अयोध्या

संपादकीय: सबका राम जी करेंगे बेड़ा पार

तिरछी नज़र: सबका राम जी करेंगे बेड़ा पार
जब कोई आस नहीं रहती तो राम, तेरा ही सहारा है। वैसे भी जब जनता सरकार से पूछेगी तो सरकार बता तो सकेगी कि कोरोना काल में बीमारी रोकने के लिए भूमि पूजन किया गया। जब युवा रोजगार मांगेंगे तो भी उन्हें मंदिर ही दिखाना है। जब जनता भूख और गरीबी पर प्रश्न करेगी तो मंदिर तो है न।

 

सच के साथ|पाँच अगस्त को अयोध्या में उच्चतम न्यायालय के समझ में न आने वाले फैसले के बाद राम मंदिर का भूमि पूजन हो गया। बताया जा रहा है कि बहुत ही शुभ मुहूर्त में हुआ है। ऐसे काम शुभ मुहूर्त में ही होने चाहिए। इसीलिए यह कार्य भी बहुत ही शुभ मुहूर्त में हुआ है।

हिन्दू धर्म में, और अब क्योंकि हिन्दू धर्म और देश एक ही बना दिये गए हैं, तो कह सकते हैं कि हमारे देश में, हर शुभ कार्य मुहूर्त देख कर ही किया जाता है। बच्चे के पैदा होने का काम भगवान ने अपने हाथ में लिया हुआ है और मरने का काम भी। बस ये दो काम ऐसे रहे हैं जो बिना मुहूर्त के होते हैं अन्यथा जो भी शुभ कार्य मनुष्य अपने आप करता है, बिना मुहूर्त सुझवाये नहीं करता है।

बच्चा पैदा होने के बाद उसके सारे समारोह यथा नामकरण संस्कार, अन्नप्राशन संस्कार, मुंडन समरोह आदि सभी किसी ज्ञानी पंडित से शुभ मुहूर्त निकलवा कर ही होते हैं। शादी विवाह से संबंधित सभी कार्यक्रम भी बिना शुभ लग्न के सम्पन्न नहीं होते हैं। कोई भी काम धंधा शुरू करना हो तो फिर शुभ मुहूर्त। यानी पूरी जिंदगी ही मुहूर्त के हिसाब से चलती है। शुभ मुहूर्त निकलवा कर भी, उसी के हिसाब से चलती हुई जिन्दगी कैसी चलती है, सबको पता ही है।

अब तो बच्चा पैदा करने का काम भी लोग मुहूर्त निकलवा कर करने लगे हैं। पंडित जो मुहूर्त निकालता है, उसी समय ऑपरेशन करवा बच्चा पैदा करवा लेते हैं। संभव है कुछ समय बाद लोग मरने का भी मुहूर्त निकलवायें और उसी समय मरना चाहें। कि इस मुहूर्त में मरने से मोक्ष प्राप्त होगा, इस मुहूर्त में मरने से स्वर्ग मिलेगा और इस मुहूर्त में देह त्याग करने से अम्बानी, अडानी, टाटा, बिरला के यहाँ पुनर्जन्म होगा। अस्पताल वालों से कहें कि यह घड़ी अच्छी है, दादाजी का वेंटिलेटर बंद कर दीजिए।

बताया जाता है कि पाँच अगस्त 2020 को दोपहर बारह बज कर चवालीस मिनट और आठ सेकंड से चालीस सेकंड तक बहुत ही शुभ मुहूर्त था। इसीलिए इसी समय रामजन्मभूमि मंदिर का भूमिपूजन हुआ। गुनी पंडित, पंचाग के ज्ञाता बताते हैं कि उस समय बहुत ही उत्तम योग था। भाद्रपद माह शुरू हुआ था। यानी चौमासा चल रहा था। वही चार महीने जिनमें शुभ कार्य निषेध होते हैं। जो लोग मुहूर्त निकाल कर विवाह आदि करते हैं, इस चार मास में ऐसे शुभ कार्य नहीं करते हैं। एक दिन पहले ही पंचक लगे थे यानी पाँच अशुभ दिन। फिर देवता भी सोये हुए थे, देवशयनी एकादशी से देवउठानी एकादशी तक। देश के इस कार्य के लिए इससे अधिक शुभ मुहूर्त और कब निकलता।

लेकिन इन दकियानूसी बातों को मैं नहीं मानता। और न ही देश के कर्ता धर्ता मानते हैं। और तो और वर्तमान प्रगतिशील काल में पंडित, पुजारी, साधू संत, कोई नहीं मानता है, विशेष रूप से जब कोपभाजन का भय हो तब तो हरगिज नहीं। तो इसीलिए भूमिपूजन करा लिया गया। पर ये सब लोग मानवता को तो मानते हैं न या वहाँ भी ‘कुत्ते के पिल्ले’ जैसी बात है। देश में, और देश में ही क्या पूरे विश्व भर में बीमारी फैली हुई है। देश में रोज पचास हजार से अधिक मरीज सामने आ रहे हैं। चालीस हजार के करीब मृत्यु हो गई हैं। देश के गृहमंत्री और प्रधानमंत्री जी के अन्यतम साथी बीमारी के कारण ही अस्पताल में भर्ती हैं। जिस प्रदेश में पूजन हुआ उसी की एक कैबिनेट मंत्री हाल ही में बीमारी के कारण चल बसी हैं। राज्यपाल, मुख्यमंत्री, मंत्री, सांसद, प्रदेशाध्यक्ष, विधायक, अफसर, डाक्टर सभी कहीं न कहीं इसी बीमारी से अस्पतालों में भर्ती हैं। बीमारों की कुल संख्या बीस लाख से ऊपर पहुँच चुकी है। यह आपातकाल भी कोई मुहूर्त है पूजन करने का।

पर फिर लगा यही तो मुहूर्त है पूजा करने का, राम मंदिर बनाने का। देश में फैली हुई बीमारी को सरकार रोक नहीं रही है, रोकने की नीयत भी नहीं लगती है। अब बीमारी न्यू नॉर्मल घोषित की जा चुकी है, आदत डालने के लिए कहा जा चुका है। नेता-अभिनेता, महानायक-खलनायक, मंत्री-संत्री, सांसद-विधायक, अमीर-गरीब सभी बीमारी से त्रस्त हैं। और सरकार है कि हाथ पर हाथ रखे बैठी है। जितना कर सकती है, उतना भी नहीं कर रही है। सो पूजन ही कर लिया जाये। जब कोई आस नहीं रहती तो राम, तेरा ही सहारा है। वैसे भी जब जनता सरकार से पूछेगी तो सरकार बता तो सकेगी कि कोरोना काल में बीमारी रोकने के लिए भूमि पूजन किया गया। जनता हो या सरकार, सबका राम जी करेंगे बेड़ा पार।

वैसे भी सरकार के लिए तो यह मुहूर्त बहुत ही शुभ है। पहली बात तो अगर सरकार कोरोना के खत्म होने या फिर कम होने का ही इंतज़ार करने में लग जाये तो फिर न जाने कब तक इंतजार करना पड़ जाये। देवताओं के उठने का या फिर चतुर्मास समाप्त होने की प्रतीक्षा करते तो बिहार के चुनाव हाथ से निकल जायें। वैसे भी यदि मंदिर बनाने के लिए शुभ मुहूर्त की प्रतीक्षा करते रहे तो अगले आम चुनाव से पहले मंदिर बनेगा कैस। जब जनता बीमारी से इलाज पर जवाब मांगेगी तो उन्हें मंदिर ही तो दिखाना है। जब युवा रोजगार मांगेंगे तो भी उन्हें मंदिर ही दिखाना है। जब जनता भूख और गरीबी पर प्रश्न करेगी तो मंदिर तो है न। जब स्कूल, कालेज और अस्पताल मांगेगी तो भी मंदिर ही तो सामने रखना है। मंदिर सबका बेड़ा पार करेगा। जनता का भी और सरकार का भी।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.