Andhara Pradesh

केरल विमान हादसा: लैंडिंग से पहले हुई थी फ्रिक्‍शन की जांच, पायलट का खराब निर्णय बना दुर्घटना का कारण- DGCA

Kerela Viman Hadsa :दुबई से 190 लोगों के लेकर आ रहा एअर इंडिया एक्सप्रेस (Air India Express) का एक विमान शुक्रवार को केरल (Kerala) के कोझिकोड एयरपोर्ट (Kozhikode Airport) के रनवे पर फिसलने के बाद दुर्घटनाग्रस्‍त (Plane Crash) हो गया. विमान रनवे पर फिसलने के बाद खाई में गिर पड़ा और दो हिस्सों में टूट गया. इस हादसे में अब तक 18 लोगों की मौत हो चुकी है. ब​ता दें कि कैश विमान का डिजिटल फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर बरामद कर लिया गया है. इसकी मदद से डेटा को डिकोड कर हादसे के कारणों की सही जानकारी का पता लगाया जा सकता है.
विदेश राज्यमंत्री वी मुरलीधरन ने बताया पायलट की समझदारी के कारण एक बड़ा हादसा होने से बच गया. उन्होंने बताया कि पायलट ने विमान के क्रैश होने से पहले ही इंजन को बंद कर दिया था, जिसके कारण हादसे के बाद विमान में आग नहीं लगी. अगर आग लग जाती तो बड़ा हादसा हो सकता था.

 

 

केरल में हुए विमान हादसे को लेकर नागरिक उड्डयन मंत्रालय को रिपोर्ट सौंप दी है। इसमें बताया गया है कि एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान जब कोझिकोड एयरपोर्ट पर पहुंचा तो एयर ट्रैफिक कंट्रोलर (एटीसी) ने पायलट से 28 नंबर रनवे पर लैंडिंग कराने को कहा। लेकिन भारी बारिश के चलते पायलट लैंडिंग कराने में सफल नहीं हो सका। वंदे भारत मिशन के तहत खाड़ी के देशों से भारतीयों को लेकर लौटी एयर इंडिया एक्सप्रेस की फ्लाइट आइएक्स-1344 की पहले कोझिकोड एयरपोर्ट के 28 नंबर रनवे पर लैंडिंग होनी थी। लेकिन भारी बारिश के चलते पायलट रनवे के करीब आने के बावजूद लैंडिंग नहीं करा सका था। जानिये रिपोर्ट में और क्‍या कहा गया है।

 

एअर इंडिया एक्सप्रेस (Air India Express) का एक विमान शुक्रवार को केरल (Kerala) के कोझिकोड एयरपोर्ट (Kozhikode Airport) के रनवे पर फिसलने के बाद दो हिस्सों में टूट गया. मृतकों में मुख्य पायलट कैप्टन दीपक साठे और उनके सह-पायलट अखिलेश कुमार भी शामिल हैं.

 
ब्लैक बॉक्स से खुलेगा हादसे का राज
दुर्घटनाग्र्रस्त विमान के ब्लैक बॉक्स को जांच के लिए दिल्ली में नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) के लैब में लाया गया है। डीजीसीए के महानिदेशक अनिल कुमार ने रविवार को कहा कि ब्लैक बॉक्स से जल्द ही ट्रांसक्रिप्ट को निकाला जाएगा। उन्होंने कहा कि विस्तृत और निष्पक्ष जांच के बाद ही हादसे के असली कारणों का पता चल सकेगा। डीजीसीए महानिदेशक ने कहा कि हादसे की जांच शुरू हो गई है। अंतरराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन (आइसीएओ) द्वारा तय दिशानिर्देशों के मुताबिक विमान दुर्घटना जांच ब्यूरो (एएआइबी) हादसे की जांच कर रहा है।

 

रिपोर्ट में कहा गया है
– पायलट ने भारी बारिश के चलते लैंडिंग कराने में असमर्थता की बात एटीसी को बताई। इसके करीब 16 मिनट बाद पायलट ने 10 नंबर रनवे पर लैंडिंग कराने की अनुमति मांगी।
– मान्य प्रक्रिया के तहत पायलट को उस रनवे की मौजूदा स्थिति के बारे में जानकारी दे दी गई।
– रिपोर्ट के मुताबिक बारिश के चलते दृश्यता दो हजार मीटर के आसपास थी। हालांकि, धीरे-धीरे इसमें सुधार भी हो रहा था।

– पायलट ने जब रनवे नंबर 10 पर लैंडिंग कराई, तो निर्धारित टच डाउन जोन (टीडीजेड) से करीब हजार मीटर आगे बढ़ गया था। यह स्थान टैक्सीवे सी के करीब था।
– रनवे पर टीडीजेड वह क्षेत्र होता है जहां विमान सबसे पहले सतह के संपर्क में आता है।
– निर्धारित क्षेत्र से आगे विमान के लैंड करने से एटीसी को अनहोनी की आशंका हो गई थी। उसने तुरंत आपात सेवाओं को संपर्क किया।
– रनवे पर तैनात रहने वाले सीएफटी (अतिरिक्त ईंधन टैंक) को तुरंत विमान के पीछे जाने को कहा, क्योंकि लैंडिंग के बाद एटीसी को रनवे पर कहीं विमान नजर नहीं आ रहा था।

 

-टीएफटी को भी जब विमान रनवे पर नहीं नजर आया तो उसने आगे बढ़कर देखा और विमान खाई में गिरा मिला था।

 

रनवे पर उतरने के बाद रुका ही नहीं विमान
विमान हादसे में बचाए गए एक यात्री रियास ने बताया कि लैंडिंग से पहले विमान ने दो बार हवा में हवाईअड्डे का चक्कर लगाया. उन्होंने बताया कि मैं पीछे की सीट पर था. एक तेज आवाज हुई और मुझे नहीं पता उसके बाद क्या हुआ. एक अन्य यात्री फातिमा ने कहा कि विमान काफी ताकत से नीचे उतरा और आगे बढ़ा.डीजीसीए के बयान में कहा गया कि हवाईपट्टी-10 पर उतरने के बाद विमान रुका नहीं और हवाईपट्टी के अंत तक पहुंचकर खाई में गिरने के बाद दो हिस्सों में टूट गया. एअर इंडिया एक्सप्रेस के बेड़े में सिर्फ बी737 विमान हैं.

 

 

विमान हादसे पर प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति ने जताया दुख
केरल में हुए विमान हादसे पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख जताया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ​विमान हादसे को लेकर केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन से बात की है और हर संभव सहायता देने का आश्वासन दिया है. पीएम मोदी ने विदेश राज्यमंत्री मुरलीधरन को हालात का जायजा लेने के लिए केरल भेजा है. देर रात कोझीकोड पहुंचे विदेश राज्यमंत्री ने अधिकारियों के साथ बैठक कर हादसे के संबंध में जानकारी ली. वे पीड़ितों के परिजनों से भी मुलाकात करेंगे.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.