इतिहास

विकास की गाड़ी पलटी गई, विकास का इनकाउंटर हो गया

विकास ने मार डाला, विकास को मार डाला
विकास क्योंकि वही दल कर सकता है जिसकी सरकार होती है तो जिसकी सरकार होती है वह दल विकास का, और विकास उस दल का हो जाता है जिसकी सरकार होती है।

 

FB_IMG_1594555634228

 

सच के साथ|देश छह साल से विकास को ढूंढ रहा है। छह साल पहले देश को बताया गया कि विकास आयेगा। विकास अपने आप नहीं आया तो विकास को लाया जाएगा। देश को विकासशील देशों में से निकाल कर और और विकास कर विकसित देशों में लाया जायेगा। सबको साथ ले सबका विकास किया जायेगा।

 

 

जब सरकार के नौ महीने पूरे हो गये तो लोगों को लगा कि अब तो विकास की डिलीवरी होने ही वाली है, विकास पैदा होने ही वाला है। लेकिन मोदी जी प्रधानमंत्री बने थे न कि उनका विवाह हुआ था कि नौ महीने होते होते विकास नाम का कोई बच्चा पैदा हो जाता। और न ही विकास किसी पिज्जा का नाम था जिसकी किसी तय समय में गारंटी के साथ डिलीवरी हो जाये। अतः विकास डिलीवर होने की चीज थी ही नहीं, तो नहीं ही हुई। यानी विकास की डिलीवरी न तो नौ महीने में ही हुई और न ही अब छह साल में हुई है।

 

FB_IMG_1594580311785

 

इधर लोग देश में विकास के जन्म की प्रतीक्षा ही कर ही रहे थे कि उधर चंडीगढ़ में साक्षात विकास दिख ही गया। पूरा बड़ा व्यस्क विकास। वहाँ पर विकास भाजपा के तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष के पुत्र के रूप में दिखाई दिया। उस विकास की शिकायत एक लड़की ने दर्ज कराई। वह लड़की खास थी इसलिए भाजपा के इस विकास को बरदाश्त नहीं कर पाई। कोई आम लड़की होती तो उसे इस भाजपाई विकास के होने को बरदाश्त करना ही पड़ता। आखिर वह भाजपा के नेता द्वारा बनाया किया गया विकास था। जब तक वह विकास जेल में था, हरियाणा का विकास थमा हुआ था। पर उस विकास को जमानत मिल गई और वह जेल से बाहर है। अब हरियाणा में आगे भी और विकास होता रहेगा।

 

 

विकास लगातार होते भी रहना चाहिए और हुआ भी है। हो सकता है बीच बीच में ठहर गया हो पर ठहरा हुआ विकास फिर से शुरू हो जाता है। और जब हरियाणा में विकास हो तो उत्तर प्रदेश में क्यों न हो। और उत्तर प्रदेश बड़ा प्रदेश है तो, तो विकास भी बड़ा होना चाहिए। वैसे भी उत्तर प्रदेश में पिछले तीन साल से विकासोन्मुखी योगी जी की सरकार है और बहुत से लोग योगी जी को मोदी जी से पहले मानते हैं। तो इस लिए विकास भी वहाँ अधिक और बड़ा हुआ।

 

 

विकास तो उत्तर प्रदेश में पहले से ही हो रहा था, योगी जी की सरकार बनने से पहले से ही, मायावती की सरकार में, अखिलेश की सरकार में। पर लोगों को दिखा तब ही है जब वह अधिक बड़ा हो गया। विकास पुरुषों के होने से पहले भी विकास था और विकास पुरुषों के होते हुए भी विकास है और विकास पुरूषों के न रहने पर भी विकास रहेगा। विकास का होना, बने रहना और होते रहना ही निरंतर विकास की निशानी है। हमारे देश में लोकतंत्र बना रहे, इसके लिए विकास का बना रहना भी आवश्यक है। अगर विकास नहीं होगा तो न तो देश उन्नत होगा और न ही लोकतंत्र बचेगा।

 

 

विकास शुरू से विकास ही होता है। जब वह अच्छा विकास होता है तो किसी के काम का नहीं होता है। राजनेताओं के तो हरगिज नहीं। तब वह सिर्फ एक वोट होता है, सिर्फ एक ही वोट। वह भी पाँच साल में एक बार। और तो और वह अच्छा विकास तो अपने घर के लोगों पर भी किसी को वोट डालने के लिए दबाव नहीं डालता है। ऐसा अच्छा विकास किसी के किसी काम का नहीं है।

 

 

विकास तभी काम का होता है जब वह वोट और नोट, दोनों दिलवाये। ऐसा विकास सभी राजनेता करते हैं। इस विकास को भी उत्तर प्रदेश के राजनेताओं ने ही किया। विकास क्योंकि वही दल कर सकता है जिसकी सरकार होती है तो जिसकी सरकार होती है वह दल विकास का, और विकास उस दल का हो जाता है जिसकी सरकार होती है। विकास इसी तरह हर सरकार के समर्थन से अपना विकास करता जाता है। सरकार भी विकास के समर्थन से अपना विकास करती जाती है।

 

 

विकास कभी भी गरीबों का नहीं होता है। वह तो गरीबों को मार कर ही बनता है। वह गरीबों के नाम पर अमीरों, अफसरों और राजनेताओं का होता है। विकास के होने में अमीरों, अफसरों और राजनेताओं का हाथ होता है। विकास की कहानी लिखी जाती है कभी खून से, कभी भ्रष्टाचार से और कई बार दोनों से। जब विकास की.पोल खुलने की संभावना होती है तो विकास को ढहा दिया जाता है, लीपापोती शुरू हो जाती है। राजनेताओं की, अफसरों की पोल न खुले इसलिए विकास के मलबे तक को गायब करवा दिया जाता है।

 

 

विकास के उत्थान और पतन में पुलिस भी महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती है। जब विकास का काम चल रहा होता है तो पुलिस उसकी राह में आये रोड़ों को बलपूर्वक हटाती है। विकास की राह में रुकावट बन रही जमीनों पर कब्जा करवाती है। विकास का सहारा बनती है। पर जब विकास की पोल खुलने लगती है तो विकास को गिरवाने का कार्य भी पुलिस की निगरानी में ही होता है। यहाँ तक कि मलबा उठवाने का काम भी पुलिस ही करवाती है जिससे कोई जाँच एजेंसी विकास की जाँच पड़ताल न कर सके। विकास चाहे किसी का भी हो, कोई सा भी हो, कहीं का भी हो, उसकी नियति ऐसी ही होती है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.