ताज़ा ख़बरें

मोदी जी के ‘मन की बात’ को लाखों की संख्या में लोग कर रहे हैं नापसंद,क्या है वजह?

मोदी जी के ‘मन की बात’ को लाखों की संख्या में लोग कर रहे हैं नापसंद,क्या है वजह?

सोशल मीडिया के महारथी कहे जाने वाले मोदी जी के लिए और उनकी पार्टी के लिए ये नया अनुभव है। क्योंकि इससे पहले ‘मन की बात’ या किसी भी बात को लेकर शायद ही कभी लोगों का रवैया इतना नेगेटिव रहा हो ।

नई दिल्ली |मोदी जी के ‘मन की बात’ आम जनता से कितनी दूर है। इसका अंदाजा इस बात से लगाया  जा सकता है कि मन की बात के वीडियो जिस भी यूट्यूब चैनल से डाले गए वहां उसे पसंद से कई गुना नापसंद किया गया। यह वीडियो भारतीय जनता पार्टी, प्रधानमंत्री कार्यालय,पीआईबी इण्डिया और नरेंद्र मोदी के आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर 30 अगस्त को अपलोड किए गए। सभी जगह मन की बात के वीडियो पर लोगों ने पसंद कम किया और नापसंद अधिक किया और कमेंट कर भी सरकार की आलोचना की।

सोशल मीडिया के महारथी कहे जाने वाले मोदी जी के लिए और उनकी पार्टी के लिए ये नया अनुभव है। क्योंकि इससे पहले ‘मन की बात’ या किसी भी बात को लेकर शायद ही कभी लोगों का रवैया इतना नेगेटिव रहा हो।

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का महत्वाकांक्षी कार्यक्रम है ‘मन की बात’, जिसके जरिए वह हर महीने देशवासियों को संबोधित करते हैं और अपने मन की बात साझा करते हैं। रविवार, 30 अगस्त को यह उनका 68वां कार्यक्रम था। ये कार्यक्रम आकाशवाणी और दूरदर्शन के समूचे नेटवर्क पर प्रसारित किया जाता है। इसके साथ ही यह अन्य सोशल मीडिया के माध्यम से भी प्रसारित किया जाता है। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 26 जुलाई को मन की बात कार्यक्रम के जरिए लोगों को संबोधित किया था।

BJP के यूट्यूब चैनल पर इस वीडियो को आज सोमवार, दोपहर, ख़बर लिखे जाने तक 1 .6 मिलियन लोगों ने यानी 16 लाख लोगों ने देखा है और इसे मात्र 66 हज़ार लोगों ने पसंद किया है, जबकि 4 लाख 55 हज़ार लोगों ने इस नापसंद किया है।

https://www.youtube.com/c/NarendraModi

नरेंद्र मोदी नाम के यूट्यूब चैनल में वीडियो को 8 लाख से अधिक लोगों ने देखा परन्तु पसंद केवल 45 हज़ार लोगों ने किया, जबकि एक लाख से अधिक लोगों ने नापसन्द किया है। 

PMO इंडिया पर इस वीडियो को भी 8 लाख से अधिक लोगों ने देखा, लेकिन मात्र 37 हज़ार लोगों ने इसे पसंद किया जबकि 71 हज़ार ने यहां भी इसे नापसन्द किया।

इसके साथ ही पीआईबी इण्डिया के चैनल पर भी मन की बात का हश्र ऐसा ही हुआ। वहां भी मात्र 4 हज़ार लोगों ने इस वीडियो को पसंद किया जबकि 10 हज़ार से अधिक लोगों ने इसे नापसन्द किया। इन आकड़ों में लगातार बदलाव हो रहा है।

हाल के सालों में पहला मौका है जब प्रधानमंत्री की सोशल मीडिया पर इतनी किरकिरी हुई और उनका आईटी सेल भी उन्हें इससे बचा न पाया हो। ये सर्वविदित है कि नरेंद्र मोदी और बीजेपी का आईटी सेल कितना बड़ा है और तेज़ भी, लेकिन इसबार ऐसा लग रहा है मोदी जी को अकेला छोड़ वो भी छुट्टी पर चला गया है। क्योंकि हमने वीडियो के कमेंट सेक्शन में जाकर सैकड़ों कमेंट पढ़े लेकिन कोई भी सरकार या मोदी जी का पक्ष लेता हुए नहीं दिखा। तो अब सवाल उठता है कि क्या इस कोरोना और बेरोज़गारी के काल में सरकार की गलत नीतियों ने लोगों के संयम को तोड़ दिया है? हालांकि मोदी जी अपने ‘मन की बात’ में लोगों के संयम की तारीफ़ की थी। परन्तु जिस तरह की प्रतिक्रिया आई है उससे लग रहा है लोग मोदी जी के ‘भाषण ही मेरा शासन’ की थ्योरी से परेशान हो चुके हैं और अब वो रोजगार,शिक्षा और अर्थव्यवस्था पर कुछ ठोस चाहते हैं, जो मोदी सरकार उन्हें नहीं दे पा रही है।

लेकिन इसबार उन्होंने ऐसा क्या कहा, जिसे इस क़दर नापसंद किया गया? यह जानने-समझने के लिए हमने पूरा वीडियो देखा-सुना और नीचे के सैकड़ों कमेंट पढ़े। पीएम ने इस बार ओणम त्योहार की बात की और भारतीय उद्यमियों को खिलौनों के कारोबार में संभावनाएं तलाशने का सुझाव भी दिया। उन्होंने कहा, “ग्लोबल टॉय इंडस्ट्री 7 लाख करोड़ रुपये से भी अधिक की है लेकिन इतने बड़े कारोबार में भारत की हिस्सेदारी बहुत कम है। “

मोदी जी ने डिवेलपर्स को भारत में कंप्यूटर गेम्स बनाने का भी आग्रह किया उन्होंने कहा, ” अब सभी के लिए लोकल खिलौनों के लिए वोकल होने का वक़्त आ गया है।”

इसके साथ ही उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि वो देसी नस्ल के कुत्तों को पालें, आर्मी में भी देसी नस्ल के कुत्तों को पालने पर ज़ोर दिया, आने वाले शिक्षक दिवस का ज़िक्र किया, सितंबर को पोषण माह बनाने की घोषणा की। परन्तु उन्होंने अपने पूरे एक तरफ़ा भाषण में कहीं भी देश के सबसे ज्वलंत मुद्दे बेरोजगारी, डूबती अर्थव्यवस्था या फिर बढ़ते कोरोना के मामले के बीच NEET और JEE की परीक्षा के आयोजन पर कुछ भी नहीं कहा। इसी बात को लेकर अधिकतर लोगों में भारी गुस्सा दिखा। सबसे अधिक लोग सरकार द्वारा इस महामारी के बीच परीक्षा के आयोजन कराने के निर्णय के ख़िलाफ़ दिखे।

इसके अलावा ट्विटर पर भी हैशटैग ‘स्टूडंट्स डिस्लाइक पीएम मोदी अभियान चल रहा है सोमवार दोपहर तक इस हैशटैग के साथ करीब 2,79,000 ट्वीट किए जा चुके थे। अधिकतर ट्वीट में लोग ‘नीट’ को स्थगित करने की मांग कर रहे हैं।

‘नीट’ भारत में चिकित्सा और दंत-चिकित्सा के कॉलेजों में दाखिला लेने की एक सेंट्रल परीक्षा है, जिसे नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा आयोजित किया जाता है। इस साल ये परीक्षा 13 सितंबर को होनी है। हालांकि इसका भारी विरोध हो रहा है परन्तु सरकार ने दलील दी कि परीक्षा स्थगित नहीं होनी चाहिए क्योंकि सभी प्रत्याशी महीनों से तैयारी कर रहे हैं और परीक्षा के स्थगित होने से उनका पूरा एक साल बर्बाद हो जाएगा। लेकिन कोरोना के बढ़ते प्रकोप में सरकार के नाकाफ़ी इंतज़ाम और दलीलों से छात्रों का गुस्सा और ज़्यादा बढ़ रहा है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.