ताज़ा ख़बरें

बस्ती:जिला कृषि अधिकारी की कार्यप्रणाली से नाराज 45 सहकारी सचिवों ने दिया इस्तीफा

बस्ती |जिला कृषि अधिकारी बस्ती की कार्यप्रणाली से नाराज 45 सहकारी सचिवों ने गुरुवार को सहायक आयुक्त एवं निबंधक कार्यालय पहुंचकर सामूहिक इस्तीफा सौंप कर विरोध जताया।

उप्र संयुक्त सहकारी समिति कर्मचारी संघ के अध्यक्ष अयोध्या प्रसाद पांडेय के नेतृत्व में पहुंचे सचिवों का कहना था कि जिला कृषि अधिकारी संजेश कुमार श्रीवास्तव ने डीएम को भ्रम में रखकर भारत सरकार के निर्धारित उर्वरक वितरण के मानकों को छिपा लिया है और समिति के सचिवों के खिलाफ मुकदमा करा दिया गया है। उत्पीड़न व मनमानी का आरोप लगाते हुए बताया कि सचिवों पर दर्ज किए गए मुकदमे वापस लेने के बाद ही जनपद के सचिव त्यागपत्र वापस लेंगे।

इन्होंने दिया इस्तीफा

त्यागपत्र देने वालों में दिनेश कुमार उपाध्याय, रामशरन, विजय भान पांडेय, विजयानंद द्विवेदी, प्रभात कुमार, अश्विनी पांडेय, कुलदीप शुक्ल, सुरजीत कुमार, अतुल सिंह, रणविजय सिंह, राममणि उपाध्याय, सुनील सिंह, विचित्रमणि वर्मा, राजकुमार दुबे, सत्यव्रत, वीरेंद्र कुमार वर्मा, वीरबहादुर सिंह, केदारनाथ, श्यामनारायण वर्मा, पारसनाथ सिंह, महेश प्रकाश, रामकदम वर्मा, चंद्रशेखर चौधरी, कृष्णप्रताप सिंह, चंद्रशेखर उपाध्याय, सुभाष सिंह, प्रदीप कुमार, श्यामपति यादव, रामसुमेर चौधरी, कृष्णप्रताप सिंह, रामजी लाल श्रीवास्तव, परमानंद यादव, विपिन कुमार, ओमप्रकाश सिंह, राजेश कुमार चौधरी व नंद किशोर यादव के साथ ही विभिन्न सहकारी समितियों पर तैनात सचिव शामिल हैं।

संबंधित समितियों पर जांच के दौरान यूरिया की कालाबाजारी पकड़ी गई थी। जिलाधिकारी के निर्देशानुसार सभी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए तहरीर दी गई है। विभागीय कार्रवाई भी की जा रही है।

संजेश कुमार श्रीवास्तव, जिला कृषि अधिकारी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.