है कि पुलिस को मौके से सुसाइड नोट भी मिला है, जिसका जिक्र फिलहाल नहीं किया जा रहा है।

 

 

पिता ने लगाया हत्या का आरोप

मणिमंजरी राय के आत्महत्या मामले में परिजनों ने आरोप लगाया कि यह आत्महत्या नहीं, फर्जी पेमेंट कराने के लिए हत्या हुई है। कई मीडिया रिपोट्स के अनुसार मणिमंजरी राय के पिता ने कहा कि मणिमंजरी ने कई ठेकेदारों की फाइल को रिजेक्ट किया था। जिसके चलते उनकी हत्या हुआ है।

 

 

अमर उजाला की ख़बर के मुताबिक मणिमंजरी राय के पिता जय ठाकुर राय ने कहा कि उनकी बेटी आत्महत्या कर ही नहीं सकती। लगातार उसकी परिवार वालों से बात हो रही थी। वह किसी तरह के तनाव में नहीं थी लेकिन बेटी को लगातार परेशान किया जा रहा था।

 

 

जय ठाकुर ने कुछ अधिकारियों, ठेकेदारों की ओर भी इशारा किया। उनका कहना है कि मणिमंजरी राय लगातार इस बारे में उन्हें बताया करती थीं। रविवार, 6 जुलाई को भी उनकी बात हुई थी, जिसमें बेटी ने बताया था कि शनिवार को उसका ड्राइवर हटा दिया गया और अब वह खुद गाड़ी लेकर आने जाने लगी है।

 

 

पिता ने कहा कि फर्जी पेमेंट को लेकर उसे लगातार परेशान किया जा रहा था। इसे लेकर वह काफी शिकायतें भी कर रही थी लेकिन उसे कोई तनाव नहीं था। पिता ने शिकायत कि की उनको बेटी के कमरे में भी नहीं जाने दिया गया। रात में केवल बॉडी दिखाई गई। इस मामले की शासन जांच कराए और हमें न्याय दे।

 

सरकारी महकमे से कई जुड़े लोगों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि इस आत्महत्या के पीछे दो महीने पहले हुए विकास कार्य के दो करोड़ रुपये का टेंडर हो सकता है। इस टेंडर के दौरान सरकारी नियम-कानून की बात महिला पीसीएस ने खड़ी की थी। दो करोड़ रुपये के टेंडर को लेकर आदेश कार्य के जारी क्रम में मणि मंजरी राय पर लगातार दबाव बन रहा था।

 

 

क्या कहा विपक्ष ने?

महिला पीसीएस अफसर मणिमंजरी के आत्महत्या के मामले में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कई सवाल उठाए हैं। प्रियंका गांधी वाड्रा ने मांग की कि इस पूरे मामले की निष्पक्ष जांच बेहद जरूरी है।

 

 

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने बुधवार को ट्विटर पर लिखा, ‘बलिया में तैनात गाजीपुर निवासी युवा अधिकारी मणिमंजरी के बारे में दुखद समाचार मिला। खबरों के अनुसार उन्होंने प्रशासन की कार्यप्रणाली पर गंभीर सवाल उठाए थे। मणिमंजरी के परिवार को न्याय मिले इसके लिए, सभी तथ्यों का सामने आना और निष्पक्ष जांच बहुत जरूरी है।’

 

 

समाजवादी पार्टी ने भी इस घटना पर दुख व्यक्त करते हुए शोकाकुल परिवार के प्रति संवेदना जाहिर की है।

सपा ने एक पोस्ट में लिखा, “’बलिया में तैनात अधिशासी अधिकारी मणिमंजरी का खुद के खिलाफ हो रहे षड्यंत्र से हार कर आत्महत्या करना दुखद एवं गंभीर सवाल खड़े करता है। कौन हैं वों जो साजिश कर प्रताड़ित कर रहे थे? सुसाइड नोट को आधार बनाकर न्याय दे सरकार।

 

 

गौरतलब है कि मीडिया के हवाले से बताया जा रहा है कि पीसीएस अधिकारी के कमरे से मिले सुसाइड नोट में उल्लेख किया गया है कि “मैं दिल्ली, मुंबई से बचकर बलिया चली आईं, लेकिन यहां मुझे रणनीति के तहत फंसाया गया है। इससे मैं काफी दुखी हूं। लिहाजा मेरे पास आत्महत्या करने के सिवाय कोई विकल्प नहीं हैं। हो सके तो मुझे माफ कर दीजिएगा।”

 

images(48)IMG-20200708-WA0187

 

प्रेरणादायी कविताएं लिखने वाली PCS अधिकारी मंजरी राय की खुदकुशी पर उठे सवाल
ईओ की आत्महत्या से लोग स्तब्ध

हालांकि पुलिस तहकीकात में जुटी है. लेकिन यह मौत कई मायने में रहस्यों से घिर गई है. आखिर ईओ ने इतना सख्त कदम क्यों उठाया?

विभागीय सूत्रों की माने तो करोड़ों का टेंडर में काफी घाल-मेल था. उक्त टेंडर के आदेश कार्य के जारी क्रम में मणि मंजरी राय पर काफी दबाव था. इसका ईई ने जवाब दे दिया था कि बिना बोर्ड के प्रस्ताव पारित पर कार्य आदेश जारी नहीं होगा. वजह कि टेंडर के खोलने के उपरांत ईओ अनुपस्थित थीं. उनके द्वारा अभिलेखों पर सिग्नेचर नहीं हुए थे. नगर पंचायत कर्मियों एवं जनप्रतिनिधियों में खींच तान होती रही.
नगर पंचायत मनियर के कर्मचारी और जनप्रतिनिधियों के बीच खींचतान अमूमन होता रहता रहा है. स्थानीय लोगों की माने तो नगर पंचायत अधिशासी अधिकारी मणि मंजरी राय विकास कार्यो को लेकर काफी चिंतित रहती थीं. लोगों से बातचीत में पता चला कि अक्सर वह तनाव में रहकर काम करती थीं. लोगों से नगर की समस्या पर अक्सर नराजगी जाहिर कर विकास कार्य की गति देने के लिए उत्साहित रहती थी.

सूत्रों के अनुसार बीते 24 जून को जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने करोड़ों की लागत से गौरा बगहीं स्थित बन रहे कान्हा पशु आश्रय स्थल का निरीक्षण किया. लगभग 2 वर्षो से बन रहे पशु आश्रय स्थल के कार्यों में शिथिलता को लेकर काफी नाराजगी जाहिर की थी. वहीं ईओ व ठेकेदार के मौके पर उपस्थित नहीं होने से जिलाधिकारी नाराज रहे.

 

जेम पोर्टल द्वारा मैनुअल 8 टेंडर विगत 25 मई को राज्य वित्त से करीब एक करोड़ रुपये का करवाया गया था तथा 14 वां राज्य वित्त का 5 मैनुअल टेंडर करीब 22 लाख का 25 जून को कराया गया था. मैनुअल टेंडर 22 लाख का कराया गया था. उसमें का 2 कार्य डूडा द्वारा पहले ही टेंडर करा दिया गया था. तथा गोपनीय टेंडर का कार्यादेश जारी नहीं हुआ था.

 

 

नगर पंचायत कर्मचारियों में शोक की लहर

मनियर नगर पंचायत की ईओ मणिमंजरी राय की सोमवार को मौत के बाद मंगलवार को खबर मिलते ही नगर पंचायत के कर्मचारियो ने दो मिनट का मौन रख कर शोक जताया. कार्यालय में काम काज नहीं हुआ. वहीं सभासद अमरेन्दर सिह, संजीत सिह, युवा नेता गोपाल जी, धन जी, रविन्दर जी ने गहरा दुःख प्रगट किया. साथ संदिग्ध हालात में हुई इस मौत का न्यायिक जाँच करवाने की मांग की.

 

 

मणिमंजरी के पिता ने लगाया गंभीर आरोप
जय ठाकुर राय (मणिमंजरी राय के पिता)
बांसडीह तहसील की मनियर नगर पंचायत की अधिशासी अधिकारी मणिमंजरी राय की मौत पर पिता ने भी गंभीर आरोप लगाया है. अधिकारी के पिता जय ठाकुर राय ने बेटी की हत्या कर कमरे में लटकाने का आरोप लगाया है. उन्होंने बेटी की हत्या के लिए कई सफेदपोशों की तरफ इशारा भी किया. मीडिया से उन्होंने दो टूक कहा कि वह आत्महत्या कर ही नहीं सकती. पिता जय ठाकुर राय ने कहा कि लगातार मणिमंजरी की परिजनों से बात हो रही थी. किसी तरह के तनाव में नहीं थी.

 

 
वहीं, अधिशाषी अधिकारी सेवा संघ ने भी मणिमंजरी की मौत की उच्चस्तरीय जांच कराने की गुजारिश डीएम से करते हुए उन्हें पत्रक सौंपा है. बलिया में सोमवार की शाम तीस वर्षीय अधिकारी की आवास विकास कॉलोनी स्थित किराये के मकान में पंखे से लटकती लाश मिली थी.

 

 

गाजीपुर के भांवरकोल की रहने वाली 30 वर्षीय मणिमंजरी राय की तैनाती करीब दो साल पहले मनियर नगर पंचायत के ईओ पद पर हुई थी. रात में घटना की जानकारी परिवार वालों को दे दी गई. परिजन रोते-बिलखते बलिया पहुंचे तो बेटी की हत्या का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि बेटी को मारकर लटका दिया गया है.

 

 

आखिर ड्राइवर से किस बात पर हुई थीं नाराज

मनियर नगर पंचायत से जुड़े लोगों के अनुसार बीते शनिवार को अधिशासी अधिकारी मणि मंजरी राय और उनके चालक के बीच कोई बात हुई थी. वह अपने चालक से काफी नाराज थीं. नगर पंचायत पहुंचते ही उन्होंने अपने चालक को भगा दिया था. नगर पंचायत अध्यक्ष को फोन कर दूसरा चालक बुलाया था.

 

 

अधिशाषी अधिकारी मणि मंजरी राय के पिता ने भी यह कहा कि ड्राइवर को हटाने की बात मेरी बेटी ने हमसे की थी. वह चालक राय को मनियर से लगभग चार किलोमीटर दूर छितौनी ग्राम सभा तक छोड़कर लौट गया था. वहां से मणि मंजरी राय अपनी गाड़ी स्वयं ड्राइव करते हुए बलिया स्थित आवास विकास कॉलोनी के अपने मकान में पहुंची थी. इसके बाद वह मनियर नगर पंचायत नहीं गईं और सोमवार की देर रात फांसी लगाकर सुसाइड कर ली.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.