क्राइम्स

बस्ती:गौर पुलिस पर दलित महिलाओं, बच्चों, पुरूषों को मारने पीटने का आरोप, एसपी को दिए ज्ञापन

बस्ती | जनपद के गौर थानान्तर्गत ग्राम बाघा काण्डर (बनरहिया) में जमीन पर जबरिया कब्जे को लेकर टिनिच चौकी इंचार्ज की मौजूदगी में पुलिस कर्मियों द्वारा जमीन को लेकर दलित परिवारों के महिलाओं, बच्चों, बेटियों, पुरूषों को मारने पीटने, मोटर साईकिल, मोबाइल छीन लेने का मामला सामने आया है। बाघा काण्डर बनरहिया निवासिनी कृष्णावती के नेतृत्व में मंगलवार को पीड़ित दलित परिवारों ने पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन देकर न्याय की गुहार लगाया। कृष्णावती ने बताया कि एसपी ने मामले में दोषियों के विरूद्ध कार्रवाई और न्याय दिलाने का आश्वासन दिया है।

 

FB_IMG_1597189111409

 

एसपी को दिये ज्ञापन में कहा गया है कि 11 अगस्त मंगलवार को टिनिच पुलिस चौकी के इंचार्ज और पुलिस कर्मियों द्वारा दलित बिरादरी के पुरूष, महिलाओं को अकारण मारा पीटा गया, मोबाइल एवं रामनरेश की मोटरसाईकिल नम्बर यूपी 51 ए.डी. 8212 को पुलिस के लोगों ने छीन लिया। यही नहीं जाति सूचक शव्दों से गंदी-गंदी गालियां देते हुये बंजर की जमीन गाटा संख्या 147 नवीन परती से हट जाने की धमकी दिया।

 
ज्ञापन में कहा गया है कि पीड़ित जाति के दलित चमार हैं और कई पीढ़ियों से बंजर की जमीन गाटा संख्या 147 नवीन परती का सहन के रूप में प्रयोग करते आ रहे हैं। गांव के ही राजेश निराला, सोमई चौधरी, रामसरन चौधरी पुत्रगण बलदेव चौधरी, धु्रव चौधरी, हृदयराम चौधरी पुत्रगण बनवारी आदि उक्त जमीन पर जबरिया कब्जा कर लेना चाहते हैं। गत 8 अगस्त को राजेश निराला जेसीबी लेकर मौके पर पहुंचे और घूर, गाज को जबरिया हटवाने लगे। कहा कि भाजपा का नेता हूं, सरकार हमारी है, तुम चमारों को इस जमीन पर नहीं रहने दूंगा। घटना की सूचना 112 नम्बर पर देने के बाद मौके पर पुलिस पहुंची और दोनों पक्षों को गौर थाने पर बुलाया। गौर थानाध्यक्ष ने राजेश निराला से जमीन के कागजात मांगे जिसे वे नहीं दिखा सके।

 

इसके बाद दोनों पक्ष घर लौट आये। 11 अगस्त 2020 को दिन में लगभग 11.30 बजे टिनिच पुलिस चौकी के इंचार्ज और पुलिस कर्मियों द्वारा दलित बिरादरी के पुरूष, महिलाओं को अकारण मारा पीटा गया। जाति सूचक शव्दों से गंदी-गंदी गालियां देते हुये बंजर की जमीन गाटा संख्या 147 नवीन परती से हट जाने की धमकी दी गई। पुलिस की लाठियों से कृष्णावती पत्नी राजेन्द्र, श्रीमती निशा पत्नी लालमन, आरती पत्नी सुरेन्द्र, प्रभावती पत्नी रामभारत, सुनरावली पत्नी राममूरत, पुष्पा देवी पत्नी, राम गोविन्द, चन्द्रावती पत्नी रामकिशोर, निर्मला पत्नी रामनरेश के साथ ही अंकित पुत्र राजेन्द्र प्रसाद, मनीष पुत्र रामभारत, सुमित पुत्र रामनरेश, रामशव्द पुत्र बनवारी, राममूरत पुत्र राममिलन आदि को चोटें आयीं। पुलिस वालों ने महिलाओं, बच्चों, बेटियों, पुरूषों को जाति सूचक गालियां देते हुये धमकी दिया कि यह जमीन छोड़ दो वरना अंजाम बहुत बुरा होगा।

 
कृष्णावती ने बताया कि पुलिस के खौफ से गांव के दलित काफी डरे सहमे हुये है। भाजपा नेता राजेश निराला आदि गांव के दबंग किस्म के लोग हैं और पुलिस की मिलीभगत से वे किसी भी घटना को अंजाम दे सकते हैं। ज्ञापन देने वालों में कृष्णावती के साथ पुष्पादेवी, सुनरावती देवी, आरती, निर्मला, प्रभावती, सुरेश कुमार आदि शामिल रहे।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.