इतिहास

दिल्ली: सबसे बड़े कोविड सेंटर में दुष्कर्म का मामला, आख़िर सुरक्षा में इतनी बड़ी चूक हुई कैसे?

दिल्ली: सबसे बड़े कोविड सेंटर में दुष्कर्म का मामला, आख़िर सुरक्षा में इतनी बड़ी चूक हुई कैसे?
राजधानी के सरदार पटेल कोविड सेंटर में नाबालिग कोविड पॉज़ीटिव के साथ कथित तौर पर दुष्कर्म का मामला सामने आने के बाद पुलिस ने एफ़आईआर दर्ज कर दोनों अभियुक्तों को ज्यूडिशियल कस्टडी में भेज दिया है। हालांकि इस घटना ने एक बार फिर महिला सुरक्षा के तमाम दावों की पोल खोल दी है।

 

नई दिल्ली|कोरोना कहर के बीच महिलाएं दोहरी चुनौती का सामना कर रही हैं। लॉकडाउन के चलते घरेलू हिंसा में बढ़ोतरी तो हुई ही है, साथ ही आए दिन कोविड सेंटर और आइसोलेशन वार्ड में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों की तमाम घटनाएं सामने आ रहीं हैं। ताज़ा मामला राजधानी दिल्ली के सबसे बड़े कोविड सेंटर ‘सरदार पटेल कोविड सेंटर’ का है, जहां एक नाबालिग कोविड पॉज़ीटिव के साथ कथित तौर पर दुष्कर्म का मामला सामने आया है। पुलिस ने आरोपी को पॉक्सो एक्ट के तहत गिरफ्तार कर लिया है। तो वहीं उसके एक अन्य साथी को भी वारदात का वीडियो बनाने के आरोप में हिरासत में लिया गया है। हालांकि इस घटना ने एक बार फिर महिलाओं की सुरक्षा के तमाम दावों की पोल खोल दी है।

 

 

क्या है पूरा मामला?

पुलिस के मुताबिक घटना 15 जुलाई की है। युवती जब देर रात वॉशरूम जा रही थी, तभी आरोपी ने अपने एक साथी के साथ मिलकर बलात्कार की घटना को अंजाम दिया। कोविड सेंटर के मैनेजमेंट ने पुलिस को इसकी सूचना 16 जुलाई को दी। जिसके बाद आईपीसी की धारा 376 (रेप) व पॉक्सो (प्रोटेक्शन ऑफ़ चल्ड्रेन फ्रॉम सेक्शुअल ऑफ़ेस) के तहत मामला दर्ज कर जाँच की जा रही है।

साउथ दिल्ली के एडिशनल डिप्टी कमिश्नर ऑफ़ पुलिस परविंदर सिंह ने घटना की पुष्टि करते हुए मीडिया को बताया कि पीड़िता ने सेंटर में ही इलाज करा रहे 19 साल के एक युवक पर रेप का आरोप लगाया है। वहीं उसके एक अन्य साथी पर रेप का वीडियो बनाने की शिकायत दर्ज हुई है। पुलिस ने इस मामले में तुरंत कार्रवाई करते हुए दोनों अभियुक्तों को हिरासत में लेकर ज्यूडिशियल कस्टडी में भेज दिया है। साथ ही एफ़आईआर भी दर्ज कर ली गई है। फिलहाल पीड़िता को पुलिस की निगरीनी में दूसरी जगह शिफ़्ट कर दिया गया है।

एक पुलिस अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर न्यूज़क्लिक को बताया कि पीड़िता ने अपनी शिकायत में बताया है कि 11 जुलाई को उसका कोविड टेस्ट हुआ था जिसमें वो पॉजिटिव निकली थी। इसके बाद उसे 11 जुलाई की ही रात सरदार पटेल कोविड केयर सेंटर भेज दिया गया।

अधिकारी ने कहा, “पीड़िता के मुताबिक दुष्कर्म के बाद आरोपी ने किसी को बताने पर उसे जान से मारने की धमकी भी दी थी। जिसके बाद वो बुरी तरह से डर गई थी। हालांकि पीड़िता ने अगले दिन सेंटर में मौजूद डॉक्टरों को इसकी सूचना दी। जिसके तुरंत बाद डॉक्टरों ने पुलिस को इस बारे में अवगत करा दिया था।”

दिल्ली सरकार का क्या कहना है?

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि दिल्ली पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। सरकार भी मामले की जांच करवा रही है। दोषियों को किसी कीमत पर नहीं बख्शा जाएगा।

बता दें कि साउथ दिल्ली के छतरपुर इलाक़े में स्थित 10,000 बिस्तर वाला सरदार पटेल कोविड सेंटर राधा स्वामी सत्संग ब्यास परिसर में बना है। यह कोविड सेंटर भारत का सबसे अधिक क्षमता वाला कोविड सेंटर है। इसके संचालन की ज़िम्मेदारी आईटीबीपी के हवाले है। आईटीबीपी ही इसकी नोडल एजेंसी है। ऐसे में सुरक्षा में इतनी बड़ी चूक कैसे हो गई, इस पर भी कई लोग सवाल खड़े कर रहे हैं।

आखिर सुरक्षा में इतनी बड़ी चूक हुई कैसे?

सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकार ऋचा सिंह इस मामले पर कहती हैं, “इस कोविड सेंटर की समीक्षा गृहमंत्री अमित शाह ने खुद की थी। सुरक्षा में तैनात आईटीबीपी और दिल्ली पुलिस दोनों गृहमंत्री को रिपोर्ट करते हैं, ऐसे में इस घटना की जिम्मेदारी भी उनकी ही बनती है।

सवाल उठता है कि आखिर सुरक्षा में इतनी बड़ी चूक हुई कैसे? लेकिन गृहमंत्री ने अभी तक एक बार भी इस घटना को लेकर कुछ नहीं बोला है, प्रधानमंत्री ने लॉकडाउन में देश के नाम कई संबोधन किए लेकिन कभी महिलाओं की सुरक्षा और उनके खिलाफ बढ़ते अपराधों पर कुछ नहीं कहा। महिला एवं बाल विकास मंत्री भी मौन साधे हुए हैं। सत्ता पर काबिज़ लोगों को ये समझना होगा कि सिर्फ ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओं’ का नारा देने से कुछ नहीं होता इसके प्रति सरकार की प्रतिबद्धता भी होनी चाहिए। तभी अपराधों में कमी आएगी।

बता दें कि दिल्ली हाईकोर्ट ने लॉकडाउन में बढ़ती घरेलू हिंसा और बाल उत्पीड़न के संदर्भ में एक जनहित याचिका की सुनवाई के दौरान कहा था कि लॉकडाउन के चलते महिलाओं और बच्चों के खिलाफ हिंसा-उत्पीड़न के मामलों की कार्रवाई में कोई व्यवधान नहीं होना चाहिए।

इसके साथ ही हाईकोर्ट ने मामले से जुड़े हुए सभी पक्षों जिसमें केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्रालय, राष्ट्रीय महिला आयोग, दिल्ली महिला आयोग, केंद्र सरकार, दिल्ली सरकार शामिल हैं से कहा कि वह लोगों को जागरूक करने के लिए अलग-अलग कैंपेन चलाएं। मदद के लिए जरूरी हेल्पलाइन नंबर जारी करें, जो हर समय कार्यात्मक हों और इन्हें मैनज करने के लिए कुशल लोगों को लगाया जाए, जो शिकायतकर्ता की परेशानी समझ कर उसकी सही काउंसलिंग कर सके।

 

गौरतलब है कि राजधानी दिल्ली में किसी कोविड सेंटर में आया यह अपने तरह का पहला मामला है। लेकिन इससे पहले बिहार और उत्तर प्रदेश में ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं। बिहार के एक मामले में तो पीड़िता की मौत भी हो गई थी। महिला के परिवार वालों ने कोविड सेंटर के वॉर्ड ब्वॉय पर दुराचार करने का आरोप लगाया था।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.