क्राइम्स

बस्ती: बिना डियूटी के ही एएनएम को स्वास्थ्य विभाग ने देता रहा तनख्वाह

 

बस्ती। बडा दिल रखने वाले साहब की खुशामद और कृपा बनी रहे तो बिना डियूटी किये नौकरी चलती रहेगी। इसकी बानगी देखना हो तो स्वास्थ्य विभाग मे देखी जा सकती है जहां भानपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के अधीक्षक डा0 विवेक विश्वास के आसीम अनुकम्पा से असनहरा उपकेन्द्र पर तैनात ए.एन.एम. वीना श्रीवास्तव पिछले ढाई साल से बिना डियूटी किये वेतन उठा रही है।

 

और बिना अस्पताल आये उसकी डियूटी भी प्रमाणित कर वेतन आहरित भी कर दिया जाता है। पिछले ढाई साल मे स्वास्थ्य विभाग को वेतन के मद मे 2 करोड से अधिक का चूना एमओआईसी एवं एएनएम द्वारा लगाया जा चुका है। इनकी पकड इतनी मजबूत है कि यह सरकार का खजाना भी लुटाने की क्षमता रखते हंै।

 

 

चर्चा है कि एएनएम वीना श्रीवास्तव को मिलने वाले वेतन का आधा हिस्सा एमओआईसी तथा आधा हिस्सा एएनएम के जेब मे जाता है। न हर्रे न फिटकिरी रंग चोखै चोखा की कहावत यहां चरितार्थ है। भ्रष्टाचार का यह खेल डा0 विवेक विश्वास के अधीक्षक बनने के बाद से ही चल रहा है। जिसका भनक न तो जिला प्रशासन को लगा है और नही स्वास्थ्य विभाग को। अधीक्षक डा0 विवेक विश्वास के कुकर्माें एवं भ्रष्टाचार मे तत्कालीन एसडीएम भानपुर आशाराम वर्मा का सहयोग एवं संलिप्तता चर्चा आम है। जिसमें तमाम चैंकाने वाले तथ्य प्रकाश मे आये।

जिले के भानपुर खास की रहने वाली वीना श्रीवास्तव नियमित एएनएम की ज्वाइनिंग 28 जून 1983 की है और वर्तमान मे उनकी तैनाती सीएचसी भानपुर के अन्तर्गत उपकेन्द्र असनहरा मे है। पडताल मे पता चला कि पिछले ढाई वर्षों से आंख से कम दिखने तथा अस्वस्थ्य रहने के कारण वीना श्रीवास्तव न तो डियूटी कर रहीं हैं और न ही किसी बैठकों मे शामिल होती हैं।

 

 

फिर भी इसकी नियमित डियूटी प्रमाणित कर डा0 विवेक विश्वास द्वारा वेतन आहरित किया जा रहा है और एएनएम को मिलने वाले वेतन का आधा-आधा हिस्सा अधीक्षक और एएनएम मे बंट जाता है। इतना ही नही उपकेन्द्रों पर दिए जाने वाले बजट के भी बंदरबाट की प्रबल संभावना है। बताया तो यहां तक जाता है कि अधीक्षक डा0 विश्वास अपनी मनमानी करने के लिए सरकारी अभिलेखों मे भी कूट रचना की जाती है। जो गंभीर अनियमितता और अपराध के श्रेणी मे आता है।
असनहरा उपकेन्द्र पर गायत्री एएनएम संविदा के रूप मे कार्यरत है पूछने पर गायत्री ने बताया कि वीना श्रीवास्तव की तैनाती असनहरा उपकेन्द्र पर ही है लेकिन काफी दिनों से वे डियूटी नही कर रही हैं। ग्राम प्रधान उर्मिला देवी के प्रतिनिधि राम जनम ने बताया कि एक साल से अधिक हो गय़े एएनएम वीना श्रीवास्तव डियूटी नही कर रही हैं उन्होेने स्वास्थ्य विभाग को कठधरे मे खडा करते हुए यह भी कहा कि इसकी जानकारी विभागीय अधिकारियों को है लेकिन इस पर कार्रवाई क्यों नही हो रही है यह वही जानें। क्षेत्रीय आशा राधिका ने भी वीना श्रीवास्तव के लम्बे समय से डियूटी न करने का समर्थन किया।

 

 

लेकिन एमओआईसी डा0 विवेक विश्वास अपने काले कारनामों को छिपाने तथा उच्चाधिकारियों को गुमराह करने के उद्वदेश्य से तरह-तरह का कुचक्र रच रहे है। अगर इसके काले कारनामों की निष्पक्ष जांच किसी सक्षम अधिकारी द्वारा की जाये तो अनेकों चैंकाने वाले मामले प्रकाश मे आयेंगे। इसके द्वारा पूर्व मे किये गये हैरतअंगेज कारनामे कई बार अखबारों की सुर्खियां बन चुकी है। फिर भी जिम्मेदारों की आंखे बन्द हैं या बन्द कर दी गयी हैं।

 

 

चर्चा तो यहां तक है कि एमओआईसी डा0 विश्वास के अनेकों गैर कानूनी क्रिया कलापों मे तत्कालीन एसडीएम भानपुर आशाराम वर्मा का भरपूर सहयोग रहा। डीएम बस्ती ने जिले के सभी पीएचसी एवं सीएचसी पर अनुपस्थित स्वास्थ्य कर्मियों के अनुपस्थिति की प्रतिदिन रिर्पोटिंग करने का निर्देश भी दिया गया है फिर भी कोविड-19 मे डियूटी से लगातार अनुपस्थित एएनएम वीना श्रीवास्तव की सूचना जिलाप्रशासन को एमओआईसी डा0 विश्वास द्वारा नही दिया गया।
बताया जाता है कि सीएचसी भानपुर मे जब से अधीक्षक के पद पर डा0 विवेक विश्वास की तैनाती हुई है तब से इस भ्रष्टाचार का खेल शुरू हुआ जो आज भी जारी है। डा0 विश्वास का अपने विभाग मे ही आम छबि ठीक नही है क्योंकि वे अपने ही उच्चाधिकारियों के आदेश को ठेंगा दिखाने का कार्य करते आ रहे हैं। डा0 विवेक विश्वास के कारनामों को देखते हुए एक निरीक्षण मे उनके विरूद्व एडी हेल्थ ने डा0 विश्वास को तत्काल अधीक्षक के पद से हटाने का निर्देश सीएमओ को दिया था। लेकिन जुगाड के बल पर डा0 विश्वास कार्यवाही से बच गये।
उपरोक्त प्रकरण मे जब एमओआईसी डा0 विवेक विश्वास से पूछा गया तो उन्होेने बताया कि एएनएम वीना श्रीवास्तव बराबर डियूटी करती हैं। पिछले कुछ दिनों पूर्व उनकी तबियत खराब होने के कारण अवकाश लिया था। लेकिन वर्तमान मे वीना श्रीवास्तव नियमित डियूटी कर रही हैं।
इस सम्बन्ध मे सीएमओ डा0 ए.के. गुप्ता ने बताया कि प्रकरण आपके द्वारा संज्ञान मे लाया गया है जो अत्यन्त गंभीर है प्रकरण की गहनता से जांच करा कर दोषी पाये जाने पर कठोर कार्रवाई की जायेगी।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.