क्राइम्स

सिद्धार्थनगर: निर्दयी मां ने किया अपने दो बच्चों का कत्ल

सिद्धार्थनगर| शोहरतगढ़ थाना क्षेत्र के ग्राम परसा स्टेशन में पारिवारिक विवाद से क्षुब्ध एक मां ने अपने दो मासूम बेटों को पोखरे में डुबो कर मार डाला। खुद मरने से डर गई और बगल के खेत में अचेत हो गिर पड़ी। शनिवार को पोखरे से अमन (4 ), अखिलेश (2) का शव निकाला गया। इस लोमहर्षक घटना को लेकर पूरा गांव स्तब्ध और नि:शब्द है। सावित्री पत्‍‌नी हरिकिशन का अपनी सास व ननदों से किसी बात को लेकर गुरुवार को कहासुनी हुई। इससे नाराज होकर वह अपने दोनों बेटों के साथ घर निकलकर चली गई। काफी देर बाद घर न आने पर परिजन मायके व आसपास के गांव में खोजना शुरू किए। शुक्रवार को गांव के पूरब एक खेत में अचेत अवस्था में मिली। स्वजनों ने शोहरतगढ़ के एक निजी अस्पताल में इलाज कराया। होश में आने के बाद महिला ने कबूला कि मासूमों को लेकर वह गांव के पूरब पोखरे में डूबकर जान देने गई थी। बच्चे डूब गए। मैं मौत के डर से घबरा गई। इसलिए पोखरे से निकल कर भाग आई। प्रभारी एसओ रामदरस आर्या ने बताया कि पुलिस मौके पर गई थी। किसी की तरफ से कोई तहरीर नहीं मिली है। घटना की जांच हो रही है।

 

 

बालिका को बचाने डूबी महिला जोगिया : कोतवाली क्षेत्र के खेतवल तिवारी गांव के पास शनिवार की शाम करीब चार बजे बूढ़ी राप्ती में एक महिला की डूबने से मौत हो गई है। कुछ दूर पर मौजूद नाविक ने बालिका समेत दो को सुरक्षित बचा लिया। लेकिन तीसरे का कोई अता-पता नहीं चला। पुलिस व तहसील प्रशासन के लोग महिला की तलाश में जुटे हैं। गांव निवासी नौ वर्षीय सीता नदी में नहा रही थी। इसी दौरान वह गहरे पानी में चली गई। उसे डूबता देख किनारे पर बैठी सीता की मां सुमित्रा व दुर्गा नदी में कूद पड़ी। बालिका को बचाने के चक्कर में तीनों डूबने लगी। कुछ दूरी पर नाव में बैठे गांव निवासी युवक ने तीनों को डूबते देखा, तो बचाने पहुंच गया। सीता व सुमित्रा को बचा लिया लेकिन दुर्गा लापता हो गई। घटनास्थल पर एसडीएम सदर समेत सीओ बांसी राजेश कुमार तिवारी, एसओ जोगिया अंजनी कुमार राय आदि मौजूद रहे। एसडीएम सदर उमेश चंद्र निगम ने बताया कि सुरक्षित निकाली गई दोनों खतरे से बाहर हैं। तीसरे की तलाश की जा रही है।

 

 

हत्या का आरोप लगाने वाले पति-पत्नी ने साधी चुप्पी
पुलिस बोली किसी ने भी नहीं दी तहरीर, पूछताछ के बाद केस बंद किया गया

परसा। परसा स्टेशन गांव में पोखरे में डूबकर मौत का शिकार हुए दो बच्चों के मामले में शनिवार को एक-दूसरे पर आरोप लगा रहे पति और पत्नी पक्ष रविवार को अचानक शांत हो गए। पुलिस ने भी सभी से पूछताछ करने के बाद बच्चों की मौत को महज हादसा मानकर जांच ठंडे बस्ते में डाल दी है। सीओ शोहरतगढ़ सुनील सिंह ने बताया कि किसी भी पक्ष ने तहरीर नहीं दी है। शोहरतगढ़ थानाक्षेत्र के परसा स्टेशन गांव निवासी हरिकिशन से विवाद होने के बाद पत्नी सावित्री दो बेटों अखिलेश और अमन को लेकर बृहस्पतिवार शाम घर से निकल गई थी। शुक्रवार सुबह वह एक खेत में बेहोश हालत में पड़ी मिली थी। बाद में परिजनों ने गांव के पास स्थित एक पोखरे से दोनों बच्चों के शव बरामद किए थे। शनिवार को सावित्री के मायके वालों ने हरिकिशन और उसके परिवार वालों पर बेटी की हत्या का प्रयास और नातियों की जान लेने का आरोप लगाया था। इधर हरिकिशन के परिवार वालों ने सावित्री पर बेटों की हत्या का आरोप लगाया था। पुलिस सूत्रों के अनुसार सावित्री ने पूछताछ में कुबूल किया कि पति से लड़ाई होने के बाद वह दोनों बच्चों को लेकर घर से निकल गई थी। पोखरे के पास पैर फिसलने पर वह दोनों बच्चों के साथ उसमें गिर गई और बेहोश हो गई। इसके बाद क्या हुआ उसे पता नहीं। पुलिस ने दोनों बच्चों के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा था। पुलिस अधिकारियों के अनुसार हरिकिशन के परिवार वालों ने बताया कि सावित्री मानसिक रूप से कमजोर है, उसका इलाज कराया जा रहा है। प्रभारी थानाध्यक्ष आरडी आर्या ने बताया कि शनिवार को दोनों पक्ष परसा स्टेशन गांव में मिले और शोहरतगढ़ पुलिस की मौजूदगी में सावित्री को उसके मायके मानपुर भेजने पर सहमत हो गए। दोनों ही पक्ष कार्रवाई नहीं चाहते हैं, शनिवार को पोस्टमार्टम के बाद बच्चों के शव परिजनों के सुपुर्द कर दिए गए।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.